BREAKING NEWS

कोविड-19 ओमीक्रोन स्वरूप से उठी संक्रमण की लहर को लेकर चिंतित दक्षिण अफ्रीका के वैज्ञानिक◾साउथ अफ्रीका से कर्नाटक आए 2 लोग कोरोना पॉजिटिव, राज्य में मचा हड़कंप◾WHO ने ओमिक्रॉन कोविड वैरिएंट को लेकर सभी देशों को सतर्क रहने को कहा◾भारत ड्रोन का इस्तेमाल वैक्सीन पहुंचाने के लिए करता है, केंद्रीय मंत्री ने साधा पाकिस्तान पर निशाना ◾सोमवार से दिल्ली में फिर खुलेंगे स्कूल, उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने दी जानकारी◾UP: प्रतिज्ञा रैली में BJP पर जमकर गरजी प्रियंका, बोली- 'इनका काम केवल झूठा प्रचार करना'◾राजनाथ ने मायावती और अखिलेश पर तंज कसते हुए कहा- उप्र को न बुआ और न बबुआ चाहिए, सिर्फ बाबा चाहिए◾कांग्रेस नेता आजाद ने केंद्र पर साधा निशाना, कहा- केंद्र शासित प्रदेश बनने से DGP को थानेदार और सीएम को MLA... ◾ट्रेक्टर मार्च रद्द करने के बाद इन मुद्दों पर अड़ा संयुक्त किसान मोर्चा, कहा - विरोध जारी रहेगा ◾ओमिक्रोन कोरोना का डर! PM मोदी बोले- अंतरराष्ट्रीय उड़ानें शुरू करने के फैसले की फिर हो समीक्षा◾अक्षर और अश्विन की फिरकी के जाल में फंसा न्यूजीलैंड, पहली पारी में 296 रनों पर सिमटी कीवी टीम ◾'जिहाद यूनिवर्सिटी': पाकिस्तान का वो मदरसा जिसके पास है अफगानिस्तान में काबिज तालिबान की डोर◾अखिलेश यादव ने किए कई चुनावी ऐलान, बोले- अब जनता BJP का कर देगी सफाया ◾संसद में बिल पेश होने से पहले किसानों का बड़ा फैसला, स्थगित किया गया ट्रैक्टर मार्च◾दक्षिण अफ्रीका में बढ़ते नए कोरोना वेरिएंट के मामलों के बीच पीएम मोदी ने की बैठक, ये अधिकारी हुए शमिल ◾कोरोना के नए वैरिएंट को राहुल ने बताया 'गंभीर' खतरा, कहा-टीकाकरण के लिए गंभीर हो सरकार◾बेंगलुरू से पटना जा रहे विमान की नागपुर एयरपोर्ट पर इमरजेंसी लैंडिंग, 139 यात्री और क्रू मेंबर थे सवार ◾कृषि कानूनों को रद्द करने की घोषणा के बाद आंदोलन का कोई औचित्य नहीं : नरेंद्र सिंह तोमर ◾NEET PG काउंसलिंग में देरी को लेकर रेजिडेंट डॉक्टर्स की हड़ताल, दिल्ली में ठप पड़ी 3 अस्पतालों की OPD सेवांए◾नवाब मलिक ने किया दावा, बोले- अनिल देशमुख की तरह मुझे भी फंसाना चाहते हैं कुछ लोग◾

मध्य प्रदेश : झाबुआ उपचुनाव कमलनाथ बनाम शिवराज !

मध्य प्रदेश के झाबुआ विधानसभा सीट का उपचुनाव की तारीख करीब आते-आते दो दिग्गजों के बीच आकर ठहर गया है। यह चुनाव वैसे तो कांग्रेस के कांतिलाल भूरिया और भाजपा के भानु भूरिया के बीच है, मगर वास्तव में यह चुनाव मुख्यमंत्री कमलनाथ बनाम शिवराज सिंह चौहान के बीच बनकर रह गया है। झाबुआ में सोमवार को मतदान होना है। यहां से भाजपा के जी. एस. डामोर विधानसभा का चुनाव जीते थे, बाद में सांसद निर्वाचित होने के बाद उन्होंने यह सीट छोड़ दी, जिसके कारण यहां उपचुनाव हो रहा है। इस उपचुनाव में दोनों दलों ने जीत के लिए जोर लगाने में कोई कसर नहीं छोड़ी है। रविवार शाम तक चुनाव प्रचार जोरों पर चला। 

चुनाव प्रचार में भाजपा ने जहां शिवराज सिंह चौहान के चेहरे को बतौर पूर्ववर्ती सरकार के 15 साल के कामकाज को सामने रखा, वहीं दूसरी ओर कांग्रेस ने कमलनाथ सरकार के 10 माह के कार्यकाल के फैसलों को गिनाया। इतना ही नहीं, कांग्रेस ने भाजपा पर 15 साल के शासन को लेकर हमला किया तो भाजपा ने 10 माह को सियासी हथियार बनाया। मुख्यमंत्री कमलनाथ ने भी चुनाव प्रचार के अंतिम दिन कहा कि उपचुनाव में तो सिर्फ उम्मीदवार के तौर पर ही है कांतिलाल भूरिया। उन्होंने कहा, "झाबुआ में नाम के वास्ते तो भूरिया चुनाव मैदान में हैं और काम के वास्ते कमलनाथ चुनाव लड़ रहे हैं।" 

दूसरी ओर भाजपा के तमाम नेताओं ने इस चुनाव को शिवराज सिंह चौहान से जोड़ा। नेताओं ने यहां तक कह दिया कि इस चुनाव में जीत मिली तो राज्य में मुख्यमंत्री तक बदल सकता है। शिवराज ने राज्य की कमलनाथ सरकार के 10 माह के कार्यकाल को असफल करार दिया। उन्होंने कहा, "चुनाव से पहले तरह-तरह के वादे किए, किसान कर्जमाफी की बात की, मकान बनाकर देने, बेटियों को शादी में 51 हजार रुपये देने के वादे किए। इनमें से एक भी पूरा नहीं हुआ। इस चुनाव में कांग्रेस को हराकर हिसाब बराबर करने का मौका है।" 

भारतीय सेना ने PoK में तबाह किए आतंकी कैंप, 5 पाकिस्तानी सैनिक ढेर

वैसे दोनों दलों ने इस चुनाव को गंभीरता से लड़ा है। कांग्रेस और भाजपा ने प्रचार के लिए नेताओं की फौज उतारने में कसर नहीं छोड़ी। दोनों ओर से अपनी सरकारों के काम गिनाए गए तो दूसरी ओर खामियां गिनाकर हमले किए गए। यह चुनाव आने वाले समय की राज्य की सियासत के हिसाब से ज्यादा मायने रखता है, क्योंकि सरकार पूर्ण बहुमत वाली नहीं है। वहीं समर्थन दे रहे कई विधायक सरकार को परोक्ष रूप से धमकाते भी रहते हैं। 

राज्य की 230 सदस्यीय विधानसभा में कांग्रेस के 114 विधायक हैं और भाजपा के 108 विधायक। यही कारण है कि भाजपा इस विधानसभा उपचुनाव को जीतकर वर्तमान सरकार के सामने संकट खड़ा करने की तैयारी कर सकती है। वहीं कांग्रेस का प्रयास है कि भाजपा से इस सीट को छीनकर वह अपनी सरकार के कामकाज पर जनता की मुहर लगवा सकती है।