भोपाल संसदीय क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) प्रत्याशी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर के शहीद पुलिस अधिकारी हेमंत करकरे को लेकर दिए विवादित बयान के बीच मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ ने आज कहा कि शहादत का अपमान करने का हक इस देश में किसी को नहीं है।वरिष्ठ कांग्रेस नेता कमलनाथ ने ट्वीट के माध्यम से कहा कि जिन लोगों ने आतंकवाद से लड़ते हुए अपने देश की रक्षा के लिए शहादत दी है, सीने पर गोलियां खायी हैं।

उनकी शहादत का अपमान करने का हक देश में किसी को नहीं है। उन्होंने भाजपा पर परोक्ष रूप से निशाना साधते हुए कहा कि एक तरफ आतंकवाद व शहीदों के नाम का अपने राजनैतिक फायदे के लिए उपयोग और दूसरी ओर ऐसे बयान। यह दोहरा चरित्र नहीं चलेगा। वहीं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने एक विज्ञप्ति में कहा कि वीर शहीद महाराष्ट्र एटीएस के तत्कालीन प्रमुख हेमंत करकरे मुंबई में आतंकवादियों के हमले के दौरान नवंबर 2008 में शहीद हुए थे।

ऐसे शहीद के बारे में भाजपा प्रत्याशी का बयान आपत्तिजनक है और उनकी जितनी निंदा की जाए, कम है। इससे भाजपा की आतंकवाद को लेकर व शहीदों को लेकर मानसिकता का पता चलता है। श्री सलूजा ने कहा कि सुश्री प्रज्ञा ठाकुर को इस आपत्तिजनक बयान पर अविलंब माफी मांगना चाहिए। चुनाव आयोग को इस मामले में संज्ञान लेकर कड़ कार्रवाई करना चाहिए।