BREAKING NEWS

उपचुनाव LIVE : 18 राज्यों की 51 विधानसभा और 2 लोकसभा सीटों पर मतदान जारी◾LIVE : महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए मतदान जारी, गडकरी समेत कई दिग्गजों ने डाला वोट◾केजरीवाल ने BJP पर साधा निशाना - बिजली सब्सिडी खत्म कर देगी भाजपा◾पोस्ट पेमेंट बैंक ने चुनौतियों को अवसर में बदला : PM मोदी ◾प्याज के मुद्दे पर भाजपा का केजरीवाल पर हमला, मुख्यमंत्री आवास का होगा घेराव◾सीमा पार तीन आतंकी शिविर ध्वस्त किये गए, 6-10 पाक सैनिक ढेर : सेना प्रमुख ◾PoK में भारतीय सेना की बड़ी कार्रवाई : सेना ने LoC पार जैश, हिजबुल के 35 आतंकी मार गिराए◾30 अक्टूबर को जामिया के दीक्षांत समारोह में राष्ट्रपति कोविंद होंगे मुख्य अतिथि◾महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के लिए कल होगा मतदान, BJP लगातार दूसरे कार्यकाल की कोशिश में ◾वैश्विक आर्थिक जोखिमों के कारण बहुपक्षीय सहयोग को मजबूत करने की जरूरत : सीतारमण ◾मनमोहन सिंह करतारपुर गलियारे के औपचारिक उद्घाटन में नहीं होंगे शामिल : सूत्र◾TOP 20 NEWS 20 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत की तरफ से गोलीबारी में हमारे 4 जवान शहीद, हमने भारतीय सेना के 9 सैनिकों को मार गिराया : PAK◾कमलेश तिवारी हत्याकांड: योगी से मिले परिजन, पत्नी बोली- CM ने हर संभव कार्रवाई का दिया आश्‍वासन◾भारतीय सेना ने PoK में तबाह किए आतंकी कैंप, 5 पाकिस्तानी सैनिक ढेर◾अभिजीत बनर्जी को लेकर BJP पर राहुल ने साधा निशाना, कहा- ये बड़े लोग नफरत से अंधे हो गए है◾अभिजीत बनर्जी के नोबेल पुरस्कार को राजनीतिक चश्मे से न देखा जाए : मायावती◾क्रिप्टोकरेंसी को लेकर सतर्कता बरत रहे हैं देश : निर्मला सीतारमण◾पाकिस्तान ने किया संषर्ष विराम का उल्लंघन, 2 सैनिक शहीद, 1 नागरिक की मौत◾तुर्की ने कश्मीर मुद्दे पर पाकिस्तान का दिया साथ, PM मोदी ने रद्द की यात्रा ◾

अन्य राज्य

खुशियों की सवारी को दोबारा पीपीपी मोड में देने की तैयारी

देहरादून : उत्तराखंड में प्रसव के बाद जच्चा-बच्चा को घर तक छोड़ने वाली खुशियों की सवारी सेवा का संचालन करने में जिलों के सीएमओ फेल हो गए। लगभग ढाई माह पहले सीएमओ को सेवा का संचालन करने को कहा गया था। अब इस सेवा के लिए दोबारा से टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। स्वास्थ्य महानिदेशालय की ओर से इच्छुक कंपनियों से ऑनलाइन आवेदन मांगे हैं। 

बीते मार्च तक 108 और खुशियों की सवारी का संचालक जीवीके संस्था करती थी। प्रदेश में कुल 95 खुशियों की सवारियां संचालित होती थीं। लेकिन, इस बार इन दोनों सेवाओं को जीवीके से ले लिया गया। 108 का निविदा के आधार पर काम कैंपा कंपनी को दे दिया गया, लेकिन खुशियों की सवारी के वाहन अभी जस के तस खड़े हैं। अप्रैल माह में शासन ने खुशियों की सवारियों को जिलों के सीएमओ को संचालित करने के लिए कहा था। 

इसके बाद सीएमओ स्तर पर इसके लिए टेंडर आदि किए जाने थे। लेकिन, इसके संचालन में कभी दर कम होने का तो कभी चालक भर्ती होने का पेंच फस गया। सीएमओ इस सेवा के लिए अभी तक चालकों की भर्ती तक नहीं कर पाए थे। इस संबंध में पिछले दिनों कुछ जिलों के सीएमओ ने स्वास्थ्य महानिदेशालय को अवगत करा दिया था। 

राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के डायरेक्टर युगल किशोर पंत ने बताया कि जिला स्तर पर इस सेवा का संचालन नहीं हो पा रहा था। लिहाजा इसके लिए टेंडर प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। जल्द ही खुशियों की सवारियों का जिम्मा निविदा में पात्र कंपनी या संस्था को दिया जा सकता है।

- सुनील तलवाड़