BREAKING NEWS

गाजीपुर बॉर्डर पर भावुक हुए राकेश टिकैत, कहा- कृषि कानून वापस नहीं तो कर लूंगा आत्महत्या◾ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा से संबंधित मामलों की जांच करेगी दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच, एक्शन शुरू◾भारत 26 जनवरी तक सबसे ज्यादा कोविड-19 टीकाकरण करने वाला पांचवां देश बन गया : स्वास्थ्य मंत्रालय◾WEF में बोले मोदी - कोरोना महामारी के दौरान भारत ने लोगों की जान बचाते हुए वैश्विक जिम्मेदारी भी निभायी ◾गाजीपुर विरोध स्थल पर भारी पुलिस बल की तैनाती, टिकैत बोले - आंदोलन नहीं रुकेगा◾विवादों में घिरे दीप सिद्धू का पलटवार, कहा - मैं गहरे भेद खोल दूंगा तो इन्हे भागने का रास्ता नहीं मिलेगा ◾बंगाल विधानसभा ने कृषि कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव को किया पारित, ममता बोलीं- दिल्ली हिंसा के लिए BJP जिम्मेदार ◾महामारी हो या बॉर्डर की चुनौती, भारत अपनी रक्षा के लिए मजबूती से हर कदम उठाने में सक्षम : PM मोदी ◾ट्रैक्टर रैली में घायल हुए पुलिसकर्मियों को लेकर केंद्र संवेदनशील, गृह मंत्री ने अस्पताल जाकर पूछा हालचाल ◾2020 में LAC पर चीन की हरकतों से दोनों देशों के संबंध गंभीर रूप से प्रभावित : एस जयशंकर◾CM केजरीवाल का ऐलान- अगले 2 साल में UP, उत्तराखंड समेत छह राज्यों में चुनाव लड़ेगी AAP◾2-3 उद्योगपतियों के लिए काम कर रहे हैं PM, किसान बिल की डिटेल को समझेंगे तो पूरे देश में होगा आंदोलन : राहुल ◾दिल्ली-NCR के लोगों को मिली राहत, NH-24 और दिल्ली से गाजियाबाद जाने वाले रास्ते खुले◾दिल्ली में फिर से महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर पैमाने पर 2.8 रही तीव्रता ◾कृषि कानून को लेकर 64वें दिन प्रदर्शन जारी, मंद पड़ी किसान आंदोलन की धार◾देश में कोरोना के 11 हजार नए मामले, महामारी से 123 और लोगों ने गंवाई जान◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 21.7 लाख से पार◾लाल किले पर हिंसा से संबंधित दिल्ली पुलिस की FIR में अभिनेता दीप सिद्धू और लक्खा सिधाना का आया नाम ◾प्रधानमंत्री मोदी आज NCC रैली और विश्व आर्थिक मंच के दावोस संवाद को करेंगे संबोधित ◾कृषि कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे भारतीय किसान यूनियन ने अपना धरना वापस लिया◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

प्रधानमंत्री ने प्रश्नकाल किया रद्द , लेकिन छात्रों को JEE और NEET परीक्षा में जवाब देने को मजबूर किया : असदुद्दीन ओवैसी

एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने शनिवार को आरोप लगाया कि कोविड-19 का हवाला देकर संसद के आगामी मानसून सत्र में प्रश्नकाल रद्द करने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व की सरकार, छात्रों को जेईई और नीट परीक्षा में जवाब देने के लिये मजबूर कर रही है।

प्रश्नकाल के बारे में पूछे जाने पर ओवैसी ने संवाददाताओं को बताया, “एक तरफ तो कोविड-19 का हवाला देकर नरेंद्र मोदी प्रश्नकाल में सवालों का जवाब नहीं देंगे, तो वहीं दूसरी तरफ आप छात्रों से कहते हैं कि जाओ और संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई) और राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) में सवालों का जवाब दो। यह उनका शासन है।”

ओवैसी ने कहा, “हम नहीं जानते कि हम कोविड-19 संकट पर सवाल उठा सकते हैं या नहीं और पूर्वी लद्दाख में जो हो रहा है उस पर चर्चा कर सकते हैं या नहीं क्योंकि कोई प्रश्नकाल नहीं होगा।” अलग-अलग अधिसूचनाओं में दो सचिवालयों - लोकसभा और राज्यसभा – ने पूर्व में कहा था कि 14 सितंबर से एक अक्टूबर तक चलने वाले सत्र में कोई अवकाश भी नहीं होगा और दोनों सदन शनिवार और रविवार को भी चलेंगे।

कोविड-19 महामारी के मद्देनजर सत्र दो पालियों में, -सुबह नौ बजे से एक बजे तक और अपराह्न तीन बजे से शाम सात बजे तक, चलेगा। उन्होंने कहा कि बहुमत के कारण सरकार अध्यादेश लाकर उन्हें कानून बना सकती है।

हैदराबाद से सांसद ने कहा, “आदर्श स्थिति में प्रश्नकाल होना चाहिए।” उन्होंने कहा कि कई देशों में प्रधानमंत्री कोरोना वायरस संबंधी मुद्दों पर संवाददाता सम्मेलन कर रहे हैं, वहीं मोदीजी सिर्फ वीडियो संदेश देते हैं।