देश के प्रमुख ज्योतिर्लिगों में से एक उज्जैन के महाकाल मंदिर के पुजारी का नाबालिग से अश्लील हरकत करने का कथित वीडियो वायरल होने पर उनके मंदिर प्रवेश पर रोक लगा दी गई है। कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से सवाल किया है कि वह बताएं कि राज्य में हो रहे अपराधों में किन लोगों के नाम सामने आ रहे हैं और उन्हें किसका राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है।

कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष के मीडिया समन्वयक नरेंद्र सलूजा ने शुक्रवार को एक बयान जारी कर कहा है, ‘जुआकांड से लेकर कई अन्य मामलों में शामिल रहा हेमंत दुबे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद व भाजपा से संबद्घ है। वह मंदिर का पुजारी बना बैठा था। उसका एक नाबालिग से अश्लील हरकत करने का वीडियो सामने आने पर उसे हटा दिया गया है।’ सलूजा ने आगे कहा, ‘पूर्व मुख्यमंत्री चौहान बताएं कि प्रदेश की कमलनाथ सरकार में किन लोगों के नाम आपराधिक गतिविधियों में सामने आ रहे हैं।

ये कौन लोग हैं, जो दो माह की सरकार में कानून-व्यवस्था को निरंतर चुनौती दे रहे हैं। आखिर इन्हें किसका राजनीतिक संरक्षण प्राप्त है। आपके (चौहान) ट्वीट का इंतजार है।’ उल्लेखनीय है कि सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें एक पुजारी कथित तौर पर नाबालिग से अश्लील हरकत कर रहा है। इस वीडियो के सामने आने पर मंदिर प्रबंध समिति ने पुजारी हेमंत दुबे को हटा दिया और उसके मंदिर में प्रवेश पर रोक लगा दी है। यह मामला पुलिस तक नहीं पहुंचा है। पुलिस शिकायत आने पर कार्रवाई की बात कह रही है। वहीं, पुजारी दुबे ने कुछ पुजारियों पर साजिश रचने का आरोप लगाया है।