BREAKING NEWS

कार्तिकेय सिंह के अरेस्ट वारंट पर बोले CM नीतीश, मुझे मामले की जानकारी नहीं◾Mann Ki Baat :PM मोदी ने 'मन की बात' की 28वीं कड़ी के लिए मांगे सुझाव, 28 अगस्त को होगा प्रसारण◾दलित छात्र की मौत को लेकर पायलट ने अपनी ही सरकार को दी नसीहत, BJP ने पूर्व उपमुख्यमंत्री का किया समर्थन◾बिलकिस बानो केस के दोषियों की रिहाई को लेकर राहुल का तंज, कहा-PM की कथनी और करनी को देख रहा है देश◾Yamuna Water Level : दिल्ली में यमुना नदी का जल स्तर एक बार फिर खतरे के पार पहुंचा◾Assembly Elections : मुख्यमंत्री अशोक गहलोत का आज से गुजरात दौरा, चुनावी तैयारियों की करेंगे समीक्षा◾Central University Admission : CUET-ग्रेजुएट का चौथा चरण आज से शुरू हो गया ◾संगीत सोम का मंच से धमकी भरा बयान, कहा-'मैं अभी गया नहीं, अब भी 100 विधायकों के बराबर हूं'◾बीजेपी के निशाने पर कांग्रेस, सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए आतंकवाद, भ्रष्टाचार और परिवारवाद का लगाया आरोप ◾एक्सप्रेस ट्रेन और मालगाड़ी में जोरदार टक्कर,चार पहिए पटरी से उतरे, मची अफरा-तफरी ◾महाराष्ट्र : आज से शुरू होगा विधानसभा का मानसून सत्र, पहली बार विपक्ष में बैठेंगे आदित्य ठाकरे◾Coronavirus : 24 घंटे में दर्ज हुए 9 हजार केस, 2.49% रहा डेली पॉजिटिविटी रेट◾Jammu Kashmir: सुरक्षाबलों पर ग्रेनेड फेंक फरार हुए आतंकी, सर्च अभियान में हथियार-गोलाबारूद बरामद◾मुश्किलों में फंस सकते है कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, सीबीआई कसेगी शिकंजा ◾आज का राशिफल (17 अगस्त 2022)◾बिहार में मिशन 35 प्लस के लक्ष्य के साथ नीतीश-तेजस्वी सरकार के खिलाफ मैदान में उतरेगी भाजपा◾PM मोदी और मैक्रों ने भू-राजनीतिक चुनौतियों, असैन्य परमाणु ऊर्जा सहयोग पर चर्चा की◾अपने अंतिम दिनों में, ठाकरे सरकार ने जल्दबाजी में लिए फैसले : CM शिंदे◾ चीनी पोत पहुंचा श्रीलंका हम्बनटोटा बंदरगाह , भारत ने जताई जासूसी की आशंका◾चीनी ‘जासूसी पोत’ पहुंचा श्रीलंकाई बंदरगाह , बीजिंग बोला-जहाज किसी के सुरक्षा हितों के लिए खतरा नहीं◾

Maharashtra Crisis: बंबई HC ने शिवसेना के बागी विधायकों के खिलाफ याचिका को बताया ‘राजनीति से प्रेरित’

बंबई हाई कोर्ट ने शिवसेना के बागी नेता एकनाथ शिंदे और पार्टी के अन्य असंतुष्ट विधायकों के खिलाफ कार्रवाई करने की मांग करते हुए सात नागरिकों द्वारा दायर जनहित याचिका को गुरुवार को ‘‘राजनीतिक रूप से प्रेरित मुकदमा’’ बताया और कहा कि अगर याचिकाकर्ता जमानत राशि के तौर पर एक लाख रुपये जमा कराते हैं तो वह याचिका पर सुनवाई करेगा।

बंबई HC ने इन याचिकाओं को किया खारिज

मुख्य न्यायाधीश दीपांकर दत्ता और न्यायमूर्ति एम एस कार्णिक की पीठ ने ‘‘राजद्रोह और सार्वजनिक शांति भंग’’ करने के लिए शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे, उनके बेटे आदित्य ठाकरे और पार्टी नेता संजय राउत के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कराने का अनुरोध करते हुए सामाजिक कार्यकर्ता हेमंत पाटिल द्वारा दायर एक अन्य जनहित याचिका भी खारिज कर दी। दोनों याचिकाएं इस हफ्ते की शुरुआत में दायर की गयी थीं। सात नागरिकों द्वारा दायर याचिका में कहा गया है कि शिंदे और अन्य बागी विधायकों ने राजनीतिक उथल-पुथल पैदा की और आंतरिक अव्यवस्था को भड़काया।

बंबई HC ने पाटिल के वकील से किया यह सवाल 

पाटिल ने अपनी जनहित याचिका में ठाकरे पिता-पुत्र और राउत को बागी विधायकों के खिलाफ कोई और बयान देने से रोकने का अनुरोध किया। हाई कोर्ट ने पाटिल की याचिका पर सुनवाई करते हुए कहा कि याचिकाकर्ता के पास एक निजी शिकायत के साथ मजिस्ट्रेट की अदालत का रुख करने का कानूनी उपाय था। सात नागरिकों द्वारा दायर जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए पीठ ने उनके वकील आसिम सरोडे से पूछा कि क्या बुधवार को हुए घटनाक्रम (उद्धव ठाकरे के महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देने) के मद्देनजर अब भी याचिकाओं पर सुनवाई की जानी चाहिए।

सरोडे ने कहा कि अदालत को काम से दूर रहने और अपने कर्तव्यों की अनदेखी करने के लिए बागी विधायकों के खिलाफ संज्ञान लेना चाहिए। इस पर पीठ ने पूछा कि अदालत को इसका संज्ञान क्यों लेना चाहिए। मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘‘आपने मंत्रियों को चुना, आप कार्रवाई करिए। हमें क्यों संज्ञान लेना चाहिए?’’ इसके बाद अदालत ने सरोडे ने पूछा कि कौन-सा नियम कहता है कि विधायकों या मंत्रियों को हर वक्त शहर या राज्य में रहना होगा।

राजनीति से प्रेरित है पूरा मुकदमा :बंबई HC

अदालत ने कहा, ‘‘प्रथम दृष्टया हमारा यह मानना है कि यह पूरी तरह राजनीति से प्रेरित मुकदमा है। याचिकाकर्ताओं ने आवश्यक शोध नहीं किया। हम याचिकाकर्ताओं को दो सप्ताह के भीतर जमानत राशि के तौर पर एक लाख रुपये जमा कराने का निर्देश देते हैं।’’ पीठ ने कहा कि अगर पैसे जमा करा दिए जाते हैं तो जनहित याचिका पर तीन सप्ताह बाद सुनवाई की जा सकती है और अगर पैसे जमा नहीं कराए जाते तो इसका निस्तारण समझा जाए।