BREAKING NEWS

कन्हैयालाल हत्याकांड के बाद पर्यटन उद्योग गिरा धड़ाम, बुकिंग रद्द करा रहे हैं लोग◾महाराष्ट्र : राष्ट्रवादी व सांस्कृतिक नारों के साथ स्पीकर ने गृहण किया पदभार◾President Election: द्रौपदी मुर्मू के समर्थन में विपक्ष एकजुट? लगातार बढ़ रही यशवंत सिन्हा की मुश्किलें ◾ न्यायपालिका की स्थिति पर बोले सांसद कपिल सिब्बल - मेरा सिर शर्म से झुक जाता हैं ◾महाराष्ट्र : दोनों सदनों में ससुर -दामाद ही पीठासीन, ससुर विधानपरिषद के चैयरमैन व दामाद बनें विधानसभा अध्यक्ष ◾अपने ही गढ़ में मिली करारी हार के बाद अखिलेश का बड़ा फैसला, राष्ट्रीय कार्यकारिणी समेत सभी संगठन भंग ◾ नई विदेश नीति लाने की तैयारी में वाणिज्य मंत्रालय, सितंबर से पहले उठाया जा सकता हैं कदम ◾Maharashtra Assembly Speaker: BJP विधायक राहुल नार्वेकर ने मारी बाजी, 164 वोटों के साथ जीता चुनाव ◾एकनाथ शिंदे : ऑटो वाले से महाराष्ट्र के CM की कुर्सी तक का सफर, सब्र का नहीं बगावत का फल निकला मीठा◾महाठग सुकेश ने तिहाड़ प्रशासन को फिर दिखाया ठेंगा, सुरक्षा व्यवस्था में सेंध लगाकर किया यह 'कारनामा' ◾कुर्सी बचाने के लिए मुगलों की नीति पर चल रहे हैं अखिलेश, सपा बन चुकी है ‘समाप्तवादी पार्टी’ : निरहुआ◾लश्कर-ए-तैयबा के दो आतंकवादियों को ग्रामीणों ने दबोचा, प्रशासन ने दिया 2 लाख का नकद इनाम ◾'उल्टी गिनती शुरू.. अगला नंबर तेरा', Ex रोडीज निहारिका को मिली धमकी, उदयपुर हत्यकांड पर की थी निंदा ◾पर्यटक कृपया ध्यान दें, उत्तराखंड में भारी बारिश को लेकर चेतावनी, राजधानी समेत इन जिलों में अलर्ट जारी ◾असम बाढ़ से जिंदगी मुहाल, 22.17 लाख से अधिक अब भी फंसे, मरने वालों की संख्या बढ़कर 174◾India Corona Update: देश में कोरोना के 16,103 नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें कितने लोगों ने गंवाई जान ◾शिंदे के नेतृत्व वाले शिवसेना गुटविधायक दल के कार्यालय को किया सील, श्वेत पत्र चिपकाया ◾आज का राशिफल ( 03 जुलाई 2022)◾BJP कर रही है ‘रचनात्मक’ राजनीति, विपक्षी दलों की भूमिका ‘विनाशकारी’ : जे पी नड्डा◾महाराष्ट्र : शिंदे का समर्थन कर रहे शिवसेना के बागी विधायक गोवा से मुंबई लौट , विधानसभा अध्यक्ष का चुनाव रविवार को◾

हनुमान चालीसा के बाद MRI को लेकर विवादों में घिरी राणा! शिवसेना ने दर्ज कराई शिकायत, जानें पूरा मामला

हनुमान चालीसा विवाद से शुरू हुई लड़ाई अब खुलकर सबके सामने आ गयी है, नवनीत राणा और शिवसेना के बीच आरोप-प्रत्यारोप का दौर लगातार जारी है। इसी कड़ी में शिवसेना ने निर्दलीय सांसद नवनीत राणा के एमआरआई स्कैन में कथित अनियमितताओं को लेकर प्रतिष्ठित लीलावती अस्पताल के खिलाफ बांद्रा पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई है। अनिल कोकिल और राहुल कनाल के साथ पार्टी प्रवक्ता डॉ मनीषा कायंडे और मुंबई की पूर्व मेयर किशोरी पेडनेकर के एक प्रतिनिधिमंडल ने लीलावती अस्पताल के संबंध में महिला सांसद को विभिन्न बिंदुओं और 'विशेष उपचार' को लेकर एक लिखित शिकायत सौंपी। 

नवनीत राणा की MRI रिपोर्ट पर शुरू हुआ विवाद 

याचिका में सवाल किया गया है कि कैसे अस्पताल प्रशासन ने एमपी नवनीत को एक मोबाइल फोन या कैमरा लेने और एमआरआई स्कैन रूम के अंदर तस्वीरें क्लिक करने की अनुमति दी, जिससे मरीज (नवनीत) और खुद अस्पताल को खतरा पैदा हो गया। 

अस्पताल के प्रकाशित नियमों की ओर इशारा करते हुए कि परिसर के अंदर फोटोग्राफी की अनुमति नहीं है, उन्होंने विशाल चिकित्सा सुविधा में कथित तौर पर हुई सुरक्षा चूक पर सवाल उठाया। डॉ. कायंडे ने मीडियाकर्मियों से कहा, एमआरआई कक्ष के पीछे एक ऑक्सीजन प्लांट स्थित है.. अगर कोई दुर्घटना होती तो लीलावती अस्पताल की सुरक्षा खतरे में पड़ जाती। इसकी जिम्मेदारी कौन लेगा।

शिवसेना ने अस्पताल के खिलाफ पुलिस स्टेशन में दर्ज कराई शिकायत 

प्रतिनिधिमंडल ने यह जानने की भी मांग की है कि सांसद नवनीत के निजी बॉडीगार्ड्स को हथियारों के साथ अस्पताल परिसर में कैसे घूमते देखा गया और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच की मांग की। पेडनेकर ने मांग की, अस्पताल के नियमों के अनुसार, किसी को भी किसी भी प्रकार के हथियारों के साथ परिसर में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। तो बॉडीगार्ड कैसे बंदूक लेकर अस्पताल और एमआरआई कक्ष के आसपास घूम रहा था।

BMC ने अस्पताल के लिए जारी किया कारण बताओ नोटिस 

शिवसेना की टीम ने पुलिस से आग्रह किया कि वह पिछले सप्ताह सांसद के दौरे के दौरान हुई सभी लापरवाही में अस्पताल प्रशासन की भूमिका की जांच करे। बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) एच-वेस्ट वार्ड ने लीलावती अस्पताल को कारण बताओ नोटिस जारी कर 48 घंटे में विस्तृत स्पष्टीकरण की मांग के एक दिन बाद यह घटनाक्रम किया। 

इस मामले में अस्पताल ने नहीं दी कोई प्रतिक्रिया 

वीकेंड के दौरान सोमवार को एमआरआई रूम में सांसद की तस्वीरें वायरल होने के बाद प्रतिनिधिमंडल ने अस्पताल का दौरा किया था और प्रबंधन से विस्तृत चर्चा की थी। प्रतिनिधिमंडल ने अस्पताल को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें उनके द्वारा उठाए गए बिंदुओं पर एक लिखित बयान की मांग की गई जिससे सांसद के जीवन को खतरा हो।  हालांकि, शिवसेना द्वारा उठाए गए सवालों पर अभी तक अस्पताल के अधिकारियों की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।