BREAKING NEWS

Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾यमन के हूती विद्रोहियों को फिर से आतंकवादी समूह घोषित करने पर विचार कर रहा है अमेरिका : बाइडन◾गोवा चुनाव के लिए BJP की पहली लिस्ट, मनोहर पर्रिकर के बेटे उत्पल को नहीं दिया गया टिकट◾UP चुनाव में आमने-सामने होंगे योगी और चंद्रशेखर, गोरखपुर सदर सीट से मैदान में उतरने का किया ऐलान ◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका BJP में शामिल, कहा-'लड़की हूं लड़ने का हुनर रखती हूं'◾लापता लड़के का पता लगाने के लिए भारतीय सेना ने हॉटलाइन पर चीन से किया संपर्क, PLA से मांगी मदद ◾UP विधानसभा चुनाव : कांग्रेस ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी लिस्ट, महिलाओं को 40% टिकट ◾BJP की बड़ी सेंधमारी, मुलायम के साढू प्रमोद गुप्ता ने थामा कमल, बोले- अखिलेश ने नेताजी को बना रखा बंधक◾NEET Case: SC ने कहा- पिछड़ेपन को दूर करने के लिए आरक्षण जरूरी, हाई स्‍कोर योग्‍यता का मानदंड नहीं ◾दिल्ली में सर्दी-बारिश का डबल अटैक, 21 से 23 जनवरी तक हल्की बारिश की संभावना, दृश्यता में आई कमी ◾नीलाम हुई गरीब किसान की जमीन..., राकेश टिकैत ने की परिवार से मुलाकात, प्रशासन ने उठाया यह कदम ◾BJP सांसद वरुण गांधी ने विकास के दावों पर उठाए सवाल, कहा-चुनावी राज्यों में बढ़ी बेरोजगारी ◾'सुरक्षा जहां, बेटीयां वहां', BJP ने अपर्णा यादव और संघमित्रा मौर्य को बनाया नई पोस्टर गर्ल◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक को किया अगवा, राहुल बोले-PM की बुज़दिल चुप्पी ही उनका बयान◾कांग्रेस की पोस्टर गर्ल प्रियंका आज ज्वाइन कर सकती हैं BJP, टिकट नहीं मिलने से हैं नाराज◾Today's Corona Update : कोरोना के नए मामलों ने तोड़ा 8 महीने का रिकॉर्ड, 24 घंटे में 3 लाख से ज्यादा मामले हुए दर्ज◾वैश्विक स्तर पर नहीं थम रहा कोरोना का कहर, 33.71 करोड़ पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा◾असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾

NCP अध्यक्ष शरद पवार ने कहा- भारत के लिए पाकिस्तान से बड़ा खतरा है चीन

चीन के साथ मौजूदा तनाव के बीच राकांपा अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि भारत के लिए पाकिस्तान से बड़ा खतरा चीन है। पूर्व रक्षा मंत्री ने कहा कि चीन की सैन्य ताकत भारत से ‘‘10 गुना अधिक है’’ और उसने भारत के पड़ोसियों को अपनी ओर कर लिया है। पवार ने शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ को दिए साक्षात्कार में कहा कि केंद्र को वार्ता और राजनयिक माध्यमों से चीन पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाने की कोशिश करनी चाहिए। 

पवार ने कहा, ‘‘जब हम शत्रु के बारे में सोचते हैं, तो हमारे दिमाग में पहला नाम पाकिस्तान का आता है, लेकिन हमें पाकिस्तान की चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। दीर्घकाल में देखा जाए, तो चीन के पास भारत के हितों के खिलाफ कदम उठाने की ताकत, सोच और कार्यक्रम है। चीन भारत के लिए बड़ा शत्रु है।’’ पवार ने कहा कि ‘‘चीन भारत के लिए असल खतरा है’’ जो आर्थिक रूप से मजबूत है। 

उन्होंने चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की भारत यात्रा के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उनसे हाथ मिलाने और उन्हें गले लगाने का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘मित्रता की तस्वीरें खींचकर, आप दोनों देशों के बीच की समस्याएं नहीं सुलझा सकते।’’ 

पवार ने लद्दाख की गलवान घाटी में चीनी और भारतीय बलों के बीच टकराव पर कहा, ‘‘जब मैं यह कहता हूं कि इस मामले पर कोई राजनीति नहीं होनी चाहिए, तो ऐसा इसलिए है, क्योंकि हम उनपर हमला कर सकते हैं, लेकिन जब उस हमले की जवाबी कार्रवाई होगी, तो पूरे देश को भारी कीमत चुकानी होगी।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमला करने की जगह, हमें वार्ता और राजनयिक माध्यमों से चीन पर अंतरराष्ट्रीय दबाव बनाना चाहिए।’’ 

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘जब मोदी पहली बार प्रधानमंत्री बने थे, तब वह प्रार्थना करने के लिए नेपाल के पशुपतिनाथ मंदिर गए थे। मोदी ने नेपाल की प्रशंसा की थी और उसे भारत का मित्र एवं पहला हिंदू राष्ट्र बताया था। अब नेपाल हमारे साथ नहीं है, बल्कि चीन की ओर है।’’ उन्होंने कहा कि भारत ने बांग्लादेश को आजाद कराने के लिए बढ़-चढ़कर योगदान दिया और अब पड़ोसी देश ने चीन के साथ एक संधि पर हस्ताक्षर किए हैं। 

पवार ने मोदी सरकार का स्पष्ट जिक्र करते हुए कहा, ‘‘चीन ने हमारे सभी पड़ोसियों को अपनी ओर कर लिया है। यह हालिया दौर का योगदान है।’’ उन्होंने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्रियों पंडित जवाहरलाल नेहरू और इंदिरा गांधी को चीन और पाकिस्तान संबंधी मामलों से निपटने को लेकर हमेशा दोषी ठहराया जाता है। उन्होंने कहा कि लेकिन, नेहरू का मानना था कि चीन एक दिन महाशक्ति बनेगा और भारत को उससे मित्रवत संबंध बनाए रखने चाहिए क्योंकि यह तनाव दोनों देशों के लिए ही लाभकारी नहीं होगा। 

उन्होंने कहा कि नेहरू ने चीन के साथ पंचशील संधि की और क्षेत्र में शांति थी। पवार ने कहा, ‘‘दुर्भाग्य की बात यह है कि चीनी नेतृत्व ने अलग रुख अपनाया और युद्ध हुआ। इस पहलू को नजरअंदाज नहीं किया जा सकता।’’ उन्होंने भारतीय अर्थव्यस्था की मौजूदा स्थिति पर कहा कि प्रधानमंत्री मोदी को अर्थव्यवस्था को पुन: पटरी पर लाने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह जैसे अर्थशास्त्रियों और विशेषज्ञों से विचार-विमर्श करना चाहिए। उन्होंने देश की अर्थव्यवस्था को एक समय संकट से उबारने का श्रेय मनमोहन सिंह और दिवंगत प्रधानमंत्री पी वी नरसिम्हा राव को दिया।