BREAKING NEWS

पाकिस्तान ने इस साल 2050 बार किया संघर्षविराम उल्लंघन, मारे गए 21 भारतीय◾संतोष गंगवार के 'नौकरी' वाले बयान पर प्रियंका का पलटवार, बोलीं- ये नहीं चलेगा◾CM विजयन ने हिंदी भाषा पर बयान को लेकर की अमित शाह की आलोचना, दिया ये बयान◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में 'अप्रत्याशित जीत' हासिल करने के लिए तैयार है BJP : फडणवीस◾ देश में रोजगार की कमी नहीं बल्कि उत्तर भारतीयों में है योग्यता की कमी : संतोष गंगवार ◾ममता बनर्जी पर हमलावर हुए BJP विधायक सुरेंद्र सिंह, बोले- होगा चिदंबरम जैसा हश्र◾International Day of Democracy: ममता का मोदी सरकार पर वार, आज के दौर को बताया 'सुपर इमरजेंसी'◾शरद पवार बोले - जो प्यार पाकिस्तान से मिला है, वैसा कहीं नहीं मिला◾इमरान खान ने माना, भारत से हुआ युद्ध तो हारेगा पाकिस्तान◾मंत्रियों के अटपटे बयानों से अर्थव्यवस्था का कल्याण नहीं होगा : यशवंत सिन्हा◾अर्थव्यवस्था में सुस्ती पर बोले नितिन गडकरी - मुश्किल वक्त है बीत जाएगा◾शिवपाल यादव की कमजोरी में खुद की मजबूती देख रही समाजवादी पार्टी◾चिन्मयानंद मामला : पीड़िता ने एसआईटी को सौंपे 43 वीडियो, स्वामी को बताया 'ब्लैकमेलर'◾हरियाणा के लिए कांग्रेस ने गठित की स्क्रीनिंग कमेटी ◾काशी, मथुरा में मस्जिद हटाने के लिए दी जाएगी अलग जमीन : स्वामी ◾सारदा मामला : कोलकाता के पूर्व पुलिस आयुक्त CBI के समक्ष नहीं हुए पेश◾कांग्रेस 2 अक्टूबर को करेगी पदयात्रा◾अमित शाह 18 सितंबर को जामताड़ा से रघुवर दास की जनआशीर्वाद यात्रा करेंगे शुरू◾PAK ने आतंकवाद को नहीं रोका तो उसके टुकड़े होने से कोई नहीं रोक सकता : राजनाथ ◾मॉब लिंचिंग : NCP ने मोदी सरकार पर साधा निशाना , कहा - ऐसी घटना पहले कभी सुनाई नहीं देती थी लेकिन अब अक्सर सुन सकते हैं◾

अन्य राज्य

गोवा में खनन पर निर्भर लोगों ने किया प्रदर्शन

गोवा में खनन क्षेत्र में काम करनेवाले लगभग 2,000 से ज्यादा लोगों ने गुरुवार को पणजी के समीप प्रदर्शन किया और सरकार पर खदानों में काम शुरू करने के मुद्दे को गंभीरता से न लिए जाने का आरोप लगाया। गोवा माइनिंग पीपल्स फ्रंट के समन्वयक पुति गांवकर ने कहा कि राज्य सरकार को सर्वोच्च न्यायालय में गोवा, दमन और दीव खनन पट्टे (खनन पट्टों के रूप में खनन रियायतों और घोषणा की समाप्ति) अधिनियम 1987 में एक संशोधन करने के लिए शपथपत्र दाखिल करना चाहिए, जिससे इसे समुचित तरीके से लागू किया जा सके। इस संशोधन से स्वत: ही गोवा के लौह अयस्क पट्टे की लीज सीमा 2037 तक बढ़ जाएगी, जो 2007 में समाप्त हो गई थी।

 गोवा मुख्य सचिव परिमल राय को ज्ञापन सौंपने के बाद गांवकर ने कहा, 'स्थिति यहां तक इसलिए पहुंची, क्योंकि सरकार ने खनन बहाल करने के मुद्दे को हल्के में लिया। हम यह भी मांग करते हैं कि सर्वोच्च न्यायालय में मामले का प्रतिनिधित्व करने वाले सहायक सॉलिस्टिर जनरल आत्माराम नादकर्णी को हटाकर किसी वरिष्ठ वकील को इस स्थान पर लाया जाए, क्योंकि वह खनन पट्टों की नवीनीकरण के स्थान पर नीलामी करना चाहते हैं।' सर्वोच्च न्यायालय ने मार्च 2018 से गोवा के 88 खनन पट्टों से लौह अयस्क की खुदाई और ट्रांस्र्पोटेशन पर रोक लगा दी थी और सरकार को खनन पट्टों को दोबारा जारी करने के निर्देश दिए थे। इसके बाद से राज्य में इस मामले में ने तूल पकड़ लिया है।