महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को बाघिन अवनि की हत्या की जांच के लिए चार सदस्यीय जांच समिति का गठन किया। इसमें वन विशेषज्ञ एवं अधिकारी शामिल हैं।

बाघिन को गत शुक्रवार को बोराती जंगल में मार गया था। बाघिन के बारे में माना जाता है कि वह आदमखोर बन गई थी और उसने यवतमाल जिले के पंधरकावडा क्षेत्र में गत दो वर्षों 13 लोगों को मार डाला था।

वन विभाग की ओर से जारी एक आधिकारिक बयान के अनुसार वन मंत्री सुधीर मुंगतीवार के बाघिन की हत्या की ‘गहराई’ से जांच के आदेश के बाद समिति का गठन किया गया है।

उसके अनुसार वन विभाग के प्रधान मुख्य संरक्षक एस पाटिल समिति का नेतृत्व करेंगे। भारतीय वन्यजीव संस्थान के सदस्य हबीब बिलाल, वन्यजीव संरक्षण ट्रस्ट के प्रमुख अनीश अंधेरिया और वन विभाग के अतिरिक्त प्रधान प्रमुख संरक्षक नितिन काकोडकर को भी समिति में रखा गया है।