BREAKING NEWS

Udaipur Murder Case: उदयपुर हत्याकांड के बाद अलर्ट पर यूपी पुलिस ◾Maharashtra News: हमारे पास 50 विधायकों का समर्थन......., एकनाथ शिंदे का बड़ा दावा◾ कन्हैयालाल की हत्या पर बोले औवेसी- घटना आतंकी कृत्य ◾उदयपुर में हत्या के मामले पर अनुराग ठाकुर बोले- गहलोत हमेशा अपनी जिम्मेदारी से बचते रहते है ◾Vice President Election: उपराष्ट्रपति चुनाव की रूपरेखा तैयार, 6 अगस्त को होगा मतदान, इस दिन भरा जाएगा नामांकन ◾ युवाओं को अग्निवीर बनने का चढ़ रहा जुनून, छह दिन में वायुसेना को प्राप्त हुए दो लाख से ज्यादा आवेदन ◾Kanhaiya Lal Murder: कन्हैया लाल का हुआ अंतिम संस्कार, उदयपुर हत्याकांड की जांच एनआईए को सौंपी गई ◾GST के दायरे में आएंगे खाद्य पदार्थ, राहुल बोले-PM का ‘गब्बर सिंह टैक्स’ बना ‘गृहस्थी सर्वनाश टैक्स’ ◾बिहार में ओवैसी को बड़ा झटका, AIMIM के चार विधायक RJD में शामिल ◾नवाब मलिक और अनिल देशमुख ने किया SC का रुख, शक्ति परीक्षण में भाग लेने की मांगी अनुमति◾मुकेश अंबानी को सुरक्षा देने के मामले में SC ने त्रिपुरा HC के फैसले पर लगाई रोक, जानिए क्या है मामला ◾कराह उठा हर कोई, राक्षस से ऊपर बढ़कर किया गया कन्हैयालाल का कत्ल, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बड़ा खुलासा ◾उदयपुर हत्याकांड को लेकर उमा भारती ने गहलोत सरकार को घेरा, प्रज्ञा बोली- कांग्रेस अभी भी जिंदा है देश शर्मिंदा है◾कन्हैयालाल मर्डर केस : राज्यवर्धन राठौर बोले-राजस्थान में कांग्रेस की नंपुसक सरकार◾ जीटीए चुनाव में तृणमूल कांग्रेस ने खोला खाता, एक सीट जीती , मतगणना जारी ◾'दोषियों को तुरंत ठोंक देना चाहिए', कन्हैयालाल की हत्या पर बोले प्रताप सिंह खाचरियावास◾असम में बाढ़ राहत कार्य के लिए शिवसेना के बागी विधायकों ने दिए 51 लाख रुपए, कल पेश करेंगे विश्वास मत ◾उदयपुर : NIA अपने हाथ में लेगी कन्हैया लाल हत्याकांड की जांच, गृह मंत्रालय का निर्देश◾उदयपुर हत्याकांड पर बोले CM गहलोत- यह कोई मामूली घटना नहीं, जांच के लिए गठित की SIT ◾नवीन कुमार जिंदल को मिली जान से मारने की धमकी, ईमेल में भेजा उदयपुर हत्याकांड का वीडियो◾

हैदराबाद की अवैध फार्मा कंपनी पर NCB की बड़ी कार्रवाई, बिटकॉइन में हो रही थी पेमेंट

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) ने तेलंगाना के हैदराबाद में एक अवैध फार्मा कंपनी पर बड़ी कार्रवाई की। एनसीबी ने इस दौरान कंपनी के ठिकानों पर छापेमारी की और कई चीजों को अपने कब्जे में लिया। बता दें कि इंटरनेट फार्मेसी का प्रयोग कर अवैध तरीके से नशीली दवाओं को विदेश भेजने के मामले में एनसीबी ने हैदराबाद में एक कंपनी और उसके निदेशक के ठिकानों पर छापेमारी की।   

पौने 4 करोड़ रुपए की नगदी बरामद की 

एनसीबी को छापेमारी के दौरान लगभग पौने 4 करोड़ रुपए की नगदी और डिजिटल उपकरण बरामद किए गए। अवैध फार्मेसी के जरिए भेजे जाने वाली दवाओं के बदले यह लोग बिटकॉइन के जरिए भी पेमेंट लेते थे। नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के उप महानिदेशक संजय कुमार सिंह के मुताबिक एनसीबी को सूचना मिली थी कि इंटरनेट फार्मेसी के सहारे अवैध तरीके से नशीली दवाओं को अमेरिका और अन्य जगहों पर भेजा जा रहा है। जांच के दौरान पता चला कि जो दवाई भेजी जा रही है, उनमें ऑक्सीकोडोन हाइड्रोकोडोन अल्प्राजोलम डायजेपाम शामिल हैं।  

 


इस देश में जा रही थी नशीली दवाएं 

शुरूआती जांच के दौरान पता चला कि हैदराबाद की जे.आर इंफिनिटी कंपनी द्वारा यह काम किया जा रहा है। इसका कार्यालय परिसर हैदराबाद शहर के डोमालगुड़ा इलाके में था। यह पता चला कि इस कंपनी कर्मचारी ईमेल और वीआईपी कॉल पर संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य देशों में मनोरंजक उपयोग के लिए इन दवाओं की आपूर्ति के लिए बातें करते थे।  

इनको चीजों को किया जब्त 

सूचना के आधार पर नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने हैदराबाद में इस कंपनी और उसके निशक के ठिकानों की तलाशी ली, इस दौरान तीन करोड़ 71 लाख रुपए की नगदी कई लैपटॉप मोबाइल फोन और अन्य इलेक्ट्रॉनिक गैजेट जो इस काम के लिए उपयोग किए जाते थे और जिनके जरिए अवैध इंटरनेट फार्मेसी को भी अंजाम दिया जाता था, बरामद किए गए। उन सभी को जब्त कर लिया गया है।  

बिटकॉइन्स में होता था लेनदेन 

एनसीबी को अब तक की जांच के दौरान पता चला है कि इस कंपनी के कर्मचारी विदेशों में मौजूद लोगों से दवाओं की आपूर्ति की बात करते थे और जब वहां के लोग इनकी आपूर्ति के लिए सहमत हो जाते थे, तो उनसे उत्पाद और कीमत की बात की जाती थी। इसके बाद कर्मचारी ग्राहकों का पता ईमेल आईडी और उनके साथ भुगतान लिंक साझा करते थे. दिलचस्प यह भी है कि विदेश में रहने वाला ग्राहक अपनी पसंद के आधार पर इन दवाओं के बदले भुगतान कर सकता था‌। इन नशीली दवाओं के बदले बिटकॉइन्स क्रेडिट कार्ड आदि के आधार पर इस कंपनी द्वारा पेमेंट ली जाती थी। 

अब तक की जांच के दौरान यह भी पता चला है कि इस मामले में पिछले 2 सालों के दौरान सैकड़ों शिपमेंट या अन्य तरीकों से यह नशीली दवाएं विदेशों में भेजी गई। पता चला है कि इस मामले का मुख्य आरोपी संदीप ड्रग तस्करी नेटवर्क में एक अहम खिलाड़ी है जो फरार बताया गया है। मामले की जांच जारी है।