BREAKING NEWS

विदेश मंत्री जयशंकर ने फिनलैंड के शीर्ष नेतृत्व से मुलाकात की◾सुरक्षा बल और वैज्ञानिक हर चुनौती से निपटने में सक्षम : राजनाथ ◾पाकिस्तानी प्रतिनिधिमंड़ल से कोई बातचीत नहीं होगी : अकबरुद्दीन◾भारत, अमेरिका अधिक शांतिपूर्ण व स्थिर दुनिया के निर्माण में दे सकते हैं योगदान : PM मोदी◾कॉरपोरेट कर दर में कटौती : मोदी-भाजपा ने किया स्वागत, कांग्रेस ने समय पर सवाल उठाया ◾चांद को रात लेगी आगोश में, ‘विक्रम’ से संपर्क की संभावना लगभग खत्म ◾J&K : महबूबा मुफ्ती ने पांच अगस्त से हिरासत में लिए गए लोगों का ब्यौरा मांगा◾अनुभवहीनता और गलत नीतियों के कारण देश में आर्थिक मंदी - कमलनाथ◾वायुसेना प्रमुख ने अभिनंदन की शीघ्र रिहाई का श्रेय राष्ट्रीय नेतृत्व को दिया ◾न तो कोई भाषा थोपिए और न ही किसी भाषा का विरोध कीजिए : उपराष्ट्रपति का लोगों से अनुरोध◾अनुच्छेद 370 फैसला : केंद्र के कदम से श्रीनगर में आम आदमी दिल से खुश - केंद्रीय मंत्री◾TOP 20 NEWS 20 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾राहुल का प्रधानमंत्री पर तंज, कहा- ‘हाउडी मोदी’ कार्यक्रम ‘आर्थिक बदहाली’ को नहीं छिपा सकता◾रेप के अलावा चिन्मयानंद ने कबूले सभी आरोप, कहा-किए पर हूं शर्मिंदा◾डराने की सियासत का जरिया है NRC, यूपी में कार्रवाई की गई तो सबसे पहले योगी को छोड़ना पड़ेगा प्रदेश : अखिलेश यादव◾नीतीश कुमार ने विधानसभा चुनाव में NDA की बड़ी जीत का किया दावा, कहा- गठबंधन में दरार पैदा करने वालों का होगा बुरा हाल◾कॉरपोरेट कर में कटौती ‘ऐतिहासिक कदम’, मेक इन इंडिया में आयेगा उछाल, बढ़ेगा निवेश : PM मोदी◾PM मोदी और मंगोलियाई राष्ट्रपति ने उलनबटोर स्थित भगवान बुद्ध की मूर्ति का किया अनावरण◾कांग्रेस नेता ने कारपोरेट कर में कटौती का किया स्वागत, निवेश की स्थिति बेहतर होने पर जताया संदेह◾वित्त मंत्री की घोषणा से झूमा शेयर बाजार, सेंसेक्स 1900 अंक उछला◾

अन्य राज्य

चुनावी वैतरणी में कूदने को तैयार हैं कई राजनीतिक दल के नेता

पटना : लोकसभा चुनाव का बिगूल बजते ही सभी राजनीतिक दल लोकतंत्र के महापर्व में दाव आजमाने के लिए चुनावी वैतरणी में कूदने को तैयार हो गये। एनडीए एवं महागठबंधन में स्पष्ट सीटों का बंटवारा एवं प्रत्याशियों के नामों का चयन नहीं हो सका है। क्योंकि बिहार के 40 लोकसभा सीटों पर एनडीए के घटक दल भाजपा जदयू एवं लोजपा ने 17-17 एवं 6 सीटों पर गठबंधन का आकार दे दिया है। लेकिन भाजपा जदयू कौन कौन सीटों पर दाव आजमायेगी यह फैसला नहीं हुआ है। वहीं महागठबंधन में राजद, कांग्रेस, रालोसपा हम लोजद सहित कइ दलों का सीट चयन ही नहीं हुआ है कि कितने सीटों पर किस दल लड़ेगा यह अभी तय नहीं हुआ है।

ऐसे माने तो एक दो दिनों में सीटों एवं प्रत्याशियों का चयन हो जाने की संभावना व्यक्त की जा रही है। वहीं महागठबंधन के छोटे-छोटे दल बड़ी-बड़ी मुंह बाय खड़ी दिख रही है। इधर राजनीतिक समीक्षक रंजय कुमार का मानना है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में दो विचार धाराओं के बीच चुनाव में क्षेत्रिय दलों की भूमिका महत्वपूर्ण होगी। इस चुनाव में विकास का मुद्दा गौण होने की आसार दिख रही है। क्योंकि आम जनता के सामने पहले ही तरह तरह के दर्जनों योजना को चुनावी साल में लागू किया गया है।

इससे आम जन असहज है। वहीं एनडीए के घटक दल में जदयू तथा महागठबंधन में रालोसपा, हम पार्टी का इंट्री से चुनाव रोचक दिखते नजर आयेगा। एक तरफ देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अध्यक्ष अमित शाह, मुख्यमंत्री नीतीश कुमार एवं लोजपा सुप्रीमो रामविलास पासवान एनडीए के मुख्य चेहरा होंगे। वहीं महागठबंधन में कांग्रेस के राहुल गांधी, राजद के तेजस्वी यादव लोजद के शरद यादव, हम-से. के पूर्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी, रालोसपा के उपेन्द्र कुशवाहा गेम चेंजर के भूमिका में होंगे।

इन नेताओं के धमाकेदार इंट्री से लोकप्रिय सरकार बनाने एवं बिगाडऩे में महत्वपूर्ण भूमिका होगी। अगर महागठबंधन में सीटों के सही तालमेल से एनडीए की तडक़ा बिगड़ सकती है। अब यह देखना है कि बिहार में नीतीश कुमार एनडीए के खाते में कितना सीट दिलवा सकते हैं। क्योंकि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सुशासन एवं विकास आधारित चुनाव में कितना दमखम दिखा सकते हैं। वहीं भाजपा का केन्द्रीय नेतृत्व हिन्दी पट्टी क्षेत्रों में कितना प्रभावी हो सकता है। भाजपा ने बिहार में ऐसे ही जीती हुई पांच सीटें छोड़ दी है।

वैसे में सारा दारोमदार नीतीश कुमार पर होगी।  वहीं महागठबंधन में सीट बंटवारे को लेकर किचकिचाहट हो रही है। ऐसा अनुमान है कि राजद किसी भी सूरत में 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। वहीं कांग्रेस को 10-12 सीटें, रालोसपा को तीन, हम को दो, लोजद एवं वाम को दो-दो सीट एवं वीआईपी को एक सीट देने की चर्चा चल रही है। अगर महागठबंधन में सीटों का बंटवारा ठीक से हो गया तो चुनावी वैतरणी पार करने में कामयाब कितना दिखेगे यह तो चुनावी मैदान में होगी। क्योंकि एनडीए एवं यूपीए महागठबंधन एक दूसरे के पहलवान के हिसाब से चुनावी गणित बैठा रहे है।