BREAKING NEWS

UP: हरिद्वार विवाद से अलीगढ़ प्रशासन ने लिया सबक, प्रस्तावित धर्म संसद की अनुमति देने से किया इनकार ◾Today's Corona Update : देश में गिरने लगा कोरोना का ग्राफ, पिछले 24 घंटे में ढाई लाख से कम नए केस ◾दिल्ली: गाजीपुर में RDX मिलने के बाद सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए पुख्ता, गणतंत्र दिवस पर तीसरी आंख रखेगी नजर◾World Coronavirus : वैश्विक स्तर पर कोरोना मामलों में वृद्धि, 33.02 करोड़ से ऊपर पहुंचा आंकड़ा◾देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾पंजाब विधान सभा चुनाव - गठबंधन तय लेकिन सीटों को लेकर अभी तक नहीं हो पाया है अंतिम फैसला ◾कांग्रेस ने अरबपतियों की संपत्ति बढ़ने संबंधी रिपोर्ट को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾राज्यों की झांकी न शामिल करने के लिए केंद्र की आलोचना करना गलत परम्परा : सरकारी सूत्र ◾ केजरीवाल आज करेंगे पंजाब में ‘आप’ के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार की घोषणा◾गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र ◾भारत वर्तमान ही नहीं बल्कि अगले 25 वर्षों के लक्ष्य को लेकर नीतियां बना रहा है : PM मोदी ◾उद्योग जगत ने WEF में PM मोदी के संबोधन का किया स्वागत ◾ कोरोना से निपटने के योगी सरकार के तरीके को लोग याद रखेंगे और भाजपा के खिलाफ वोट डालेंगे : ओवैसी◾गाजीपुर मंडी में मिले IED प्लांट करने की जिम्मेदारी आतंकी संगठन MGH ने ली◾दिल्ली में कोविड-19 के मामले कम हुए, वीकेंड कर्फ्यू काम कर रहा है: सत्येंद्र जैन◾कोविड-19 से उबरने का एकमात्र रास्ता संयुक्त प्रयास, एक दूसरे को पछाड़ने से प्रयासों में होगी देरी : चीनी राष्ट्रपति ◾ ओवैसी की पार्टी AIMIM ने जारी की उम्मीदवारों की दूसरी सूची, 8 सीटों पर किया ऐलान◾दिल्ली में कोरोना का ग्राफ तेजी से नीचे आया, 24 घंटे में 12527 नए केस के साथ 24 मौतें हुई◾

कोरोना के खिलाफ MP में अपनाई गई रणनीति को PM मोदी ने सराहा : शिवराज सरकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना संक्रमण और टीकाकरण की रणनीति को लेकर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिव के साथ 10 जिलों के डीएम और राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक की। जिसके बाद मध्य प्रदेश सरकार ने कहा है कि कोरोना के विरूद्ध लड़ाई में जो रणनीति मध्य प्रदेश में अपनाई गई, उसे प्रधानमंत्री ने भी सराहा है और अन्य राज्यों को इसका अनुसरण करने के लिए भी कहा है।

मध्य प्रदेश सरकार ने बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘‘कोरोना वायरस संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिये राज्य शासन द्वारा जन-भागीदारी के साथ चलाये गये अभियानों एवं नवाचारों के सु-परिणामों से एक बार फिर मध्य प्रदेश पूरे देश में मॉडल बन कर उभरा है। कोरोना वायरस जैसे अदृश्य शत्रु से लड़ने में जो रणनीति मध्यप्रदेश में अपनाई गई, उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सराहा है और अन्य राज्यों को इसका अनुसरण करने के लिए भी कहा है।’’ 

उसने कहा कि आज की स्थिति में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं प्रबंधन के लिए किए जा रहे नवाचारों तथा प्रदेश में जन-सहयोग से हो रहे समन्वित प्रयासों से कोरोना संक्रमण की स्थिति को काफी हद तक नियंत्रित कर लिया गया है।

बयान के अनुसार मध्य प्रदेश की कोरोना वायरस की संक्रमण दर एक मई को 20.3 प्रतिशत थी, और आज 19 मई को घटकर 6.96 प्रतिशत हो गई है। उपचाररत मरीजों की संख्या के हिसाब से मध्य प्रदेश 21 अप्रैल को देश में सातवें नंबर पर था। आज की स्थिति में बेहतर सुधार के साथ वह 15 वें नंबर पर आ गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी से एक जुट होकर जो लड़ाई लड़ी गई उसमें सभी वर्गों की सहभागिता रही है। यह कार्य अकेले शासन स्तर पर नहीं किया जा सकता था। इस बात को ध्यान में रखते हुए अनेक ऐसे कार्यक्रम और नवाचार किए गए जिससे समाज के हर वर्ग ने सक्रिय भूमिका निभाई। इसी का परिणाम है कि हम प्रदेश में संक्रमण की चेन को तोड़ने में सफल रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा निरंतर बढ़ाई गई उपचार की व्यवस्थाओं में समाज सेवी संगठन भी स्व-प्रेरणा से सहयोग के लिए आगे आए तथा अनेक जिलों में सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से सर्व सुविधायुक्त कोविड देखभाल केंद्र बन कर तैयार हुए। चौहान के अनुसार वे साथ ही कई जिलों में ऑक्सीजन सांद्रक जैसे जीवनदायी उपकरण भी उपलब्ध करवाए गए।

बयान के अनुसार प्रदेश में 'मैं भी कोरोना वॉलेंटियर्स' अभियान ने जन-आंदोलन का रूप ले लिया। देखते ही देखते एक लाख से अधिक कोरोना वॉलेंटियर्स स्व-प्रेरणा से काम करने आगे आये। इन्होंने शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में जिस जिम्मेदारी के साथ अपना दायित्व निभाया है, वह तारीफे काबिल है। प्रदेश की अधिकांश ग्राम पंचायतों ने स्व-प्रेरणा से निर्णय लेकर सभी गाँवों में जनता कर्फ्यू लगाया। 

ग्रामीणों द्वारा लिए गए इस महत्वपूर्ण संकल्प से अनेक गांव ऐसे हैं, जिनमें कोरोना प्रवेश ही नहीं कर पाया। उपचार की व्यवस्थाओं के साथ राज्य सरकार ने दिन प्रति दिन कोरोना जांच के प्रतिशत को भी बढ़ाया। 18 मई को रिकार्ड 72,756 जांच किए गए। एग्रेसिव टेस्टिंग के लिए शहरों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में मोबाइल टेस्टिंग यूनिट भी कार्य कर रही है। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में चलाये जा रहे किल कोरोना अभियान-3 में घर-घर जाकर सर्वे का कार्य किया जा रहा है।