माकपा ने मालेगांव विस्फोट मामले में आरोपी साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर को भोपाल से भाजपा उम्मीदवार बनाये जाने की निंदा करते हुये कहा है कि भाजपा और प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने देश में चुनावी माहौल को दूषित करने के लिये यह फैसला किया है। माकपा पोलित ब्यूरो द्वारा शनिवार को जारी बयान में कहा गया है कि भोपाल लोकसभा क्षेत्र से भाजपा उम्मीदवार के रूप में प्रज्ञा का नामांकन भाजपा और मोदी के अनुचित फैसले का नतीजा है, माकपा इसकी कड़ी निंदा करती है।

 पोलित ब्यूरो ने कहा, ‘‘यह सर्वविवदित है कि ठाकुर आतंकवाद से जुड़े कई मामलों में आरोपी हैं और आरोपपत्र में उनका नाम शामिल है। मोलगांव विस्फोट मामले में वह गैरकानूनी गतिविधि निरोधक कानून के दायरे में वह अब भी जांच का सामना कर रही हैं।’’ माकपा ने कहा कि इसके बावजूद भाजपा ने ठाकुर को उम्मीदवार बना कर आतंकवाद के खिलाफ अपने रुख से पलटी मारी है।

 पार्टी ने कहा, ‘‘ठाकुर ने शहीद पुलिस अफसर हेमंत करकरे की शहादत को अपमानित किया है। इसकी व्यापक आलोचना हुयी, इसके बावजूद मोदी ने उनके नामांकन को हजारों साल पुराने धार्मिक, दार्शनिक और सांस्कृतिक मूल्यों का प्रतीक बताकर धृष्टतापूर्वक जायज ठहराया है।’’ पार्टी पोलित ब्यूरो ने इसकी आलोचना करते हुये कहा है कि यह सब चुनाव प्रक्रिया, कानून के राज और संवैधानिक व्यवस्था को दूषित करने का भाजपा के प्रयास का नतीजा है। पार्टी ने देशवासियों से इन प्रयासों को चुनाव में नकार कर हराने की अपील की है।