BREAKING NEWS

गृह मंत्री अमित शाह बोले- देश की सुरक्षा को लेकर कोई समझौता बर्दाश्त नहीं ◾आज देश सरदार पटेल के एक भारत-श्रेष्ठ भारत के सपने को साकार होते हुए देख रहा है : PM मोदी◾मायावती ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- गैर भरोसेमंद और धोखेबाज है◾शारदा चिट फंड घोटाला : कोलकाता HC ने राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका पर सुनवाई से किया इनकार◾कपिल सिब्बल ने मोदी सरकार पर साधा निशाना, कहा- कश्मीर में हालात सामान्य तो फारुक अब्दुल्ला गिरफ्तार क्यों ?◾मंदी की मार को लेकर जिम्मेदारी से बचना चाहती है बीजेपी सरकार : प्रियंका गांधी◾भारत और पाकिस्तान के प्रधानमंत्रियों से जल्द ही करूंगा मुलाकात : डोनाल्ड ट्रंप ◾राजस्थान : BSP को झटका, छह विधायकों ने थामा कांग्रेस का हाथ ◾प्रधानमंत्री मोदी का 69वां जन्मदिन, राष्ट्रपति कोविंद सहित विपक्ष के अन्य नेताओं ने दी शुभकामनाएं◾सरदार सरोवर का गेट खोलने की मांग को लेकर मेधा पाटकर मंगलवार को निकालेंगी रैली ◾PM मोदी अपने जन्मदिन के मौके पर नर्मदा बांध का करेंगे दौरा ◾नितिन गडकरी बोले- सिर्फ आरक्षण से किसी समुदाय का विकास सुनिश्चित नहीं हो सकता ◾TOP 20 NEWS 16 September : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर बोले- जल्द ही पूरी दुनिया में उपलब्ध होगा दूरदर्शन इंडिया◾योगी सरकार को इलाहाबाद HC से झटका, 17 OBC जातियों को SC में शामिल करने पर रोक◾शरद पवार का ऐलान- महाराष्ट्र में 125-125 सीटों पर चुनाव लड़ेंगी NCP और कांग्रेस◾हिंदी को लेकर अमित शाह के बयान पर बोले कमल हासन - कोई 'शाह' नहीं तोड़ सकता, 1950 का वादा◾CJI रंजन गोगोई बोले-जरूरत हुई तो मैं खुद जाऊंगा जम्मू-कश्मीर हाई कोर्ट◾गंगवार के बयान पर प्रियंका का वार, कहा-मंत्री जी, 5 साल में कितने उत्तर भारतीयों को दी हैं नौकरियां◾SC ने गुलाम नबी आजाद को कश्मीर जाने की दी अनुमति, कोई राजनीतिक रैली न करने का दिया आदेश◾

अन्य राज्य

मोदी जी बेरोजगारी पर बात करने पर आपका गला क्यों सुख जाता है : तेजस्वी यादव

पटना : नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि मोदी जी बेरोजगारी पर बात करने पर आपका गला क्यों सुख जाता है। किसी भी सरकार की सफलता, गुणवत्ता व दूरदर्शिता का प्रतीक उसकी आर्थिक व सामाजिक नीतियां होती हैं। मोदी सरकार देश के सामाजिक स्वरूप को उधेड़-उधेड़ कर अराजकता की ओर मोड़ रही है तो दूसरी तरफ अपने स्टंट के जरिए देश के आर्थिक विकास के पहिए ही उखाड़ अर्थव्यवस्था को पटरी से उतार दिया है।

श्री यादव ने कहा कि रोजगार सृजन से अर्थव्यवस्था का अंदाजा लग जाता है। लेकिन यहां तो दो करोड़ नौकरी प्रति वर्ष का नारा लगाने वाले 5 साल में उसके सौवें भाग तक भी उस वादे को निभा नहीं पाए। एनएसएस की रिपोर्ट के अनुसार इन पांच सालों में पचास साल का रोना रोने वालों के कारण रोजग़ार की पिछले 45 वर्षों में सबसे बदतर स्थिति रही। एक अन्य सीएमई की रिपोर्ट के अनुसार नोटबन्दी ने असंगठित क्षेत्र से 11 करोड़ नौकरियां नील कर दी, जिसकी मार देश के सबसे निचले तबके के लोगों पर पड़ी। यही नहीं मेक इन इंडिया का शेर गुर्राने-दहाडऩे के बजाय 5 साल तक मिमियाते रहा।

पूंजी निवेश लाने और रोजगार सृजन- दोनों ही मामले में इवेंट मैनज्मेंट के सहारे कागज पर बनाया गया मेकइनइंडिया का शेर चारों खाने चित्त हो गया। संगठित, असंगठित, निजी व सरकारी क्षेत्र-सभी की स्थिति बद से बदतर है। हर क्षेत्र से रोजगार के अवसर खत्म ही नहीं हो रहे बल्कि कार्यरत मानव संसाधन की छटनी भी बदस्तूर जारी है। बीएसएनएल,ओएनजीसी जैसी नवरत्न कम्पनियों को जानबूझकर नीम हकीम नीतियों से घाटे में धकेला जा रहा है, विनिवेश की जमीन तैयार की जा रही है।

युवाओं व बेरोजगारों को अंधेरे में रखने के लिए सरकार ने तीन-तीन बार बेरोजगारी के आंकड़े प्रकाशित होने से रोक दिया गया। हाल ही में मुद्रा योजना के द्वारा करवाए गए बेरोजगारी पर एक रिपोर्ट को भी प्रकाशित होने से रोक दिया। श्रमिक वर्ग का 80 प्रतिशत कुल मानव संसाधन का एक चौथाई और कौशल प्राप्त कर्मियों का एक तिहाई भाग आज भी निर्धनता से जूझ रहा है।

मोदी जी के आसमानी वादों के मारे करोड़ों युवा नौकरी की तलाश में दर-दर भटक रहे है। छलावा पार्टी की छलिया सरकार ने भर्ती के बहाने आवेदन पत्रों की फीस के नाम ही बेरोजग़ार युवाओं से हज़ारों करोड़ रुपए लूट लिए। अकेले रेलवे ने बेरोजगारों के आवेदनों से अरबों कमाए है। mयुवाओं का ध्यान भटकाने के लिए सामाजिक सौहार्द के साथ खिलवाड़ हो रहा है।

युवाओं को काल्पनिक शत्रु दिखा कर बेरोजगारी के सवाल से दूर किया जा रहा हैं। मोदी सरकार बेरोजगारी पर बात करने से क्यों डरती है, युवा साथियों से आग्रह है वो अपने जीवन को प्रभावित करने वाले मुद्दों को आगामी चुनाव में तरजीह दे। मोदी जी से 2014 के घोषणा पत्र पर सवाल जवाब करे।