BREAKING NEWS

CAB के खिलाफ जामिया के छात्रों ने किया उग्र प्रदर्शन, पुलिस ने दागे आंसू गैस के गोले◾राहुल के 'रेप इन इंडिया' वाले बयान को लेकर कांग्रेस ने मोदी सरकार पर जनता का ध्यान भटकाने का लगाया आरोप◾निर्भया के दोषियों पर फैसला 18 दिसंबर को : कोर्ट ◾गुवाहाटी में मोदी और शिंजो आबे के बीच होनी वाली शिखर वार्ता हुई स्थगित◾लोकसभा में बोले राजनाथ सिंह- राहुल गांधी को सांसद होने का नैतिक अधिकार नहीं◾'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर बोले राहुल-कभी माफी नहीं मांगने वाला◾राहुल गांधी के 'रेप इन इंडिया' वाले बयान पर लोकसभा में हंगामा, महिला सांसदों ने की माफी की मांग ◾निर्भया गैंगरेप : पटियाला हाउस कोर्ट में टली सुनवाई, पीड़िता की मां ने आरोपी की पुनर्विचार याचिका का किया विरोध ◾आम चुनावों में प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन को मिला बहुमत, PM मोदी और राष्ट्रपति ट्रंप ने दी बधाई◾तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा ने नागरिकता संशोधन कानून को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती ◾संसद हमले की 18वीं बरसी आज, पार्लियामेंट के बाहर PM मोदी समेत कई सांसदों ने दी श्रद्धांजलि◾नागरिकता संशोधन विधेयक: भारत की यात्रा रद्द कर सकते हैं जापान के PM शिंजो आबे◾पिछले तीन साल में उच्चतम स्तर पर महंगाई, लेकिन प्रधानमंत्री मौन : प्रियंका गांधी◾नागरिकता संशोधन विधेयक: डिब्रूगढ़ में कर्फ्यू में ढील, गुवाहाटी में प्रदर्शनकारी कर रहे हैं अनशन◾निर्भया गैंगरेप : चारों आरोपियों की जल्दी फांसी की मांग को लेकर पटियाला हाउस कोर्ट में आज होगी सुनवाई◾केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री हर्षवर्धन का जन्मदिन आज, PM मोदी ने दी बधाई◾CAB : अमेरिका ने भारत से धार्मिक अल्पसंख्यकों के अधिकारों की रक्षा करने का किया अनुरोध◾झारखंड विधानसभा चुनाव : झरिया में देवरानी-जेठानी के बीच दिलचस्प मुकाबला◾किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए सरकार ने बनाया रोडमैप : कृषि मंत्री ◾उत्तर भारत में बर्फबारी के बाद बढ़ी ठंड, दिल्ली में भी हुई बारिश ◾

अन्य राज्य

मध्यप्रदेश सरकार ने अतिवृष्टि एवं बाढ़ राहत को लेकर केन्द्र पर लगाया भेदभाव करने का आरोप

 4

मध्यप्रदेश की कांग्रेस सरकार ने अतिवृष्टि एवं बाढ़ राहत में भेदभाव का आरोप केन्द्र सरकार पर लगाते हुए कहा कि भाजपा-नीत सरकार ने इसी प्रयोजन के लिये कर्नाटक और बिहार को सहायता राशि प्रदान की है लेकिन मध्यप्रदेश को कुछ भी नहीं मिला जबकि केन्द्रीय दल दो बार राज्य का दौरा कर नुकसान का आकलन कर चुका है और राज्य सरकार भी कई बार आग्रह कर चुकी है।

मंत्री परिषद की बैठक के बाद प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने गुरुवार शाम संवाददाताओं को बताया, ‘‘ मुख्यमंत्री कमलनाथ ने अक्टूबर की शुरुआत में ही प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मुलाकात कर उन्हें प्रदेश में अति-वृष्टि और बाढ़ से हुए नुकसान की पूरी जानकारी दी और इसे गंभीर आपदा की श्रेaणी में रखने की माँग की थी।’’

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह से भी मुलाकात कर उन्हें शीघ्र राहत राशि जारी करने का अनुरोध किया था। मध्यप्रदेश के मुख्य सचिव ने भी इस संबंध में केन्द्रीय गृह सचिव से मुलाकात की थी। केन्द्र का दल दो बार प्रभावित क्षेत्रों का दौरा कर चुका है। केन्द्र सरकार की आईएमसीटी प्रदेश के 21 जिलों में दौरा कर अति-वृष्टि से हुई तबाही देख चुकी है। इसके बावजूद अभी तक भारत सरकार ने मध्यप्रदेश को कोई सहायता राशि प्रदान नहीं की है। 

उन्होंने कहा कि दूसरी ओर केन्द्र सरकार ने कर्नाटक और बिहार को इसी प्रयोजन के लिये सहायता राशि दी है।

शर्मा ने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार ने अति वृष्टि और बाढ़ प्रभावितों के प्रति मानवीय संवेदनाओं का परिचय देते हुए केन्द्र सरकार की सहायता का इंतजार किये बिना अपने सीमित संसाधनों से त्वरित कार्यवाही की। प्रभावित परिवारों की हर संभव मदद कर रही है। राज्य सरकार ने अब तक प्रभावित परिवारों को लगभग 200 करोड़ रुपये सहायता राशि दी है। इसमें फसलों के नुकसान की भरपाई के लिए दी गई राशि शामिल नहीं है।

उन्होंने बताया कि अति-वृष्टि से सबसे अधिक प्रभावित मंदसौर, आगर और नीमच जिलों में फसल क्षति के लिये भी राज्य सरकार ने राशि का वितरण प्रारंभ कर दिया है। इन जिलों में अभी तक फसल राहत मद में 270 करोड़ रुपये की सहायता दी जा चुकी है। सरकार ने सभी जिलों में सर्वे का काम पूरा कर लिया है।

उल्लेखनीय है कि प्रदेश में अति-वृष्टि से लगभग 55 लाख किसानों की 60 लाख हेक्टेयर फसल खराब हो गई है। साथ ही प्रदेश की 11,000 किलोमीटर सड़कें भी खराब हुई हैं। लगभग सवा लाख मकानों को भी नुकसान पहुँचा है। भारी बारिश के दौरान राज्य सरकार ने सभी एजेंसियों की मदद से लगभग 75,000 लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया।

उन्होंने बताया कि इस प्राकृतिक आपदा में लोगों को जल्दी राहत दिलाने के लिये प्रदेश सरकार ने भारत सरकार को एनडीआरएफ से 6,621.28 करोड़ रुपये की सहायता के लिये एक अक्टूबर को ही अनुरोध किया था।