BREAKING NEWS

राजधानी में फूटा कोरोना बम, 24 घंटे में आए 19,486 नये मामले और 141 कि हुई मौत◾पश्चिम बंगाल चुनाव : EC ने शाम सात से सुबह 10 बजे तक रैलियों, जनसभाओं पर लगाया प्रतिबंध ◾कोविड के बढ़ते मामलों को देखते हुए CICSE ने 10वीं,12वीं की परीक्षा टाली ◾ममता संविधान की रक्षा करने में विफल रहीं, केंद्रीय बलों पर लगा रही है आरोप : नड्डा ◾वीकेंड कर्फ्यू के दौरान ज्यादा अंतराल पर चलेंगी दिल्ली मेट्रो ट्रेनें, इन लाइन्स पर आधे घंटे का होगा इंतजार ◾भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी जल्द आएगा भारत, प्रत्यर्पण की मांग को ब्रिटेन सरकार ने दी मंजूरी◾अदार पूनावाला की अमेरिका से अपील, टीका उत्पादन बढ़ाने के लिए बाइडन हटाए कच्चे माल पर लगा निर्यात प्रतिबंध◾उत्तर प्रदेश में कोविड-19 की बेकाबू रफ़्तार, रिकॉर्ड 27,426 नये मामले, 103 और मरीजों की मौत ◾बंगाल में कोरोना मामलों में बढ़ोतरी के लिए BJP जिम्मेदार, बाहरी लोगों के आने पर रोक लगाए EC : ममता बनर्जी ◾बंगाल में समाज को बांटने का रचा जाता है षड्यंत्र, ममता जी सहित TMC के सभी नेता दलित विरोधी : नड्डा ◾देश में ऑक्सीजन सप्लाई को लेकर PM मोदी ने की समीक्षा, राज्यों के साथ सहयोग सुनिश्चित करने के दिए निर्देश◾बंगाल में पांचवें चरण में 45 सीटों पर कल होगा मतदान, सुरक्षा के मद्देनजर केन्द्रीय बलों की 853 कम्पनियां तैनात◾यूपी में हर रविवार को होगा कंप्लीट लॉकडाउन, बिना मास्क पकड़े जाने पर 1000 रू जुर्माना : CM योगी ◾अमित शाह ने राहुल को बताया ‘पर्यटक राजनेता’, कहा- दीदी मतुआ समुदाय को नहीं देगी नागरिकता◾डॉ. हर्षवर्धन ने AIIMS का किया दौरा, कहा- कोरोना जंग जीतने के लिए किसी चीज की नहीं है कमी ◾कोरोना से जंग जीतने के लिए केंद्र ने निकाला उपाय, राज्यों को UK मॉडल पर काम करने की दी सलाह ◾केंद्र की कोरोना रणनीति पर राहुल का तंज, 'तुगलकी लॉकडाउन लगाओ-घंटी बजाओ-प्रभु के गुण गाओ'◾रणदीप सुरजेवाला और जिग्नेश मेवाणी कोरोना पॉजिटिव, दिग्विजय सिंह भी हुए संक्रमित◾EC की आज सर्वदलीय बैठक, चुनावी रैलियों में कोविड नियमों के पालन पर होगी चर्चा◾देश में फिर टूटे कोरोना के सारे रिकॉर्ड, पिछले 24 घंटे में 2 लाख 16 हजार केस, 1185 लोगों की मौत ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पत्नी को ED के नोटिस पर बोले राउत- अगर मैं भाजपा नेताओं के परिवार तक पहुंचा तो देश छोड़ना पड़ेगा

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) द्वारा समन जारी होने के एक दिन बाद महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महा विकास अघाड़ी की सहयोगी पार्टियां भारतीय जनता पार्टी के विरोध में उतर गई है। वहीं एक प्रेस कांफ्रेंस में शिवसेना प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि इस देश में, भाजपा में ऐसे बड़े-बड़े सूरमा बैठे हैं, अगर मैं उनके परिवार तक पहुंचा तो आपको देश छोड़कर भागना पड़ेगा।

उन्होंने कहा कि मुझसे पंगा मत लेना मैं नंगा आदमी हूं और शिवसैनिक हूं। संजय राउत ने कहा कि मेरे पास भाजपा की फाइल है, अगर उसे निकाला तो आपको देश छोड़कर भागना पड़ेगा। मेरे पास 121 लोगों के नाम हैं जो मैं जल्द ही ईडी को दुंगा। इतने नाम हैं कि 5 साल ईडी को काम करना पड़ेगा तब पता चलेगा कि किससे पंगा लिया है।

उन्होंने कहा कि ये सब राजनीति से प्रेरित है, 10 साल पुराना एक केस ईडी ने निकाला है, हम मिडिल क्लास लोग हैं। मेरी पत्नी एक शिक्षिका हैं उसने अपने दोस्त से 10 साल पहले 50 लाख का कर्जा लिया था, इसमें ED और भाजपा को क्या तकलीफ है।

उन्होंने कहा कि मेरे पास एक साल से बीजेपी के परिवार से कुछ लोग आ रहे हैं, वो बार-बार मुझे ये कहने की कोशिश करते हैं कि ये सरकार हम किसी भी हालत में गिराने वाले हैं, हमारे पास केंद्र की सत्ता है, ईडी, सीबीआई और इनकम टैक्स है। राउत ने एक ट्वीट किया, जो 1981 के एक लोकप्रिय बॉलीवुड गीत, आ देखें जरा, किसमे कितना है दम, जम के रखना कदम, मेरे साथिया पर आधारित था।

यह कहते हुए कि उन्हें इस तरह के नोटिस के बारे में परवाह नहीं है, राउत ने स्पष्ट किया कि अगर ईडी अपना काम कर रहा है तो यह कानूनी होना चाहिए, लेकिन अगर अवैध है, तो उसे (ईडी) अधिक सावधान रहना चाहिए। राउत ने भाजपा पर निशाना साधा - मैंने अपने आदमी को बीजेपी कार्यालय में भेजा है। अगर ईडी नोटिस वहां भेजा गया है, तो हमें पता चल जाएगा।

पत्नी को मिले ईडी नोटिस पर एमवीए के सहयोगी संजय राउत के साथ 

कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष और राजस्व मंत्री बालासाहेब थोराट ने कहा कि जब से भाजपा ने केंद्र में सत्ता संभाली है, केंद्रीय एजेंसियों को विपक्षी दलों पर इस तरह से निशाना बनाने के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है, लेकिन हमारी सरकार इस तरह की धमकी से डरने वाली नहीं है। शिवसेना के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने भी ईडी नोटिस को राजनीति बताया, जबकि पूर्व केंद्रीय मंत्री और राकांपा नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा, ईडी के नोटिसों को गंभीरता से लेने की आवश्यकता नहीं है।

पटेल ने कहा कि ऐसे कई लोग हैं, जिन्हें ऐसे व्यक्तियों की संलिप्तता के बिना ईडी नोटिस मिलता है। अगर कोई वास्तव में दोषी है, तो यह सामने आएगा और यहां तक कि इसके पीछे की राजनीति भी पहचानी जाएगी। मुंबई के गार्डियन मंत्री असलम खान ने कहा कि इससे पहले कि कोई भी भाजपा के खिलाफ बोले तो उसे ईडी-सीबीआई से ऐसे नोटिस के लिए तैयार रहना चाहिए। ये सब भाजपा के शासन में पिछले कुछ वर्षों में आदर्श बन गए हैं।

बता दें कि ईडी ने वर्षा राऊत को पूछताछ के लिए 29 दिसंबर को बुलाया है, जिसके बाद 30 दिसंबर को वरिष्ठ राकांपा नेता एकनाथ खडसे को नोटिस दिया गया - जिन्होंने पिछले अक्टूबर में भाजपा छोड़ दी। इसके अलावा एक अन्य वरिष्ठ नेता प्रताप सरनायक और उनके परिवार के खिलाफ भी जांच चल रही है। खडसे को पुणे भूमि सौदे के बारे में समन भेजा गया है जबकि वर्षा राउत को पीएमसी बैंक से संबंधित एक मामले में पेश होना है। भाजपा की ओर से, महाराष्ट्र के नेता किरीट सोमैया ने राउत को इस मामले में निर्दोष साबित करने को कहा और पूछा कि क्या उनका परिवार पीएमसी बैंक घोटाले में लाभार्थी है?

सोमैया ने रविवार देर रात सोशल मीडिया पर एक ट्वीट और वीडियो में कहा, मैंने संजय राउत परिवार को ईडी के नोटिस के बारे में सुना। क्या श्री राउत हमें बताएंगे कि उनका परिवार लाभार्थी है? क्या इससे पहले उन्हें किसी भी जांच में नोटिस मिले हैं? पीएमसी बैंक घोटाले में 10 लाख जमाकर्ता पीड़ित हैं। अगर ईडी को कोई जानकारी चाहिए तो राजनीतिक संरक्षण एक स्वस्थ विचार नहीं है। सभी पीएमसी बैंक के पुनरुद्धार चाहते हैं।

अनिल देशमुख का आरोप- BJP के खिलाफ बोलने वालों को केंद्रीय एजेंसियों का करना पड़ रहा है सामना