BREAKING NEWS

यूपी के गाजीपुर में हैवानियत! प्रेमी जोड़े को गांव के प्रधान ने दी क्रूर सजा, जमकर की पिटाई , फिर चटवाया धूक◾पाकिस्तान से निकले तालिबान ने कर दी, 17 पाकिस्तानी सैनिकों का सिर कलम ◾हिमाचल विश्वविद्यालय में मचा बवाल, लेफ्ट-राइट फिर आमने-सामने, पुलिस ने डाला डेरा ◾केजरीवाल ने MCD में फेरी झाड़ू, CM बोले- दिल्ली को बदलने के लिए PM मोदी के आशीर्वाद की जरूरत ◾Bihar News: एक मुस्लिम और दूसरा हिन्दू बेटा, मां के अंतिम संस्कार को लेकर भाई के बीच हुआ विवाद ◾खुद को पैगम्बर बताने वाले बेटमैन की 20 नाबालिग पत्नियां, बेटी के साथ भी की शादी◾पंजाब: पॉपुलर गायक बब्बू मान से मानसा में पूछताछ हो रही, मारने की मिली थी धमकी, जानें पूरा मामला ◾MCD Election Result: क्या गुजरात-हिमाचल में भी पलटेगी बाजी? दिल्ली में Exit Polls क्यों हुए फेल◾MCD Results: दिल्ली में बड़ा चेहरा न होने से फंसी भाजपा, केजरीवाल के इलाके में किसने मारी बाजी, यहां देखे ◾Kanpur News: BJP नेता को घसीटकर MCD के दफ्तर से बाहर फेंका, जानें पूरा मामला◾राजधानी में 'मेयर' भी केजरीवाल का! जश्न में जुटी 'AAP' पार्टी ने दी BJP को चुनौती- अब बनाकर दिखाओ◾लगेगा ट्रैफिक जाम की समस्या पर लगाम, दिल्ली-गुरुग्राम सीमा पर बनेगी 6 लेन वाली टनल, जानें इसके फायदे ◾MCD ELECTION 2022 : आप ने दर्ज की जीत, भाजपा प्रवक्ता ने CM केजरीवाल के दावे को याद दिलाया ◾Delhi MCD Results: राजधानी में नही चला 'मोदी मंत्र', केजरीवाल की 'झाड़ू' ने 'कमल' को किया साफ◾केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे का विवादित बयान, कहा-‘नीतीश कुमार नपुंसकता के शिकार हो गए हैं…’◾ कांग्रेस ने 'BSP' बन किया खेल खराब, पहले से ज्यादा वोट पाकर भी AAP से क्यों पिछड़ी BJP◾MCD में भाजपा शासन का अंत, AAP ने लहराया परचम, CM केजरीवाल का रिएक्शन- अब नए युग की शुरूआत◾ दोस्तों ने युवती को उठाकर तीसरी मंज़िल से नीचे फेंका, PRANK VIDEO VIRAL◾इमरान खान की पूर्व पत्नी रेहम खान का ट्वीट- दिल गलती कर बैठा है... अब बोल तुम्‍हारा क्‍या होगा?◾क्या सत्येंद्र जैन की वजह से AAP को हुआ नुकसान? शकूर बस्ती के सभी वार्डों पर भाजपा का जलवा, दर्ज की जीत ◾

महाराष्ट्र विधानसभा ने बीएमसी वार्डों की संख्या बढ़ाने के पूर्ववर्ती फैसले को पलटने वाले एक विधेयक को दी मंजूरी

महाराष्ट्र विधानसभा ने पूर्ववर्ती महा विकास आघाडी सरकार द्वारा बृह्नमुंबई महानगरपालिका (बीएमसी) के वार्डों की संख्या 227 से बढ़ाकर 236 करने के फैसले को पलटने के प्रावधान वाले एक विधेयक को बुधवार को मंजूरी दे दी।पूर्ववर्ती सरकार के फैसले को पलटने के लिए लाए गए विधेयक का कांग्रेस और समाजवादी पार्टी (सपा) ने समर्थन किया। उल्लेखनीय है कि बीएमसी के चुनाव लंबित हैं।राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और उद्धव ठाकरे नीत शिवसेना ने इस संशोधन विधेयक का विरोध किया और रेखांकित किया कि उच्चतम न्यायालय ने यथास्थिति बरकरार रखने का फैसला दिया है।

हालांकि, उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने स्पष्ट किया कि शीर्ष अदालत ने अन्य मामले में निर्देश दिया है जो अन्य पिछड़ा वर्ग (ओबीसी) के आरक्षण से संबंधित है।उन्होंने कहा, ‘‘हमारा अध्यादेश वार्ड की संख्या 236 से वापस 227 करने के लिए है। इसमें कोई कानूनी बाधा नहीं है।’’शिवसेना विधायक आदित्य ठाकरे ने कहा कि यह विधेयक इस सरकार की तरह ही ‘‘असंवैधानिक’’ है।वहीं, मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे ने कहा, ‘‘लोकतंत्र में संख्या बल महत्वपूर्ण होता है। हमारे पास बहुमत है। हमने असंवैधानिक कार्य नहीं किया है।’’

एक खास पार्टी के लिए किया गया था यह फैसला 

शिंदे ने विधायक सदा सरवंकर की इस मांग को भी स्वीकार कर लिया कि पूर्ववर्ती सरकार द्वारा वार्डों की संख्या बढ़ाने के फैसले की जांच भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो (एसीबी) से कराई जाए।मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्ववर्ती उद्धव ठाकरे नीत सरकार में वह शहरी विकास मंत्री थे, लेकिन नीति निर्माण हमेशा सामूहिक फैसले से होता है।कांग्रेस के विधायक अमीन पटेल ने कहा कि वार्डों का परिसीमन ‘‘एक खास पार्टी को लाभ पहुंचाने’’ के लिए किया गया था और यह मुंबई के नागरिकों के हित में नहीं था।

समाजवादी पार्टी के रईस शेख ने कहा कि वार्ड का परिसीमन ‘‘एक खास पार्टी’’ की मदद करने के लिए चालाकी से किया गया। उन्होंने दावा किया कि यह दूसरी पार्टी के पार्षदों को निशाना बनाने के लिए किया गया, जो वर्षों से उन क्षेत्रों में काम कर रहे थे। शेख ने आरोप लगाया कि दूसरी पार्टियों के प्रतिनिधित्व वाले वार्डों को विभाजित कर दिया गया।हालांकि, पटेल और शेख ने किसी पार्टी का नाम नहीं लिया।

भाजपा के अमित सतनाम ने कहा कि वर्ष 2011 की जनगणना के मुताबिक आबादी में 3.87 प्रतिशत की वृद्धि हुई और चूंकि यह मामूली वृद्धि थी इसलिए वार्ड की संख्या 2017 में नहीं बढ़ाई गई। उन्होंने दावा किया ‘‘लेकिन पूर्ववर्ती सरकार ने नौ वार्ड बढ़ा दिए जो गैर कानूनी है।’’