पटना : केन्द्रीय मानव संसाधन राज्य मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि रालोसपा का गठबंधन भाजपा और लोजपा के साथ हुआ है। पिछले चुनाव से इस बार रालोसपा की ताकत बढ़ी है उसी हिसाब से सीट मिलनी चाहिए। पार्टी कार्यालय में श्री कुशवाहा ने पत्रकारों से वार्तालाप कर कहा कि रालोसपा गठबंधन भाजपा के साथ किया था। उस समय बिहार के एनडीए गठबंधन में भाजपा के अलावे लोजपा और रालोसपा था। सीट बंटवारे में कटौती नहीं होनी चाहिए। पिछले चुनाव से अधिक सीट मिले, क्योंकि इस बार पार्टी की और ताकत बढ़ी है।

भाजपा अध्यक्ष अमित शाह जी इस पर अमल करें। उन्होंने कहा कि जब से इस गठबंधन में जदयू शामिल हुआ है गठबंधन में उठापटक हो रही है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के मुंह से मेरे जैसे व्यक्ति के साथ नीच शब्द का प्रयोग किये जाने पर मुझे ठेंस पहुंचा हैं उन्हें बड़ा भाई समझता रहा। उन्हें अपने इस बयान को वापस लेना चाहिए। गठबंधन धर्म का दायित्व बनता है जवाबदेही लेने का। रालोसपा गठबंधन धर्म निभा रहा है। लाभ के समय रालोसपा को हिस्सा क्यों नहीं दिया और नुकसान के लिए कहा जा रहा है। जदयू गठबंधन का आया और गया पार्टी है।

नीतीश कुमार को केवल अपनी छवि झलकाने की चिंता है। लालू जी के सवाल पर उन्होंने कहा कि लालू प्रसाद इतिहास बन गये हैं अब उनकी चर्चा नहीं होनी चाहिए। तेजस्वी अभी ट्रेनिंग पिरियड में हैं अच्छी तरह से ट्रेनिंग लेंं। उन्होंने कहा कि रालोसपा जनता से जुड़ी समस्या को लेकर लड़ाई लड़ती रही है इसी कड़ी में 28 नवम्बर को महात्मा फुले के पुण्यतिथि को ऊंच नीच मानसिकता विरोधी इिदवस के रूप में मनाते हुए शिक्षा सुधार, जन-जन का अधिकार कार्यक्रम के तहत हस्ताक्षर अभियान चलायेगा। बिहार के सरकारी विद्यालय एवं विश्वविद्यालयों में शिक्षकों का अभाव है जहां इसके लिए बीपीएससी की तरह संस्था बनाकर न यी शिक्षक की बहाली होनी चाहिए। इस अवसर पर पार्टी के राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष राजेश कुमार, मीडिया प्रभारी अनिल यादव, भोला शर्मा समेत अन्य उपस्थित थे।