BREAKING NEWS

जम्मू-कश्मीर: महबूबा मुफ्ती की केंद्र से मांग, अलगावादी नेता अल्ताफ शाह को मानवीय आधार पर किया जाए रिहा ◾भारत जोड़ो यात्रा से केंद्र पर वार! राहुल कोरोना पीड़ित परिवार से मिले, बोले- सुविधाओं के नाम पर मिला छल◾शर्मनाक : 8 लोगों ने बारी-बारी किया नाबालिग का रेप, 50 हजार ऐंठने के बाद वायरल किया Video◾राजनाथ सिंह बोले-मेक इन इंडिया पर है रक्षा उत्पादन में हमारी सरकार का जोर◾कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव : खड़गे ने नेता प्रतिपक्ष से दिया इस्तीफा, अब कौन होगा राज्यसभा में LOP?◾खड़गे को अध्यक्ष बनाना गांधी परिवार की बनी मजबूरी, इन दो कारणों ने बिगाड़ा दिग्विजय सिंह का खेल◾देश में 5G सर्विस नए दौर की दस्तक और अवसरों के अनंत आकाश की शुरुआत : मोदी◾पाकिस्तान पर बड़ी डिजिटल स्ट्राइक, भारत में शहबाज सरकार के ट्वीटर पर BAN ◾नीतीश नहीं तेजस्वी यादव के हाथों में होगी बिहार की बागडोर? राजद नेताओं ने कर दिया ऐलान ◾ '... जाके कछु नहीं चाहिए, वे शाहन के शाह', दिग्विजय सिंह के इस tweet के क्या हैं मायने?◾Amazing स्पीड के साथ...No बफरिंग, 10 गुना होगी इंटरनेट की रफ्तार, देश में लॉन्च हुई 5G सर्विस◾दिल्ली : पुरानी आबकारी नीति से मालामाल हुई दिल्ली सरकार, एक महीने में कमाए 768 करोड़◾Pitbull का बढ़ता कहर, अब पंजाब में एक रात एक अंदर 12 लोगों को बनाया शिकार◾RBI Hike Repo Rate : ग्राहकों को लगा बड़ा झटका, रेपो रेट के बाद SBI समेत इन बैंकों में बयाज दर में बढ़ोतरी◾अशोक गहलोत का बड़ा खुलासा, जानिए अंतिम समय में क्यों अध्यक्ष पद चुनाव लड़ने से किया मना◾दिल्ली : हैवानियत का शिकार हुआ मासूम हारा जिंदगी की जंग, LNJP अस्पताल में 14 दिन बाद मौत◾कोविड19 : देश में पिछले 24 घंटो में कोरोना संक्रमण के 3,805 नए मामले दर्ज़, 26 मरीजों मौत ◾अजब प्रेम की गज़ब कहानी : पाकिस्तान की लड़की को हुई नौकर से मोहब्बत, कहा- प्यार अमीर-गरीब नहीं देखता ◾उत्तराखंड : केदारनाथ मंदिर के पास खिसका बर्फ का पहाड़, देखें Video◾LPG Price Update : 25.5 रुपए की कटौती के साथ सस्ता हुआ कमर्शियल LPG गैस सिलेंडर◾

कोरोना के खिलाफ MP में अपनाई गई रणनीति को PM मोदी ने सराहा : शिवराज सरकार

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कोरोना संक्रमण और टीकाकरण की रणनीति को लेकर मुख्य सचिव, स्वास्थ्य सचिव के साथ 10 जिलों के डीएम और राज्यों के मुख्यमंत्री के साथ बैठक की। जिसके बाद मध्य प्रदेश सरकार ने कहा है कि कोरोना के विरूद्ध लड़ाई में जो रणनीति मध्य प्रदेश में अपनाई गई, उसे प्रधानमंत्री ने भी सराहा है और अन्य राज्यों को इसका अनुसरण करने के लिए भी कहा है।

मध्य प्रदेश सरकार ने बुधवार को जारी एक आधिकारिक बयान में कहा, ‘‘कोरोना वायरस संक्रमण की श्रृंखला को तोड़ने के लिये राज्य शासन द्वारा जन-भागीदारी के साथ चलाये गये अभियानों एवं नवाचारों के सु-परिणामों से एक बार फिर मध्य प्रदेश पूरे देश में मॉडल बन कर उभरा है। कोरोना वायरस जैसे अदृश्य शत्रु से लड़ने में जो रणनीति मध्यप्रदेश में अपनाई गई, उसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सराहा है और अन्य राज्यों को इसका अनुसरण करने के लिए भी कहा है।’’ 

उसने कहा कि आज की स्थिति में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा मध्य प्रदेश में कोरोना वायरस के नियंत्रण एवं प्रबंधन के लिए किए जा रहे नवाचारों तथा प्रदेश में जन-सहयोग से हो रहे समन्वित प्रयासों से कोरोना संक्रमण की स्थिति को काफी हद तक नियंत्रित कर लिया गया है।

बयान के अनुसार मध्य प्रदेश की कोरोना वायरस की संक्रमण दर एक मई को 20.3 प्रतिशत थी, और आज 19 मई को घटकर 6.96 प्रतिशत हो गई है। उपचाररत मरीजों की संख्या के हिसाब से मध्य प्रदेश 21 अप्रैल को देश में सातवें नंबर पर था। आज की स्थिति में बेहतर सुधार के साथ वह 15 वें नंबर पर आ गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘कोरोना वायरस जैसी घातक बीमारी से एक जुट होकर जो लड़ाई लड़ी गई उसमें सभी वर्गों की सहभागिता रही है। यह कार्य अकेले शासन स्तर पर नहीं किया जा सकता था। इस बात को ध्यान में रखते हुए अनेक ऐसे कार्यक्रम और नवाचार किए गए जिससे समाज के हर वर्ग ने सक्रिय भूमिका निभाई। इसी का परिणाम है कि हम प्रदेश में संक्रमण की चेन को तोड़ने में सफल रहे हैं।’’

उन्होंने कहा कि राज्य शासन द्वारा निरंतर बढ़ाई गई उपचार की व्यवस्थाओं में समाज सेवी संगठन भी स्व-प्रेरणा से सहयोग के लिए आगे आए तथा अनेक जिलों में सामाजिक संस्थाओं के सहयोग से सर्व सुविधायुक्त कोविड देखभाल केंद्र बन कर तैयार हुए। चौहान के अनुसार वे साथ ही कई जिलों में ऑक्सीजन सांद्रक जैसे जीवनदायी उपकरण भी उपलब्ध करवाए गए।

बयान के अनुसार प्रदेश में 'मैं भी कोरोना वॉलेंटियर्स' अभियान ने जन-आंदोलन का रूप ले लिया। देखते ही देखते एक लाख से अधिक कोरोना वॉलेंटियर्स स्व-प्रेरणा से काम करने आगे आये। इन्होंने शहरी क्षेत्र के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में जिस जिम्मेदारी के साथ अपना दायित्व निभाया है, वह तारीफे काबिल है। प्रदेश की अधिकांश ग्राम पंचायतों ने स्व-प्रेरणा से निर्णय लेकर सभी गाँवों में जनता कर्फ्यू लगाया। 

ग्रामीणों द्वारा लिए गए इस महत्वपूर्ण संकल्प से अनेक गांव ऐसे हैं, जिनमें कोरोना प्रवेश ही नहीं कर पाया। उपचार की व्यवस्थाओं के साथ राज्य सरकार ने दिन प्रति दिन कोरोना जांच के प्रतिशत को भी बढ़ाया। 18 मई को रिकार्ड 72,756 जांच किए गए। एग्रेसिव टेस्टिंग के लिए शहरों एवं ग्रामीण क्षेत्रों में मोबाइल टेस्टिंग यूनिट भी कार्य कर रही है। साथ ही शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में चलाये जा रहे किल कोरोना अभियान-3 में घर-घर जाकर सर्वे का कार्य किया जा रहा है।