BREAKING NEWS

विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की सुरक्षा पर केंद्र ने झाड़ा पल्ला, कहा- इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागरूकता मिशन की शुरुआत करेंगे ‘गोल्डन ब्वाय’ नीरज चोपड़ा ◾'ओमिक्रोन' के चलते सरकार ने पीछे खींचे अपने कदम, 15 दिसंबर से शुरू नहीं होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें◾सरकार ने राज्यसभा में बताया- देश में नक्सली हिंसा की घटनाओं में 70 फीसदी की आई कमी ◾किसानों की मौत के 'जीरो' रिकॉर्ड पर भड़की कांग्रेस, खड़गे बोले-यह किसानों का अपमान◾जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई बड़ी गिरावट, सरकार ने राज्यसभा में बताया पिछले एक साल में इतने जवान हुए शहीद ◾UP चुनाव : BJP ने खेला धार्मिक कार्ड, केशव मौर्य का नारा 'अयोध्या-काशी.... जारी, अब मथुरा की तैयारी' ◾अखिलेश का BJP पर कटाक्ष, बोले- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते ◾दिल्ली में 8 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने VAT में कटौती का किया ऐलान◾SKM का दावा '700 से ज्यादा किसानों ने गंवाई जान', तोमर बोले- सरकार के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं...◾4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾

राष्ट्रपति कोविंद ने कहा- साइबर, अंतरिक्ष खतरों के लिए उन्नत तकनीकी प्रतिक्रियाओं की है जरूरत

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद तमिलनाडु के पांच दिवसीय आधिकारिक दौरे पर है। रक्षा सेवा स्टाफ कॉलेज, वेलिंगटन (तमिलनाडु) में अपने संबोधन के दौरान उन्होंने कहा कि साइबर जगत और अंतरिक्ष में उभरते खतरों के लिए अत्याधुनिक तकनीकी प्रतिक्रिया की जरूरत है। नॉन-स्टेट एक्टर्स द्वारा उन्नत प्रौद्योगिकी का उपयोग भी उन्नत प्रतिक्रिया की मांग करता है।

उन्होंने आगे कहा कि जलवायु परिवर्तन जैसे मुद्दों का सुरक्षा तैयारियों पर असर पड़ सकता है। उन्होंने इस पाठ्यक्रम में भाग ले रहे अन्य देशों के 30 सहित युवा छात्र अधिकारियों से कहा, ऐसे सभी मुद्दे राष्ट्र की सुरक्षा गणना को प्रभावित करते हैं। आपको उनके निहितार्थों को समझना होगा ताकि आप उनसे निपटने के लिए बेहतर तरीके से तैयार हो।

उन्होंने कहा कि देश के उच्च रक्षा संगठन में महत्वपूर्ण बदलाव किए जा रहे हैं और रक्षा क्षेत्र में स्वदेशीकरण और आत्मनिर्भरता को भी प्रोत्साहन दिया जा रहा है। उन्होंने जोर देकर कहा कि ये पहल सशस्त्र बलों के भविष्य को तैयार करने की दृष्टि से की गई है। उन्होंने युवा छात्र अधिकारियों से कहा कि जैसे-जैसे वे विकास की सीढ़ी पर चढ़ेंगे, उन्हें एकल सेवा दक्षताओं के स्तर से बहु-क्षेत्रीय चुनौतियों तक स्नातक करना होगा।

उन्होंने कहा कि इसके लिए संयुक्त और बहु-डोमेन संचालन की अधिक समझ की आवश्यकता है। उन्होंने भारतीय सशस्त्र बलों की भी प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने अथक प्रयासों और महान बलिदानों से नागरिकों का सम्मान अर्जित किया है। राष्ट्रपति ने कहा कि उन्होंने युद्ध और शांति के समय में राष्ट्र के लिए अमूल्य सेवाएं प्रदान की हैं। उन्होंने आंतरिक और बाहरी सुरक्षा चुनौतियों का सामना करते हुए और प्राकृतिक आपदाओं के समय में समर्पण और साहस के साथ अपने कर्तव्यों का निर्वहन किया है।

राष्ट्रपति ने सीमाओं पर स्थिति के साथ-साथ कोविड-19 महामारी से निपटने में सशस्त्र बलों के पुरुषों और महिलाओं द्वारा प्रदर्शित उत्कृष्ट धैर्य और ढृढ़ संकल्प की सराहना की। उन्होंने कारगिल विजय दिवस पर कश्मीर घाटी की अपनी हालिया यात्रा के बारे में भी बात की जहां उन्होंने अधिकारियों और सैनिकों के साथ बातचीत की थी।

उन्होंने कहा कि उनके उच्च मनोबल और कर्तव्य के प्रति समर्पण को देखकर मुझे बहुत खुशी हुई। आप में से अधिकांश इन चुनौतियों से निपटने के लिए अग्रिम पंक्ति के योद्धाओं में से हैं। कोविंद ने कहा कि भारत चुनौतीपूर्ण समय से गुजर रहा है, जो बदलावों से भरा है और राष्ट्रीय सुरक्षा और रक्षा की अवधारणाएं भी बदल रही हैं।