BREAKING NEWS

असम-मेघालय सीमा विवाद को लेकर अमित शाह से आज मिलेंगे मेघालय CM संगमा और असम सीएम हिमंत◾देश में अब तक कोविड रोधी टीके की 159.54 करोड़ से ज्यादा दी गई खुराक , स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾जल्द ही बाजार में भी मिल सकेंगी Covishield और Covaxin , सरकार ने लिया ये बड़ा फैसला◾चीनी सेना ने सीमा से भारतीय युवक का किया अपहरण , MP तापिर गाओ ने मोदी सरकार से लगाई मदद की गुहार◾ विदेश मंत्री एस जयशंकर ने फिनलैंड के विदेश मंत्री के साथ अफगानिस्तान समेत कई मुद्दों पर की चर्चा◾PM मोदी और मारीशस के पीएम पी जगन्नाथ 20 जनवरी को परियोजनाओं का करेंगे उद्घाटन◾कोविड-19 : राजधानी में 24 घंटो में कोरोना के 13,785 नए मामले सामने आये, 35 लोगो की हुई मौत◾CDS जनरल बिपिन रावत के छोटे भाई कर्नल विजय रावत हुए भाजपा में शामिल, उत्तराखंड से लड़ सकते हैं चुनाव ◾पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी आम आदमी नहीं बल्कि बेईमान आदमी हैं : केजरीवाल◾बदली राजनीतिक परिस्थितियों में मुझे विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए : उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री ◾पंजाब : सीएम चन्नी ने BJP और केंद्र सरकार पर लगाया आरोप, कहा-ईडी की छापेमारी मुझे फंसाने का एक षड्यंत्र ◾प्रधानमंत्री को पता था कि योगी कामचोरी वाले मुख्यमंत्री है इसलिए उन्हें पैदल चलने की सजा दी थी : अखिलेश यादव ◾PM मोदी ने 15 से 18 वर्ष आयु के 50 प्रतिशत से अधिक युवाओं को टीके की पहली खुराक लगाए जाने की सराहना की◾यूपी : जे पी नड्डा का बड़ा ऐलान, 'अपना दल' और निषाद पार्टी के साथ गठबंधन में चुनाव लड़ेगी भाजपा◾हरक सिंह की वापसी पर कांग्रेस में बढ़ी अंदरूनी कलह, बागी को ठहराया 'लोकतंत्र का हत्यारा', पूछे ये सवाल ◾समाजवादी पार्टी के नेताओं को भी पता है कि उनकी बेटियां एवं बहुएं भाजपा में सुरक्षित हैं : केन्द्रीय मंत्री ठाकुर ◾त्रिवेंद्र रावत ने चुनाव लड़ने से किया इंकार, नड्डा को लिखा पत्र, कहा- BJP की वापसी पर करना चाहता हूं फोकस ◾मुलायम परिवार में BJP की बड़ी सेंधमारी, अपर्णा यादव के बाद प्रमोद गुप्ता थामेंगे कमल, SP पर लगाए ये आरोप ◾PM मोदी, योगी और शाह समेत पार्टी के कई बड़े नेता BJP के स्टार प्रचारकों की सूची में शामिल, जानें पूरी लिस्ट ◾महाराष्ट्र: मुंबई में कोविड की स्थिति नियंत्रित, BMC ने हाईकोर्ट को कहा- घबराने की कोई बात नहीं◾

जनता का फरमान, बांका लोकसभा क्षेत्र में कोई भी पार्टी स्थानीय नेता को ही टिकट दे बाहरी को नहीं

बांका : आजादी के पहले, आजादी के बाद और वर्तमान में भी बांका जिला पिछड़ा ही है। आज पिछड़ा होने के चलते आज तक न तो सिंचाई का साधन हो सका और न ही क्षेत्र का विकास हो सका। लेकिन इस बार जनता का फरमान है कि चाहे कोई भी पार्टी हो बाहरी प्रत्याशी को टिकट न देकर केवल और केवल स्थानीय नेताओं को ही टिकट दिया जाये। क्योंकि पार्टी जिस किसी भी बाहरी प्रत्याशी को उतारता है वह अपने लोकसभा का विकास न कर केवल और केवल अपने गृह जिला का विकास चाहता है। ऐसे में क्षेत्र के स्थानीय किसान, मजदूर, व्यवसायी अपने विकास से कोसो दूर रह जाते हैं। इसलिए स्थानीय लोगों ने मन बनाया है कि इस बार चाहे कोई भी राजनीतिक दल हो स्थानीय नेता को ही उम्मीवार बनाये। बिहार में बांका लोकसभा का चुनाव इस बार और दिलचस्प होने वाला है। क्योंकि एनडीए के जदयू उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतारने की संभावना है। महागठबंधन में राजद और सीपीआई के बीच उहा-पोह की स्थित है। राजनीतिक गलियारों में चर्चा है कि बांका लोकसभा क्षेत्र जदयू के खाते में जाने की संभावना है। इसलिए 25 फरवरी को बांका में आयोजित मुख्यमंत्री के कार्यक्रम की तैयारी परवान चढ़ा है।

वैसे वर्तमान में राजद के सांसद जयप्रकाश यादव हैं इसलिए महागठबंधन के राजद भी दावा कर रही हैं। एनडीए उम्मीदवार को शिकस्त देने के लिए सामाजिक समीकरण का आंकलन किया जा रहा है। जानकारी अनुसार महागठबंधन में सीट राजद को मिले या सीपीआई को उम्मीदवारी माय समीकरण से ही होगी। बांका लोकसभा क्षेत्र में वामदलों का भी प्रबुद्ध कुछ विधानसभा क्षेत्र में रहा है जबकि 1957 1962 में इंडिया के नेशनल कांग्रेस की शकुंतला देवी यहां से सांसद चुनी गयी थी तो 1967 में भारतीय जनसंघ के वी. एस. शर्मा यहां से जीत हासिल की थी। बाद के दिनों में फिर से 1971 में इंडिया नेशनल कांग्रेस के शिव चन्द्रिका प्रसाद ने जीत दर्ज की थी। जबकि जनता पार्टी से 1973 में तथा भारतीय लोक दल से मधुलिमय जी ने परचम फहराया, फिर 1980 में चंद्रशेखर सिंह 1984 में मनोरमा सिंह,1985 में फिर चन्द्रशेखर सिंह तथा 1986 में मनोरमा सिंह ने दोबारा जीत दर्ज कर सांसद बनी रही। लेकिन समय ने करवट ली और 1989 तथा 1991 में जनता दल से प्रताप सिंह सांसद चुने गए जबकि इस क्षेत्र में दो बार 1996 तथा 2004 में गिरधारी यादव एक बार जनता दल से चुने गये। वहीं दिग्विजय सिंह 1998 तथा 2009 में कभी समता पार्टी तो कभी जनता दल यूनाइटेड व निर्दलीय लडक़र सदन तक पहुंचे थे।

इनके उपरांत इनकी पत्नी पुतुल कुमारी देवी 2010 में निर्वाचित हो सदन की शोभामान रही। इसके बाद 2014 में यहां से जयप्रकाश यादव सांसद चुने गए। मौजूदा राजद सांसद जयप्रकाश यादव के दोबारा प्रत्याशी बनाए जाने की चर्चा है जबकि सीपीआई के संजय यादव के नाम की भी चर्चा है वैसे एनडीए में कई नामों की चर्चा हो रही है जिनमें प्रमुख है भाजपा की पुतुल देवी, जदयू के गिरधारी यादव, मनोज यादव, कौशल कुमार सिंह आदि। लेकिन नामों के चर्चा करने से पहले यह चर्चा हो रही है यह सीट जदयू के खाते में जा रही है ऐसे हालात में क्या जदयू यहां से दोबारा पिछड़ी जाति के दामोदर रावत को उम्मीदवार बनाती है या राजपूत के खाते में यह सीट जा रही है। पुतुल देवी भी बांका सीट पर जोर लगाई हुई है। वैसे भी अब तक के चुने गए सांसदों मे सबसे अधिक वर्चस्व राजपूत उम्मीदवारों का रहा है। वैसे अगर यहां राजपूत को उम्मीदवार नहीं बनाया जाता है तो वैसी हालात में इस क्षेत्र के स्वर्ण मतदाता तितर वितर हो जायेगें और राजद उम्मीदवार जयप्रकाश यादव का रास्ता साफ हो जाएगा।

महागठबंधन का उम्मीदवार जहां साफ नजर आ रहा है वही एनडीए के तरफ से धुंधली तस्वीर नजर आ रही है इसके कई कारण है। सर्वप्रथम अंग किसान मोर्चा के संस्थापक कौशल सिंह ने स्थानीय उम्मीदवार को लेकर जहां एक मोर्चा खोल जिले भर में हस्ताक्षर अभियान चला 1 लाख 64 हजार 499 लोगों से संपर्क कर स्थानीय उम्मीदवारी को लेकर हस्ताक्षर करवाया तथा स्वयं जदयू के प्रबल दावेदार के रूप में सामने खड़े है तो वहीं दूसरी तरफ पुतुल देवी भाजपा की उम्मीदवारी को लेकर अड़ी हुई है। वैसे राजनीतिक पंडितों के मानना है कि बिहार में भाजपा को वर्तमान में 22 सीट है। जिसमें से 5 सीट भाजपा को छोडऩा है तो हारे हुए बांका की सीट पर क्या भाजपा अपनी उम्मीदवारी देगी या भाजपा की पुतुल देवी को ही जदयू के उम्मीदवार के रूप में पेश करेगी। वहीं कयास लगया जा रहा है कि विगत तीन माह से बांका जिला में अंग किसान मोर्चा के संस्थापक कौशल कुमार सिंह के द्वारा किसानों के लिए चलाये गए हस्ताक्षर अभियान, बीज वितरण, किसान समारोह सहित अन्य कार्यक्रम को लेकर किसानों में अपनी अलग पहचान बनाते हुए बांका लोकसभा सीट के स्थानीय उम्मीदवार के साथ साथ राजपूत जाति के होने के कारण जदयू की ओर से प्रबल दावेदारी मानी जा रही है।