BREAKING NEWS

बिहार चुनाव : सोनिया बोलीं- दिल्ली और बिहार में बंदी सरकार, ना कथनी सही-ना करनी◾'अश्विनी मिन्ना' मेमोरियल अवार्ड में आवेदन करने के लिए क्लिक करें ◾पाकिस्तान : पेशावर के मदरसे में ब्लास्ट से 7 की मौत, 70 से अधिक घायल◾विश्व में कोरोना मरीजों के आंकड़ों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी,संक्रमितों की संख्या 4 करोड़ 33 लाख के पार◾TOP 5 NEWS 27 OCTOBER : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾कोविड-19 : देश में संक्रमितों का आंकड़ा 80 लाख के करीब, एक्टिव केस सवा 6 लाख◾हाथरस मामला : सुप्रीम कोर्ट आज तय करेगा कि सीबीआई जांच की निगरानी SC करेगा या फिर हाईकोर्ट◾ 2+2 वार्ता : भारत और अमेरिका आज महत्वपूर्ण रक्षा समझौते पर करेंगे हस्ताक्षर◾महबूबा मुफ्ती को हवाई टिकट खरीदने चाहिए और अपने परिवार के साथ पाकिस्तान चले जाना चाहिए : नितिन पटेल ◾'भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, BECA पर करेंगे साइन◾तिरंगे पर महबूबा मुफ्ती के बयान से नाखुश पीडीपी के तीन नेताओं ने पार्टी से दिया इस्तीफा, NC ने भी किया किनारा◾स्ट्रीट वेण्डर आत्मनिर्भर निधि योजना के तहत प्रधानमंत्री कल UP के लाभार्थियों से करेंगे बात ◾साक्षी महाराज ने फिर दिया विवादित बयान, कहा- अनुपात के हिसाब से हो कब्रिस्तान और श्मशान◾राजनाथ सिंह ने अमेरिकी रक्षा मंत्री के साथ की वार्ता, रक्षा तथा सामरिक संबंधों पर हुई चर्चा ◾बिहार चुनाव : प्रचार के आखिरी दिन तेजस्वी पहुंचे हसनपुर, तेजप्रताप के लिए मांगे वोट ◾जेपी नड्डा ने चिराग पर साधा निशाना - कुछ लोग NDA में सेंध लगाना चाहते हैं, कर रहे है षड्यंत्र ◾भारत में कोविड-19 संबंधी मृत्युदर 1.50 प्रतिशत, 108 दिन बाद 500 से कम मौत हुई◾CM नीतीश ने महुआ में RJD पर बोला हमला - कुछ लोगों की भ्रमित करने और ठगने की आदत होती है◾दिल्ली की वायु गुणवत्ता 'बहुत खराब', पराली जलाए जाने से दिल्लीवासियों पर कहर बरपाएगा प्रदूषण◾SC ने कोर्ट की निगरानी में CBI जांच की मांग वाली दिशा सालियान केस की याचिका को किया खारिज◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

मप्र: कमलनाथ पर बरसे सिंधिया, बोले- कमलनाथ सरकार ने भ्रष्टाचार, वादाखिलाफी में कीर्तिमान बनाया

भरतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता व राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया आज अपने गृह राज्य मध्यप्रदेश के मालवा अंचल के दौरे पर पहुंचे और राज्य में 15 माह रही कांग्रेस की कमलनाथ के नेतृत्व वाली सरकार जमकर हमले बोलते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के काल में भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी के जैसे कीर्तिमान स्थापित हुए, वैसे अपने 20 साल के सार्वजनिक जीवन में नहीं देखे।

सिंधिया ने मार्च में कांग्रेस का दामन छोड़कर भाजपा का दामन थामा था और अब वे भाजपा की ओर से राज्यसभा के लिए निर्वाचित हो चुके हैं। वह सोमवार की दोपहर को इंदौर पहुंचे। उन्होंने यहां संवाददाताओं के सवालों का जवाब देते हुए पूर्ववर्ती सरकार के काल में हुए भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी को लेकर आरोप लगाए और कहा कि अपने 20 साल के सावर्जनिक जीवन में ऐसा भ्रष्टाचार व वादाखिलाफी का कीर्तिमान नहीं देखा। यही कारण रहा कि 22 निर्वाचित जनप्रतिनिधि, जिनमें छह कैबिनेट मंत्री शामिल थे, ने ऐतिहासिक निर्णय लिया कि अत्याचारी, भ्रष्टाचारी के खिलाफ सड़क पर उतरकर जनता की सेवा की जाए।

कांग्रेस सोशल मीडिया के जरिए सिंधिया पर लगातार हमले बोल रही है। वीडियो भी जारी किए जा रहे हैं, इस पर प्रतिक्रिया देते हुए सिंधिया ने कहा, राज्य में भ्रष्टाचार और वादाखिलाफी की सरकार रही है, किसानों की कर्जमाफी योजना, कन्यादान योजना या आम भ्रष्टाचार चल रहा था, हमने अपनी बार-बार आवाज उठाई, लेकिन सुनी नहीं गई। हमें विश्वास है कि जनता हमारे साथ खड़ी है। पिछले तीन-चार माह से मीडिया में जो फिल्म आदि निकाल रहे हैं, उन्हें आगामी समय में जनता की अदालत में सबसे बड़ा जवाब मिलने वाला है।

सिंधिया ने सीधे आरोप लगाया कि कांग्रेस में छटपटाहट है, वह जनता की सेवा के लिए नहीं है, वादों पर खरा उतरने के लिए नहीं, वह छटपटा रही है सिर्फ कुर्सी के लिए। वे चाहते हैं किसी भी तरह एक बार कुर्सी मिल जाए। उन्होंने कहा, हम लोगों को कुर्सी की फिक्र नहीं है, जैसा हम लोगों ने करके दिखाया है। छह कैबिनेट मंत्रियों ने एक क्षण नहीं लगाया सत्य का रास्ता पकड़ने के लिए।

कांग्रेस द्वारा लगाए जा रहे आरोपों का सिंधिया ने अपने ही अंदाज में जवाब दिया। उन्होंने कहा, मुझे इस बात का गर्व है कि जिस तरह मेरी दादी ने डीपी मिश्र की सरकार के समय सत्य का रास्ता अपनाया था, पिता माधवराव सिंधिया ने विकास कांग्रेस बनाकर जनता के हित में झंडा उठाया था, उसी परिवार की परंपरा को निभाते हुए मैंने जनता के लिए सत्य का झंडा उठाया है। सिंधिया ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा और गृहमंत्री अमित शाह को त्रिमूर्ति की संज्ञा देते हुए कहा, हमें विश्वास है कि इस त्रिमूर्ति के नेतृत्व में भारत का विकास और प्रगति ही सुनिश्चित नहीं होगा, बल्कि इसके साथ ही भारत का संविधान, भारत की एकता और अखंडता की रक्षा उनके हाथों में ही सुरक्षित है।