BREAKING NEWS

भारत बंद : दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा भारी ट्रैफिक जाम, गाड़ियों की लंबी कतारों से DND का भी बुरा हाल◾'भारत बंद' को मिला विपक्ष का समर्थन, कहा- काले कानून वापस लें केंद्र, किसानों का अहिंसक सत्याग्रह है अखंड ◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23.18 करोड़ के करीब, 47.4 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾किसानों के भारत बंद के मद्देनजर दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ी,पुलिस अलर्ट पर ◾भारत बंद : कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किसानों ने किया जाम◾दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾संयुक्त किसान मोर्चा की सोमवार को भारत बंद के दौरान शांति की अपील, कई राजनीतिक दलों ने दिया समर्थन◾दिग्विजय सिंह ने RSS संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के खिलाफ दिया विवादित बयान◾PM मोदी ने नए संसद भवन के निर्माण स्थल का किया दौरा ◾RCB vs MI : पटेल की हैट्रिक और मैक्सवेल के शानदार प्रदर्शन से आरसीबी ने मुंबई इंडियंस को 54 से हराया◾अर्थव्यवस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को ‘एसबीआई जैसे’ 4-5 बैंकों की जरूरत : सीतारमण◾आरएसएस से जुड़ी साप्ताहिक पत्रिका 'पांचजन्य' ने अमेजन को 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' बताया◾‘भारत बंद’ से पहले दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस ने गश्त बढ़ायी, अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती की◾गन्ना खरीद मूल्य 350 रुपये किए जाने पर प्रियंका का CM योगी पर तंज, कहा- किसानों के साथ किया धोखा◾पारंपरिक पोशाक पहनने वालों को प्रवेश नहीं देने वाले रेस्तरां के खिलाफ हो कार्रवाई : कांग्रेस◾बिहार : CM नीतीश कुमार बोले- राष्ट्र हित में है जातिगत जनगणना◾UP: योगी कैबिनेट में शामिल हुए 7 नए मंत्री, इन विधायकों ने ली शपथ◾पंजाब : चन्नी कैबिनेट में शामिल हुए 15 नए चेहरे, जाने किसको मिली जगह तो किसका कटा पत्ता ◾योगी सरकार का किसानो के लिए बड़ा फैसला, गन्ने का समर्थन मूल्य 325 रूपए से बढ़ाकर 350 किया ◾

मिजोरम ने त्रिपुरा के पास स्थित फुलडुंगसेई जम्पुई और जोमुआंतलांग गांव में लागू निषेधाज्ञा आदेश को निरस्त किया

मिजोरम ने त्रिपुरा सीमा के पास स्थित फुलडुंगसेई जम्पुई और जोमुआंतलांग गांव में लागू निषेधाज्ञा आदेश को रविवार को निरस्त कर दिया। अधिकारियों ने कहा कि पड़ोसी राज्य के एक संगठन द्वारा इलाके में मंदिर का प्रस्तावित निर्माण रोके जाने का निर्णय लिए जाने के बाद निषेधाज्ञा आदेश निरस्त किए गए।

दोनों राज्यों के अधिकारियों ने बताया कि त्रिपुरा सरकार ने भी मिजोरम द्वारा लिए गए इस आदेश को निरस्त करने को कहा था। त्रिपुरा सरकार ने दावा किया कि विवादित क्षेत्र उत्तर त्रिपुरा जिले में आते हैं। मिजोरम सरकार ने कहा कि 16 अक्टूबर को सीआरपीसी की धारा 144 के तहत जारी निषेधाज्ञा आदेश तत्काल प्रभाव से रद्द कर दिया गया क्योंकि त्रिपुरा के एक संगठन द्वारा थाईदार त्लांग में शिव मंदिर के प्रस्तावित निर्माण को रोक दिया गया है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि त्रिपुरा-मिजोरम की सीमा के साथ सटे जम्पुई हिल्स के ऊपर बसे एक छोटे से गांव फूलपुरसेई पर त्रिपुरा और मिजोरम बिल्कुल आमने सामने हैं। जहाँ मिजोरम ने धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लागू कर दिया था जिसके बाद त्रिपुरा की ओर से आये एक बयान में कहा गया कि यह क्षेत्र त्रिपुरा के प्रशासनिक नियंत्रण में है इसलिए मिजोरम को अपना निशेषधाज्ञा आदेश को वापिस लेना होगा। दरअसल यह विवाद पिछले तीन महीने से बना हुआ है. जब से यह खुलासा हुआ कि फूलपुरसेई गांव में रहने वाले लगभग 130  ग्रामीणों का राशन कार्ड और मतदाता सूची में नाम त्रिपुरा और मिजोरम दोनों जगह हैं। इसके बाद ताज़ा विवाद फुलडुंगसेई गांव के मंदिर निर्माण से सामने आया।