BREAKING NEWS

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ में पार्टी के सफाए से राहुल गांधी ज्यादा नाराज !◾अमेठी : सुरेंद्र सिंह के भाई ने बताया- राजनीतिक रंजिश में हुई हत्या◾शारदा घोटाला : सीबीआई ने जारी किया राजीव कुमार के खिलाफ लुकआउट नोटिस ◾ISIS की नौकाओं को लेकर खुफिया सूचना के बाद केरल के तटवर्ती इलाकों में हाई अलर्ट ◾मंत्री बनना चाहती हैं हेमा मालिनी◾मोदी की जीत पर विश्व नेताओं की बधाई का जारी है सिलसिला◾ये नए भारत का, नया उत्तर प्रदेश बनाने का जनादेश : योगी आदित्यनाथ◾नरेंद्र मोदी ने उपराष्ट्रपति नायडू से की मुलाकात, बताया शिष्टाचार भेंट◾बिहार : राजद को अब बदलनी होगी जातिवाद की रणनीति !◾प्रचंड जीत के बाद मां हीराबेन से मिलने जाएंगे मोदी, पटेल की मूर्ति पर करेंगे माल्यार्पण◾नरेंद्र मोदी की सांसदों को नसीहत, बोले- छपास एवं दिखास से बचिए, मिठास रखिए ◾केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी के करीबी पूर्व ग्राम प्रधान सुरेंद्र सिंह की गोली मारकर हत्या◾भाजपा बंगाल में सांप्रदायिक जहर फैलाकर जीती : ममता◾मतदाताओं और कार्यकर्ता का धन्यवाद करने वायनाड जायेंगे राहुल◾केरल के तटों पर हाई अलर्ट, ISIS के 15 आतंकवादी भारत में घुसने की फिराक में - खुफिया रिपोर्ट◾ममता के इस्तीफे की पेशकश को बीजेपी ने बताया 'नाटक' ◾सोनिया गांधी ने जीत के लिए अपने संसदीय क्षेत्र की जनता एवँ सपा-बसपा के कार्यकर्ताओं का आभार किया व्यक्त◾राज्य के विशेष दर्जा को बरकरार रखने के लिए एनसी लड़ेगी लड़ाई : फारूक अब्दुल्ला◾2019 के जनादेश ने लोकतंत्र को परिवारवाद, जातिवाद और तुष्टीकरण के नासूरों से निकाला : शाह◾जनता का आभार जताने सोमवार को वाराणसी जाएंगे मोदी◾

अन्य राज्य

सिर्फ बलात्कार पीड़िता का बयान हमेशा विश्वसनीय नहीं हो सकता : बंबई उच्च न्यायालय

बंबई उच्च न्यायालय ने बलात्कार के एक मामले में 19 वर्षीय एक युवक की दोषसिद्धि को निरस्त कर दिया और उसे बरी करते हुए कहा कि सिर्फ पीड़िता के बयान को ही हमेशा पर्याप्त साक्ष्य नहीं माना जा सकता। न्यायमूर्ति रेवती मोहिते डेरे की एकल पीठ ने कहा कि इस तरह के मामलों में पीड़िता के बयान को अवश्य ही ठोस और विश्वसनीय होना चाहिए।

 न्यायाधीश ने अपने आदेश में कहा कि और यदि इस तरह का बयान भरोसा नहीं दिलाता है,तब व्यक्ति संदेह का लाभ दिए जाने का हकदार है। उन्होंने पिछले महीने इस मामले में अपना फैसला सुनाया था लेकिन उनके आदेश का ब्यौरा इस हफ्ते की शुरूआत में सार्वजनिक किया गया। महाराष्ट्र के ठाणे जिला स्थित एक गांव के निवासी सुनिल शेलके की अपील पर वह सुनवाई कर रही थी।

गौरतलब है कि शेलके ने एक स्थानीय अदालत के 2014 के उस आदेश को चुनौती दी थी जिसमें उन्हें बलात्कार के मामले में दोषी ठहराया गया था और सात साल कैद की सजा सुनाई गई थी। शेलके ने अपने खिलाफ लगाए गए आरोपों से इनकार करते हुए दावा किया था कि किसी कारणवश उन दोनों (शेलके और पीड़िता) की शादी की योजना सफल नहीं हो सकी, इसलिए पीड़िता और उसके परिवार के लोगों ने उस पर बलात्कार का आरोप लगाया था।

 उच्च न्यायालय ने कहा कि पीडिता कथित बलात्कार की घटना के दिन क्या हुआ था उस बारे मे ठोस जानकारी देने में नाकाम रही है और मेडिकल रिपोर्ट में भी उसे किसी तरह की चोट पहुंचने का खुलासा नहीं हुआ है। अदालत ने कहा, ‘‘कानूनन, पीड़िता के एकमात्र बयान के आधार पर आरोपी को दोषी ठहराने में कोई बाधा नहीं है लेकिन यह देखे जाने की जरूरत है कि क्या पीड़िता का बयान भरोसे लायक है।’’