BREAKING NEWS

दिल्ली में हुई हिंसा में मारे गए IB अफसर अंकित शर्मा के परिजनों ने शहीद का दर्जा देने की मांग◾CAA को लेकर अमित शाह का ममता और कांग्रेस पर करारा वार - 'अरे इतना झूठ क्यों बोलते हो'◾निर्भया मामला : फांसी के सजा को उम्रकैद में बदलने के लिए दोषी पवन ने दी याचिका ◾कांग्रेस के अलावा 6 अन्य विपक्षी ने भी राष्ट्रपति कोविंद को लिखा पत्र, दिल्ली हिंसा के आरोपियों पर दर्ज हो FIR◾दिल्ली हिंसा : मरने वालों की संख्या बढ़कर हुई 41, पीड़ितों से मिलने पहुंचे LG अनिल बैजल ◾रविशंकर प्रसाद का कांग्रेस पर वार, बोले- राजधर्म का उपदेश न दें सोनिया◾प्रधानमंत्री मोदी के आगमन से पहले छावनी में तब्दील हुआ प्रयागराज, जानिये 'विश्व रिकार्ड' बनाने का पूरा कार्यक्रम ◾ ताहिर हुसैन के कारखाने में पहुंची दिल्ली फोरेंसिक टीम, जुटाए हिंसा से जुड़े सबूत◾जानिये कौन है IB अफसर की हत्या के आरोपी ताहिर हुसैन, 20 साल पहले अमरोहा से मजदूरी करने आया था दिल्ली ◾एसएन श्रीवास्तव नियुक्त किये गए दिल्ली के नए पुलिस कमिश्नर, कल संभालेंगे पदभार ◾जुमे की नमाज़ के बाद जामिया में मार्च , दिल्ली पुलिस के लिए चुनौती भरा दिन◾CAA को लेकर आज भुवनेश्वर में अमित शाह करेंगे जनसभा को सम्बोधित ◾CAA हिंसा : उत्तर-पूर्वी दिल्ली में अब हालात सामान्य, जुम्मे के मद्देनजर सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम कायम◾CAA को लेकर BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले - कांग्रेस जो नहीं कर सकी, PM मोदी ने कर दिखाया◾Coronavirus : चीन में 44 और लोगों के मौत की पुष्टि, दक्षिण कोरिया में 2,000 से अधिक लोग पाए गए संक्रमित ◾भारत ने तुर्की को उसके आंतरिक मामलों पर टिप्पणी करने से बचने की सलाह दी◾राष्ट्रपति कोविंद 28 फरवरी से 2 मार्च तक झारखंड और छत्तीसगढ़ के दौरे पर रहेंगे◾संजय राउत ने BJP पर साधा निशाना , कहा - दिल्ली हिंसा में जल रही थी तो केंद्र सरकार क्या कर रही थी ?◾PM मोदी 29 फरवरी को बुंदेलखंड एक्स्प्रेस-वे की रखेंगे नींव◾दिल्ली हिंसा : SIT ने शुरू की जांच, मीडिया और चश्मदीदों से मांगे 7 दिन में सबूत◾

राजीव गांधी हत्याकांड : वक्त से पहले रिहाई का निर्देश देने की मांग वाली नलिनी की याचिका खारिज

मद्रास हाई कोर्ट ने राजीव गांधी हत्याकांड मामले में उम्रकैद की सजा काट रही नलिनी श्रीहरण की एक याचिका को गुरुवार को खारिज कर दिया। याचिका में नलिनी ने वक्त से पहले अपनी रिहाई को लेकर तमिलनाडु के राज्यपाल को निर्देश देने की मांग की थी। 

न्यायमूर्ति आर सुब्बैया और न्यायमूर्ति सी सर्वणन की पीठ ने कहा कि संविधान का अनुच्छेद 361 कहता है कि एक राज्य का राज्यपाल अपने कर्तव्यों के निर्वहन के संबंध में किसी भी कोर्ट के समक्ष जवाबदेह नहीं है या उससे सवाल नहीं पूछा जा सकता। 

सुप्रीम कोर्ट के आदेशों का हवाला देते हुए पीठ ने कहा कि यह कानून राज्यपाल को अपने संवैधानिक कर्तव्यों के निर्वहन को लेकर पूरी छूट एवं विशेषाधिकार देता है। पीठ ने कहा कि राज्यपाल के कार्यों पर सवाल उठाना या उसके संवैधानिक कर्तव्यों को पूरा करने में विफलता को संविधान के अनुच्छेद 226 के अंतर्गत न्यायिक समीक्षा के दायरे में नहीं लाया जा सकता। 

इस मामले में यह तर्क कि राज्यपाल ने मंत्रिपरिषद की सलाह को नहीं माना, याचिकाकर्ता के लिए कोर्ट का रुख करने का आधार नहीं माना जा सकता। मंत्रिपरिषद ने नौ सितंबर, 2018 को राज्यपाल बनवारीलाल पुरोहित को पूर्व प्रधानमंत्री के हत्याकांड में शामिल नलिनी और छह अन्य को रिहा करने की सलाह दी थी।