देहरादून : उत्तराखंड विधानसभा के शीतकालीन सत्र का चौथा दिन सत्ता पक्ष और विपक्ष दोनों ने सरकार को असहज किया। एक प्रश्न का सम्बन्धित मंत्री की ओर से सन्तोषजनक उत्तर ना मिलने पर दोनों पक्षों के बीच हंगामा हो गया और विस अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने सम्बन्धित प्रश्न को स्थगित कर दिया।

सदन में शुक्रवार को जैसे ही कार्यवाही शुरू हुई, विपक्षी कांग्रेस ने नियम 310 के अंतर्गत, गैरसैंण को स्थायी राजधानी बनाने पर सरकार से स्थिति स्पष्ट करने की मांग करते हुए हंगामा शुरू कर दिया। नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रदेश अध्यक्ष ने गैरसैंण को ग्रीष्मकालीन राजधानी बनाने का बयान दिया है।

यह सरकार का अगर निर्णय है तो स्पष्ट किया जाए कि स्थायी राजधानी कहां बनेगी। पीठ ने इसे नियम 58 के तहत चर्चा की अनुज्ञा दी। भोजनावकाश के बाद इस पर चर्चा शुरू हुई। दूसरी तरफ अल्पसूचित प्रश्नों पर चर्चा के दौरान गाय को राष्ट्रीय पशु घोषित करने के बावजूद सड़कों पर गोवंशीय पशु आवारा घूमते हैं।

इन्हें संरक्षित करने के प्रश्न पर पशुपालन राज्यमंत्री रेखा आर्य के उत्तर से असंतुष्ट भाजपा ही नहीं, अपितु कांग्रेस विधायकों ने हंगामा शुरू कर दिया। इससे सरकार को असहजता का सामना करना पड़। इस पर विस अध्यक्ष ने उक्त प्रश्न को स्थगित कर दिया। इतना ही नहीं, अध्यक्ष ने सदन में विधायकों द्वारा ठीक तरह से प्रश्न ना पूछने और मंत्रियों द्वारा बिना तैयारी के प्रश्न को उत्तर दिए जाने पर चेतावनी दी।

फिर गूंजा उत्तराखंड में विधानसभा लोकायुक्त के गठन का मसला