BREAKING NEWS

दिल्ली बॉर्डर सील मामले में SC ने तीनों राज्यों को NCR में आवागमन के लिए कॉमन नीति बनाने के दिए निर्देश◾वर्चुअल समिट में PM मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने के लिए जाहिर की प्रतिबद्धता ◾राहुल के साथ बातचीत में राजीव बजाज ने कहा- लॉकडाउन से देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई◾केरल में हथिनी की हत्या पर केंद्र गंभीर, जावड़ेकर बोले-दोषी को दी जाएगी कड़ी सजा◾कांग्रेस को मिल सकता है झटका,पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले AAP का दामन थाम सकते हैं सिद्धू ◾World Corona : दुनियाभर में करीब 4 लाख लोगों ने गंवाई जान, संक्रमितों का आंकड़ा 65 लाख के करीब ◾देश में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 2 लाख 17 हजार के करीब, अब तक 6000 से अधिक लोगों की मौत◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन आज वर्चुअल शिखर सम्मेलन में लेंगे हिस्सा◾US में वैश्विक महामारी का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 18 लाख के पार ◾लद्दाख सीमा पर कम हुआ तनाव, गलवान और चुसूल में दोनों देश की सेनाएं पीछे हटीं◾नोएडा में भूकंप के झटके हुए महसूस , रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.2 मापी गई◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, बीते 24 घंटों में 1513 नए मामले आये सामने ◾कोविड-19: अब तक 40 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई , 48.31 फीसदी मरीज स्वस्थ ◾महाराष्ट्र में 24 घंटे में कोरोना से 122 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 74,860 हुई◾गृह मंत्रालय ने विदेशी कारोबारियों, स्वास्थ्यसेवा पेशेवरों और इंजीनियरों को भारत आने की अनुमति दी ◾केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसलों पर पीएम मोदी बोले - किसानों की आय में होगी वृद्धि, बंदिशें हुई खत्म◾गुजरात में फैक्टरी की भट्ठी में भीषण विस्फोट, पांच की मौत, 40 कर्मी झुलसे ◾मुंबई में चक्रवाती तूफान निसर्ग का कहर खत्म, कम हुई हवाओं की रफ्तार◾महाराष्ट्र के रायगढ़ में निसर्ग तूफान ने मचाई तबाही, कई जगह गिरे पेड़ और बिजली के खंभे ◾मोदी कैबिनेट ने किसानों के हित में लिया बड़ा फैसला, वन नेशन-वन मार्केट पर की चर्चा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

MP के CM कमलनाथ एवं उनके बेटे नकुलनाथ ने किये नामांकन पत्र दाखिल

मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ (72) ने छिंदवाड़ा विधानसभा सीट से उपचुनाव के लिए और उनके बेटे नकुलनाथ (44) ने लोकसभा चुनाव के लिये छिंदवाड़ा संसदीय सीट से कांग्रेस उम्मीदवार के तौर पर मंगलवार को अपने अपने नामांकन पत्र दाखिल किये। पर्चा दाखिल करने के दौरान दोनों सफेद कुर्ता एवं पायजामा पहने हुए थे। इस मौके पर कमलनाथ की पत्नी अलका नाथ एवं नकुलनाथ की पत्नी प्रिया नाथ भी उपस्थित थीं।

कमलनाथ ने पहले पर्चा दाखिल किया जबकि उनके बेटे नकुलनाथ ने उनके कुछ ही मिनटों बाद नामांकन पत्र दाखिल किया। पर्चा दाखिल करने के बाद कमलनाथ एवं नकुलनाथ ने शहर के श्याम टाकीज स्थित राम मंदिर से पूजा पाठ कर रैली निकाली। यह रैली चार फाटक, छोटा तालाब, पावर हाउस, छोटी बाजार, फव्वारा चौक सहित शहर के अन्य मुख्य मार्गो से होते दशहरा मैदान पहुंची, जहां दोनों ने चुनावी सभा को संबोधित किया।

\"\"

कमलनाथ का मुख्य मुकाबला भाजपा उम्मीदवार विवेक बंटी साहू (38) से होगा, जबकि नकुलनाथ का मुख्य मुकाबला भाजपा उम्मीदवार नत्थन शाह कवरेती से होगा। साहू नया चेहरा है और वर्तमान में मध्यप्रदेश युवा मोर्चा अध्ययन समिति के प्रदेश अध्यक्ष हैं । वह पूर्व में भारतीय जनता युवा मोर्चा (भाजयुमो) के जिला अध्यक्ष भी रह चुके हैं। वहीं, शाह आदिवासी चेहरे, आरएसएस विचारक एवं पूर्व विधायक हैं।

भाजपा नया चेहरा एवं आदिवासी चेहरा उतारकर कांग्रेस को उसके गढ़ में घेरना चाहती है, जबकि कांग्रेस कमलनाथ के परिवार पर भरोसा जता रही है। छिन्दवाड़ा लोकसभा सीट में छिंदवाड़ा विधानसभा सीट सहित 7 विधानसभा क्षेत्र आते हैं। इनमें से तीन आदिवासी बहुल हैं। साहू एवं शाह भी अपना नामांकन पत्र भर चुके हैं।

छिन्दवाड़ा लोकसभा सीट से नौ दफा सांसद रहे कमलनाथ पहली दफा विधानसभा चुनाव में उतर रहे हैं, जबकि नकुलनाथ भी पहली दफा चुनावी राजनीति में उतरते हुए अपने पिता की परम्परागत सीट से चुनाव लड़ने जा रहे हैं। कमलनाथ वर्ष 1980 में छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से पहली बार सांसद बने थे।

नशे में धुत सेक्टर मजिस्ट्रेट ने पुलिस से की धक्का-मुक्की

कमलनाथ ने पिछले साल 28 नवंबर को हुए विधानसभा का चुनाव नहीं लड़ा था। नियमों के अनुसार उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के छह माह के अंदर मध्यप्रदेश विधानसभा में विधायक बनना जरुरी है। इसी के मद्देनजर छिन्दवाड़ा सीट के कांग्रेस विधायक दीपक सक्सेना ने त्याग पत्र देकर यह सीट उनके लिए खाली की है।

यदि कमलनाथ छिंदवाड़ा विधानसभा सीट से विजयी होते हैं तो वह अपने लम्बे राजनीतिक जीवन में वह पहली दफा विधायक बनेंगे। छिन्दवाड़ा कांग्रेस का गढ़ कहलाता है और कमल नाथ छिन्दवाड़ा लोकसभा सीट से नौ बार सांसद रह चुके है। यह सीट देश की आजादी के बाद से वर्ष 1997 के उपचुनाव को छोड़कर कांग्रेस के पास रही है।

वर्ष 1997 में भाजपा ने यह सीट जीती थी। तब मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री सुंदरलाल पटवा ने कमलनाथ को हराया था। कमलनाथ वर्ष 2014 में छिंदवाड़ा लोकसभा सीट से 1,16,000 से अधिक मतों से विजयी हुए थे। छिन्दवाड़ा लोकसभा सीट एवं छिन्दवाड़ा विधानसभा सीट पर 29 अप्रैल को मतदान होना है।