BREAKING NEWS

प्रदूषण को लेकर केजरीवाल सरकार के खिलाफ मनोज तिवारी ने बांटे ‘मास्क’◾अखिलेश ने कहा भाजपा कर रही है बदनाम, सरकार ने कहा 'खिसियानी बिल्ली खंभा नोचे''◾फडणवीस ने ‘नटरंग’ का जिक्र करते हुए पवार पर साधा निशाना◾UP : अयोध्या फिर छावनी में तब्दील, लगाई गई धारा 144, ये है वजह !◾वंदे भारत एक्सप्रेस में आई तकनीकी खामी, एसी और पंखे के बिना करीब एक घंटे तक रहे यात्री ◾Instagram पर PM मोदी के हैं तीन करोड़ से अधिक फॉलोवर ◾फडणवीस ने ‘नटरंग’ का जिक्र करते हुए पवार पर साधा निशाना◾महाराष्ट्र के लोगों को कश्मीर की है फिक्र : रविशंकर प्रसाद ◾राजनाथ के फ्रांस दौरे पर राहुल ने कहा : भाजपा नेताओं को राफेल सौदे का हो रहा अपराधबोध ◾पाकिस्तान ने बारामूला में किया संघर्षविराम का उल्लंघन, एक जवान शहीद ◾चीन को पीछे छोड़ भारत की जनसंख्या हुई 150 करोड़ : गिरिराज ◾PM मोदी ने जम्मू-कश्मीर को बनाया भारत का अभिन्न अंग : शाह◾एशियाई संसदीय सभा की बैठक में कश्मीर मुद्दा उठाने पर थरूर ने पाकिस्तान की निंदा की ◾पश्चिम बंगाल भाजपा 15 अक्टूबर से गांधी संकल्प यात्रा निकालेगी ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना सरकार की योजनाएं जनकल्याण के लिए : योगी ◾मैसेज की राजनीति की आड़ में लोकतंत्र को खत्म कर रहे हैं PM मोदी : अशोक गहलोत ◾रविशंकर प्रसाद ने फिल्म की कमाई से जोड़ने वाला बयान वापस लिया ◾TOP 20 NEWS 13 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾महाराष्ट्र : लातूर में बोले राहुल-मुख्य मुद्दों से लोगों का ध्यान भटका रही है मोदी सरकार ◾महाराष्ट्र में बोले शाह-पहले के प्रधानमंत्रियों ने ‘‘56 इंच के सीने वाले व्यक्ति’’ जैसा साहस नहीं दिखाया◾

अन्य राज्य

बच्चा पैदा करने के लिए कैदी को मिली जेल से छुट्टी, मद्रास HC ने दी इजाजत

तमिलाडु में उम्रकैद की सजा काट रहे एक कैदी को परिवार बढ़ाने के लिए जेल से छुट्टी मिली है। संभवतः देश में इस तरह का यह पहला मामला है।जब कैदी को इस आधार पर छुट्टी दी जा रही है। वैसे विदेशों में ऐसा होता रहा है। मद्रास हाईकोर्ट ने तिरुनलवेली जिले के सेंट्रल जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे 40 साल के इस कैदी को दो हफ्ते की छुट्टी दी है।

आपको बता दे कि तिरुनलवेली जेल में बंद सिद्दिकी अली की 32 वर्षीय पत्नी ने जस्टिस एस. विमला देवी और टी कृष्णा वल्ली की कोर्ट में 'बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका' दायर की थी। जिसमें उसने वैवाहिक संबंध बनाने के लिए कैदी की छुट्टी के लिए याचिका डाली थी। इस बेंच ने मामले की सुनवाई करते हुए कैदी को वैवाहिक संबंध बनाने के लिए दो सप्ताह का अवकाश दिया है।

कई देशों में कैदियों को ऐसे अधिकार दिए गए हैं। केंद्र ने पहले ही एक प्रस्ताव को मंजूरी दी है कि संबंध स्थापित करना एक अधिकार है ना कि विशेषाधिकार और कैदियों को अपनी इच्छा पूरी करने का अधिकार है। कुछ देशों में कैदियों के संसर्ग अधिकार को मान्यता दी गई है। सरकार को ऐसी समस्याओं के समाधान तलाशने चाहिए।

पीठ ने कहा कि संसर्ग से परिवार के साथ रिश्ते कामय रखने में मदद मिलती है। आपराधिक प्रवृत्ति कम होती है और प्रेरणा मिलती हैं. कैदियों में सुधार न्याय में दी गई सुधार व्यवस्था का हिस्सा है। मौजूदा मामले में अदालत ने कहा कि प्राथमिक जांच में यह पता चला है कि कैदी परिवार बढ़ा सकता है।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।