BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

कोई भी राजनीतिक ‘‘लहर’’ न तो कश्मीर मुद्दा सुलझा पाई न ही जवानों की हत्या रोक पाई : शिवसेना

मुंबई : शिवसेना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर अप्रत्यक्ष निशाना साधते हुए कहा कि कोई भी राजनीतिक ‘‘लहर’’ न तो कश्मीर मुद्दा सुलझा पाई और न ही जवानों की हत्या रोक पाई । केंद्र और महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ भाजपा की सहयोगी शिवसेना ने कहा कि अब समय आ गया है कि जवानों की हत्या का बदला लेने के लिए पाकिस्तान पर ‘‘हमला’’ किया जाए। साथ ही पार्टी ने कहा कि पुलवामा हमले के दोषियों से निपटने का प्रधानमंत्री का आश्वासन उनकी कार्रवाइयों में परिलक्षित होना चाहिए।

शिवसेना ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में कहा कि यह राजनीतिक विरोधियों के खिलाफ ‘‘सर्जिकल हमला’’ करने का समय नहीं है। उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली पार्टी ने अपने मुखपत्र में लिखे संपादकीय में कहा कि सरकार ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान को ‘‘अलग थलग’’ करने के लिए अपनी पीठ थपथपाई है, लेकिन पड़ोसी देश भारतीय जमीन पर अब भी आतंकवादी हमले कर रहा है। उसने कहा, ‘‘देश ने गुस्से और राजनीतिक जीत की लहरें देखी हैं, लेकिन इससे न तो कभी कश्मीर का मुद्दा सुलझा और न ही जवानों की हत्या रुकी।’’

शिवसेना ने उरी में सेना के ठिकानों पर हुए हमले के जवाब में नियंत्रण रेखा पर 2016 में आतंकवादी ठिकानों पर किए गए सर्जिकल हमले का जिक्र करते हुए कहा, ‘‘लेकिन हमें यह समझना चाहिए कि वास्तविक सर्जिकल हमला क्या है। जिस तरह अमेरिका ने पाकिस्तान में घुसकर (अलकायदा प्रमुख) ओसामा बिन लादेन को (अमेरिका में 9...11 के आतंकवादी हमले के लिए) मारा, वह सर्जिकल हमला कहलाता है।’’ पार्टी ने कहा, ‘‘यह राजनीतिक विरोधियों पर सर्जिकल हमला करने का समय नहीं है, बल्कि यह पाकिस्तान पर हमला करने और हमारे जवानों की हत्या का बदला लेने का समय है।

प्रधानमंत्री ने बदला लेने की बात की है, अब उनकी यह कथनी करनी में बदलनी चाहिए।’’ उसने कहा कि यदि सरकार ने वह हिम्मत दिखाई, जो श्रीलंका ने लिट्टे का खात्मा करने में दिखाई थी और देश को आतंकवाद मुक्त किया था, तो भारत पाकिस्तान जैसे 100 देशों से छुटकारा पा लेगा। संपादकीय में पार्टी ने लिखा है ‘‘यह समय राजनीति में लिप्त होने का नहीं बल्कि हमारे जवानों के साथ एकजुटता से खड़े होने का है।