BREAKING NEWS

दिल्ली में निशुल्क यात्रा की योजना लागू होने के बाद से महिला यात्रियों की हिस्सेदारी 10 फीसदी बढ़ी ◾तीसहजारी कांड : दिल्ली पुलिस ने अदालत में दाखिल की प्रगति रिपोर्ट, SIT जांच में मांगा सहयोग◾लोकसभा से चिट फंड संशोधन विधेयक 2019 को मंजूरी◾महाराष्ट्र की राजनीतिक तस्वीर साफ हुई, जल्द बन सकती है शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस की सरकार ◾मंत्रिमंडल ने 1.2 लाख टन प्याज आयात की मंजूरी दी : सीतारमण◾NC, PDP ने कश्मीर में सामान्य हालात बताने पर केंद्र की आलोचना की◾पृथ्वी-2 मिसाइल का रात के समय सफलतापूर्वक परीक्षण ◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर जल्द मिलेगी गुड न्यूज : राउत ◾सकारात्मक चर्चा हुई, जल्द सरकार बनेगी : चव्हाण◾'हिटलर की बहन' वाले बयान पर बेदी का मुख्यमंत्री पर पलटवार◾यशवंत सिन्हा ने 22 से 25 नवंबर तक कश्मीर यात्रा की घोषणा की ◾TOP 20 NEWS 20 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कांग्रेस ने भाजपा-जजपा गठबंधन पर साधा निशाना, कहा- ज्यादा दिन तक नहीं चलेगी सरकार ◾INX मीडिया मामला : चिदंबरम की जमानत याचिका पर SC का ED को नोटिस ◾राज्यसभा में सीट बदले जाने पर भड़के संजय राउत, स्पीकर वेंकैया नायडू को लिखा पत्र ◾CM ममता का अमित शाह पर पलटवार, कहा- बंगाल में एनआरसी को नहीं लागू होने देंगे◾पूरे देश में लागू होगा NRC, किसी को भी डरने की जरूरत नहीं : अमित शाह◾ महाराष्ट्र में जारी सियासी घमासान के बीच NCP प्रमुख शरद पवार ने PM मोदी से की मुलाकात◾राज्यसभा में बोले शाह- जम्मू एवं कश्मीर में 5 अगस्त के बाद से नहीं हुई एक भी मौत ◾कांग्रेस ने राज्यसभा में फिर उठाया SPG सुरक्षा का मुद्दा, भाजपा ने दिया ये जवाब◾

अन्य राज्य

मद्रास HC ने कार्ति का मामला विशेष अदालत स्थानांतरित करने के आदेश की प्रति मांगी

मद्रास हाई कोर्ट ने अभियोजन को कार्ति चिदंबरम के खिलाफ मुकदमा सांसद और विधायकों के मामलों की सुनवाई करने वाली विशेष अदालत को स्थानांतरित करने के निचली अदालत के आदेश की प्रति पेश करने का निर्देश दिया है। न्यायमूर्ति पी डी औडिकेसावालू ने अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट कोर्ट, एगमोर के सामने लंबित कार्ति और उनकी पत्नी श्रीनिधि के खिलाफ आयकर विभाग द्वारा शुरू आपराधिक मामला विशेष अदालत को स्थानांतरित करने के खिलाफ याचिका पर सुनवाई करते हुए सोमवार को यह निर्देश दिया। 

इसके बाद न्यायाधीश ने मामले की सुनवाई एक सप्ताह बाद के लिए मुकर्रर की। सुनवाई के लिए मामला आने पर हाई कोर्ट के रजिस्ट्रार जनरल की ओर से दायर जवाबी हलफनामे में मामला स्थानांतरित करने को उचित ठहराया गया। रजिस्ट्रार जनरल ने अपने जवाब में कहा कि ये मामले सुप्रीम कोर्ट के 12 सितंबर, 201 के आदेशों के अनुरूप स्थानांतरित किए गए हैं। 

उन्होने कहा कि याचिकाकर्ताओं द्वारा कथित रूप से किए गए अपराध आय कर कानून की धारा 279ए के तहत वर्गीकृत किया गया है। उन्होंने कहा कि याचिकाकर्ता पर जिन धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं उनके लिए एक ऐसी अवधि के लिए जेल का प्रावधान है, जो छह महीने से कम नहीं होगी और जिसे सात साल तक बढ़ाया जा सकता है। इसके अलावा उन पर जुर्माना भी किया जा सकता है। 

जवाबी हलफनामे में आगे कहा गया कि अतिरिक्त मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट के काडर की अदालत को आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ की कोर्ट का आय कर कानून के उल्लंघन से संबंधित मुकदमो की सुनवाई का विशेष अधिकार नहीं है। इसमें कहा गया कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा जारी निर्देश के आलोक में विशेष अदालत को मामला स्थानांतरित किए जाने में कोई कानूनी विसंगति नहीं है जैसा कि याचिकाकर्ताओं ने दलील दी है। 

कार्ति की ओर से पेश वरिष्ठ वकील एआरएल सुंदरेसन ने कहा कि उन्हें केवल रजिस्ट्रार जनरल के परिपत्र की प्रति दी गयी, लेकिन मामला विशेष कोर्ट स्थानांतरित करने के लिए संबंधित मजिस्ट्रेट द्वारा दिए गए आदेश की प्रति नहीं दी गयी।