BREAKING NEWS

मथुरा : श्रीकृष्ण जन्मभूमि पर हनुमान चालीसा के पाठ का आह्वान, प्रशासन ने बढ़ाई सुरक्षा◾सुखजिंदर रंधावा बने राजस्थान के कांग्रेस प्रभारी, अजय माकन का इस्तीफा स्वीकार◾संसद के शीतकालीन सत्र को लेकर केंद्र सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक, कल से शुरू होगा सत्र◾गुजरात के खेड़ा में मुस्लिम वोटर्स ने मतदान का ही बहिष्कार कर डाला◾आज का राशिफल (06 दिसंबर 2022)◾संसदीय पैनल ने RBI गवर्नर के लिए की 6 वर्ष के कार्यकाल की सिफारिश, जाने क्या कहती है रिपोर्ट ◾UP : हिन्दू महासभा ने की शाही ईदगाह में हनुमान चालीसा का पाठ करने की घोषणा, पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा ◾दुनिया में एक शक्तिशाली देश के रूप में उभरा है भारत : प्रधानमंत्री मोदी ◾PFI पोस्टर मामला : CM बोम्मई बोले- दोषियों के खिलाफ की जाएगी कड़ी कार्रवाई, भ्रम पैदा करना सही नहीं ◾गुजरात चुनाव : दूसरे चरण में हुआ 58 प्रतिशत से अधिक मतदान, अधिकारियों ने दी जानकारी ◾J&K : उमर अब्दुल्ला बोले - लोगों को अंधेरे में नहीं रख रही नेकां, मेरा दिल कहता है बहाल होगा अनुच्छेद 370 ◾सुप्रीम कोर्ट की फटकार, कहा- पंजाब में शराब, ड्रग्स पर रोक न लगने से खत्म हो जाएंगे युवा◾Himachal Pradesh: किसका होगा हिमाचल! Exit Polls के मुताबिक- पहाड़ों में फिर खिलेगा 'कमल' ◾सुप्रीम कोर्ट की सलाह: दुनिया बदल गई, CBI को भी बदलना चाहिए, जानें क्या है पूरा मामला ◾दिल्ली हाई कोर्ट ने राघव बहल के खिलाफ धनशोधन की जांच पर रोक लगाने से किया इनकार ◾बिहार की सियासत में कांग्रेस की बढ़ी दिलचस्पी, अखिलेश प्रसाद सिंह राज्य इकाई के अध्यक्ष नियुक्त◾European Union: एयरलाइन यात्रियों के लिए खुशखबरी, जल्द अपने फोन में 5जी सर्विस का उठा पाएंगे लाभ ◾Lakhimpur Kheri case: केन्द्रीय मंत्री अजय मिश्रा के बेटे समेत 13 आरोपियों को आरोपमुक्त करने की अर्जी खारिज◾Maharashtra: नाना पटोले ने कहा- BJP कर रही है शिवाजी महाराज का अपमान करने का प्रयास◾Maharashtra: महाराष्ट्र में दरिंदगी, 5 साल की बच्ची के साथ बलात्कार, पुलिस ने आरोपी को दबोचा◾

कुल्लू दशहरा में शामिल होने वाले पहले PM बने मोदी

विश्व प्रसिद्ध कुल्लू दशहरा उत्सव के लगभग 400 वर्षों के इतिहास में, नरेंद्र मोदी पहले प्रधानमंत्री हैं जो इसमें शामिल हुए। पीएम मोदी ने करीब 300 देवी-देवताओं की मौजूदगी में कुल्लू घाटी के प्रमुख देवता भगवान रघुनाथ को नमन किया।

कोरोनो वायरस महामारी के कारण दो साल के लॉकडाउन प्रतिबंधों के बाद एक बार फिर हजारों भक्तों की भीड़ के साथ, भगवान रघुनाथ के रथ को दशहरा या विजय दशमी के पहले दिन यहां के सुल्तानपुर के ऐतिहासिक मंदिर से बाहर निकाला गया। राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ अर्लेकर और मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के साथ पारंपरिक हिमाचली टोपी पहने प्रधानमंत्री मोदी ने धार्मिक उत्साह के साथ 'रथ यात्रा' देखी।

इस दौरान पीएम मोदी प्रोटोकॉल तोड़कर रघुनाथ जी के रथ तक पहुंचे और उनका आशीर्वाद लिया। मोदी कुल्लू दशहरा उत्सव में शामिल होने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री हैं। उन्होंने लगभग डेढ़ घंटे तक तुरही और ढोल की थाप के बीच रथ यात्रा को देखा। जब प्रधानमंत्री मुख्य देवता को नमन कर रहे थे, उस समय भीड़ को प्रबंधित करने का कार्य भगवान रघुनाथ के सेकंड-इन-कमांड देवता नाग धूमल के पास था।

त्योहार से जुड़े एक सरकारी अधिकारी ने बताया, सदियों से यह परंपरा रही है कि जब भगवान रघुनाथ की रथ यात्रा निकाली जाती है तो नाग धूमल सड़क को साफ करते हैं और भीड़ को नियंत्रित करते हैं। कुल्लू दशहरा के दौरान इकट्ठे देवता, जो आम तौर पर 250 तक होते हैं, जुलूस के दौरान मुख्य देवता के साथ जाते हैं। इस बार वह सभी 11 अक्टूबर को उत्सव के समापन तक ढालपुर मैदान में रहेंगे।

राज्य की राजधानी से करीब 200 किलोमीटर दूर कुल्लू शहर पहुंचने से पहले मोदी ने एम्स बिलासपुर की सौगात दी। उन्होंने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा के गृहनगर बिलासपुर शहर में कई परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास भी किया।

कुल्लू दशहरा उत्सव का समापन ब्यास नदी के तट पर 'लंका दहन' अनुष्ठान के साथ होता है। जिसमें सभी एकत्रित देवता भाग लेते हैं। त्योहार की शुरुआत 1637 में हुई जब राजा जगत सिंह ने कुल्लू पर शासन किया। उन्होंने दशहरे के दौरान कुल्लू के सभी स्थानीय देवताओं को भगवान रघुनाथ के सम्मान में एक अनुष्ठान करने के लिए आमंत्रित किया था। तब से, सैकड़ों ग्राम मंदिरों से देवताओं की वार्षिक सभा एक परंपरा बन गई है। भारतीय रियासतों के उन्मूलन के बाद, जिला प्रशासन देवताओं को आमंत्रित करता रहा है। कुल्लू प्रशासन द्वारा संकलित एक संदर्भ पुस्तक के अनुसार, कुल्लू घाटी में 534 'जीवित' देवी-देवता हैं, जिन्हें लोकप्रिय रूप से देवभूमि या देवताओं के निवास के रूप में भी जाना जाता है।

एक साल के शोध के बाद संकलित 583 पन्नों की किताब कहती है- यहां, देवता आज्ञा देते हैं और लोग आज्ञा मानते हैं। यहां के देवता मूर्तियां नहीं हैं, मंदिरों में विराजमान हैं, वो जिंदा हैं। देवता लोगों के बीच जीवित रहते हैं और अपने अनुयायियों से बात करते हैं और उन्हें बताते हैं कि उन्हें क्या करना है। उनके परिवार और रिश्तेदार हैं जो समारोह में उनके साथ शामिल होते हैं।

पुस्तक में कहा गया है कि कुल्लू देवताओं के मामलों का प्रबंधन 'देवता' समितियों द्वारा किया जाता है, जिसमें एक 'कारदार' या मंदिर का प्रबंधक, 'गुर' या दैवज्ञ और एक पुजारी शामिल होते हैं। हर साल कुल्लू दशहरा के लिए 250 से अधिक देवी-देवता इकट्ठे होते हैं।

किताब में कहा गया है कि देवता अपने अनुयायियों के निमंत्रण को स्वीकार करते हैं और उनकी इच्छा के अनुसार विभिन्न स्थानों पर चले जाते हैं। कभी-कभी वे तीर्थ यात्रा करने का निर्णय लेते हैं। कोई एक-दो साल बाद ऐसा करता है, कोई 30 से 40 साल बाद ऐसा करता है और कुछ सैकड़ों साल बाद विशेष तीर्थयात्रा पर निकल पड़ते हैं।

देवता 'गुर' को बुलाते हैं और उसके माध्यम से बोलते हैं। दैवज्ञ समाधि में चला जाता है और देवता से जुड़ जाता है। देवता की इच्छा से अनुयायी पवित्र आज्ञा का पालन करने के लिए तैयार होते हैं। प्रत्येक परिवार के एक सदस्य को इसमें शामिल होना होता है। कोई भी देवता के 'रथ' या पालकी को नहीं उठा सकता है यदि वह इच्छुक नहीं है।

पुस्तक कहती है कि लंबी और कठिन यात्रा पैदल ही करनी है। इसमें दिन, महीने भी लगते हैं। सख्त नियमों और अनुष्ठानों का पालन करना होता है। देवता यात्रा का समय और गति निर्धारित करते हैं।