BREAKING NEWS

ममता ने नागरिकता कानून को लेकर बंगाल में तोड़फोड़ करने वालों को कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दी ◾भाजपा ने आज तक जो भी वादे किए है वह पूरे भी किए गए हैं - राजनाथ◾असम में हालात काबू में, 85 लोगों को गिरफ्तार किया गया : असम DGP◾पीएम मोदी के सामने मंत्री देंगे प्रजेंटेशन, हो सकता है कैबिनेट विस्तार◾मध्यम आय वर्ग वाला देश बनना चाहते हैं हम : राष्ट्रपति ◾कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने रैली में पकौड़े बेच सत्ताधारियों का मजाक उड़ाया ◾भाजपा ने किया कांग्रेस सरकार के खिलाफ प्रदर्शन : किसानों के प्रति असंवेदनशील होने का लगाया आरोप ◾कांग्रेस जवाब दे कि न्यायालय में उसने भगवान राम के अस्तित्व पर क्यों सवाल उठाए : ईरानी◾दिल्ली के रामलीला मैदान में 22 दिसंबर को रैली कर दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरू करेंगे PM मोदी ◾जामिया के छात्रों ने आंदोलन फिलहाल वापस लिया◾सीएए के खिलाफ जनहित याचिका दायर की, एआईएमआईएम हरसंभव तरीके से कानून के खिलाफ लडे़गी : औवेसी◾गंगा बैराज की सीढियों पर अचानक फिसले प्रधानमंत्री मोदी ◾संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ पूर्वोत्तर, बंगाल में प्रदर्शन जारी◾PM मोदी ने कानपुर में वायुसेना कर्मियों के साथ की बातचीत ◾कानपुर : नमामि गंगे की बैठक के बाद PM मोदी ने नाव पर बैठकर गंगा की सफाई का लिया जायजा ◾राहुल गांधी के लिए ‘राहुल जिन्ना’ अधिक उपयुक्त नाम : भाजपा ◾TOP 20 NEWS 14 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾उत्तर प्रदेश : फतेहपुर में दोहराया गया 'उन्नाव कांड', बलात्कार के बाद पीड़िता को जिंदा जलाया ◾साबित हो गया कि मोदी ने झूठे वादे किए थे : मनमोहन सिंह◾जम्मू-कश्मीर : फारुक अब्दुल्ला की हिरासत अवधि 3 महीने और बढ़ी◾

अन्य राज्य

बच्चा पैदा करने के लिए कैदी को मिली जेल से छुट्टी, मद्रास HC ने दी इजाजत

 madras high court

तमिलाडु में उम्रकैद की सजा काट रहे एक कैदी को परिवार बढ़ाने के लिए जेल से छुट्टी मिली है। संभवतः देश में इस तरह का यह पहला मामला है।जब कैदी को इस आधार पर छुट्टी दी जा रही है। वैसे विदेशों में ऐसा होता रहा है। मद्रास हाईकोर्ट ने तिरुनलवेली जिले के सेंट्रल जेल में उम्रकैद की सजा काट रहे 40 साल के इस कैदी को दो हफ्ते की छुट्टी दी है।

आपको बता दे कि तिरुनलवेली जेल में बंद सिद्दिकी अली की 32 वर्षीय पत्नी ने जस्टिस एस. विमला देवी और टी कृष्णा वल्ली की कोर्ट में 'बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका' दायर की थी। जिसमें उसने वैवाहिक संबंध बनाने के लिए कैदी की छुट्टी के लिए याचिका डाली थी। इस बेंच ने मामले की सुनवाई करते हुए कैदी को वैवाहिक संबंध बनाने के लिए दो सप्ताह का अवकाश दिया है।

कई देशों में कैदियों को ऐसे अधिकार दिए गए हैं। केंद्र ने पहले ही एक प्रस्ताव को मंजूरी दी है कि संबंध स्थापित करना एक अधिकार है ना कि विशेषाधिकार और कैदियों को अपनी इच्छा पूरी करने का अधिकार है। कुछ देशों में कैदियों के संसर्ग अधिकार को मान्यता दी गई है। सरकार को ऐसी समस्याओं के समाधान तलाशने चाहिए।

पीठ ने कहा कि संसर्ग से परिवार के साथ रिश्ते कामय रखने में मदद मिलती है। आपराधिक प्रवृत्ति कम होती है और प्रेरणा मिलती हैं. कैदियों में सुधार न्याय में दी गई सुधार व्यवस्था का हिस्सा है। मौजूदा मामले में अदालत ने कहा कि प्राथमिक जांच में यह पता चला है कि कैदी परिवार बढ़ा सकता है।

24X7 नई खबरों से अवगत रहने के लिए क्लिक करे।