BREAKING NEWS

खून की नदियां' जैसे बयान से किसे चुनौती दे रहा विपक्ष : अमित शाह◾Top 20 News 22-May : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾भारत ने किया रिसैट-2बी का प्रक्षेपण, घने बादलों के बावजूद भी ले सकेगा पृथ्वी की तस्वीरें◾न्यायालय ने बैरकपुर सीट से भाजपा प्रत्याशी को 28 तक गिरफ्तारी से संरक्षण प्रदान किया◾विपक्ष हारा हुआ है, वीवीपैट मुद्दे पर हताशा उनकी हार का संकेत : पासवान◾हेलीकॉप्टर घोटाला : ईडी ने कथित रक्षा एजेंट के खिलाफ पूरक आरोप-पत्र किया दायर◾वीवीपैट पर्चियों की गिनती की मांग किस आधार पर खारिज की गई : कांग्रेस◾नये सांसदों को आते ही मिलेगा स्थायी पहचान पत्र◾लोकसभा चुनाव 2019 : प्रज्ञा ठाकुर, आजम खान और मुनमुन सेन जैसे नेता अपने बयानों से सुर्खियों में छाये रहे◾VVPAT मिलान की प्रक्रिया में कोई बदलाव नहीं होगा : चुनाव आयोग◾लोकसभा चुनाव में 724 महिला उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला कल !◾एग्जिट पोल शेयर बाजार में तेजी लाने और विपक्षी दलों की एकता तोड़ने के लिए : मोइली◾ईवीएम को लेकर उदित राज का विवादास्पद बयान, बोले- क्या सुप्रीम कोर्ट भी धांधली में शामिल है◾परिवार का रंग नहीं जमने पर विपक्ष साध रहा EVM पर निशाना : नकवी◾राहुल ने कार्यकर्ताओं से कहा- फर्जी एग्जिट पोल से निराश न हों, रहें सतर्क◾लोकसभा चुनाव : कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने की 150 सभाएं और रोड शो◾PM मोदी पर राहुल ने की थी विवादित टिप्‍पणी, FIR दर्ज हो या नहीं, अदालत ने फैसला सुरक्षित रखा◾...तो कांग्रेस और राहुल गांधी के लिए सहज स्थिति हो सकती है सीटों का शतक !◾लोकसभा चुनाव की मतगणना कल, परिणामों में विलंब की संभावना◾भाजपा उम्मीदवार की गिरफ्तारी से बचने संबंधी याचिका पर सुनवाई करने पर सहमत SC◾

नोटबंदी और जीएसटी से प्रभावित हुई मुद्रा ऋणों की वसूली : शिवसेना

नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए गए माल एवं सेवाकर (जीएसटी) से मुद्रा ऋण योजना के तहत बांटे गए 11,000 करोड़ रुपये के ऋणों की वसूली प्रभावित हुई है। शिवसेना ने मंगलवार को अपने मुखपत्र के संपादकीय में यह बात कही।

शिवसेना ने कहा कि केंद्र सरकार की सूक्ष्म इकाई विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी (मुद्रा) योजना के तहत 4.81 करोड़ छोटे उद्यमियों को 2.46 लाख करोड़ रुपये का ऋण बांटा गया है। इसमें करीब 11,000 करोड़ रुपये का ऋण बकाया है जो एक गंभीर मसला है।

\"gst\"

संपादकीय में दावा किया गया है, \"शुरुआती चरण में इन उद्यमियों को नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए गए जीएसटी जैसे फैसलों का प्रभाव झेलना पड़ा। इससे ऋण वसूली प्रभावित हुई।\" शिवसेना, केंद्र और राज्य में भाजपा के साथ सरकार का हिस्सा है।

उद्धव का शाह पर वार, कहा-शिवसेना को हराने वाला अभी पैदा नहीं हुआ

शिवसेना ने आरोप लगाया, \"लघु उद्योग क्षेत्र पिछले दो साल में धीमी पड़ी आर्थिक वृद्धि से भी प्रभावित हुआ है। यह बात आसानी से समझी जा सकती है कि मुद्रा योजना के तहत बकाया 11,000 रुपये का ऋण सरकार की कुछ नीतियों का परिणाम है।\"

पार्टी ने कहा कि बकाया ऋण अंतत: आम आदमी पर बोझ बनता है। ऐसे में मुद्रा ऋण की धीमी वापसी पर भारतीय रिजर्व बैंक के चिंता व्यक्त किए जाने में कोई बुराई नहीं है। केंद्रीय बैंक को इस दिशा में कदम उठाने की जरूरत है।