BREAKING NEWS

SC में अयोध्या मामले की सुनवाई, हिंदू पक्ष के वकील ने रामलला को बताया नाबालिग◾सुप्रीम कोर्ट ने चिदंबरम की याचिका पर तत्काल सुनवाई से किया इनकार ◾PM मोदी ने जाम्बिया के राष्ट्रपति से की बातचीत, खनन और कारोबारी सहयोग पर दिया जोर ◾राहुल का केंद्र पर वार, कहा-चिदंबरम के चरित्रहनन के लिए एजेंसियों का इस्तेमाल कर रही मोदी सरकार◾चिदंबरम के बचाव में प्रियंका, बोली-केंद्र की असफलताओं को उजागर करने की भुगत रहे है सजा◾उत्तर प्रदेश : योगी कैबिनेट का हुआ विस्तार, 23 मंत्रियो ने ली शपथ ◾कश्मीर मामले पर ट्रंप ने फिर की मध्यस्थता की पेशकश, कहा- PM मोदी से करूंगा बात◾INX मीडिया : चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें, ईडी ने जारी किया लुकआउट नोटिस ◾मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल गौर के निधन पर PM मोदी ने किया शोक व्यक्त ◾भारतीय सेना ने लिया अभिनंदन का बदला, गिरफ्तार करने वाले पाक कमांडो को किया ढेर◾चिदंबरम के लिए कयामत की रात, जेल या बेल पर फैसला सुबह ◾पंजाब, हरियाणा में बनी हुई है बाढ़ की स्थिति◾अयोध्या मामला : हिंदू निकाय ने न्यायालय से कहा: 12 वीं सदी में मंदिर के अस्तित्व का उल्लेख ◾INX मीडिया घोटाला : सीबीआई और ED ने चिदंबरम पर कसा शिकंजा , घर पर लगाया नोटिस, तलाशी अभियान अब भी जारी...◾PM मोदी ने ब्रिटिश प्रधानमंत्री को फोन कर लंदन में भारतीयों पर हुए हमले का उठाया मुद्दा ◾असम में NRC भारत का आंतरिक मामला : जयशंकर ◾गडकरी और जावड़ेकर ने एम्स जाकर जेटली की सेहत की जानकारी ली ◾अनुच्छेद 370 हटने के बाद बारामूला में पहली मुठभेड़ ◾आम आदमी पार्टी के विधायक संदीप कुमार अयोग्य घोषित◾कश्मीर मुद्दे पर रक्षा मंत्री की US रक्षा मंत्री से बात , राजनाथ बोले - ये हमारा अंदरूनी मसला◾

अन्य राज्य

नोटबंदी और जीएसटी से प्रभावित हुई मुद्रा ऋणों की वसूली : शिवसेना

नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए गए माल एवं सेवाकर (जीएसटी) से मुद्रा ऋण योजना के तहत बांटे गए 11,000 करोड़ रुपये के ऋणों की वसूली प्रभावित हुई है। शिवसेना ने मंगलवार को अपने मुखपत्र के संपादकीय में यह बात कही।

शिवसेना ने कहा कि केंद्र सरकार की सूक्ष्म इकाई विकास एवं पुनर्वित्त एजेंसी (मुद्रा) योजना के तहत 4.81 करोड़ छोटे उद्यमियों को 2.46 लाख करोड़ रुपये का ऋण बांटा गया है। इसमें करीब 11,000 करोड़ रुपये का ऋण बकाया है जो एक गंभीर मसला है।

\"gst\"

संपादकीय में दावा किया गया है, \"शुरुआती चरण में इन उद्यमियों को नोटबंदी और जल्दबाजी में लागू किए गए जीएसटी जैसे फैसलों का प्रभाव झेलना पड़ा। इससे ऋण वसूली प्रभावित हुई।\" शिवसेना, केंद्र और राज्य में भाजपा के साथ सरकार का हिस्सा है।

उद्धव का शाह पर वार, कहा-शिवसेना को हराने वाला अभी पैदा नहीं हुआ

शिवसेना ने आरोप लगाया, \"लघु उद्योग क्षेत्र पिछले दो साल में धीमी पड़ी आर्थिक वृद्धि से भी प्रभावित हुआ है। यह बात आसानी से समझी जा सकती है कि मुद्रा योजना के तहत बकाया 11,000 रुपये का ऋण सरकार की कुछ नीतियों का परिणाम है।\"

पार्टी ने कहा कि बकाया ऋण अंतत: आम आदमी पर बोझ बनता है। ऐसे में मुद्रा ऋण की धीमी वापसी पर भारतीय रिजर्व बैंक के चिंता व्यक्त किए जाने में कोई बुराई नहीं है। केंद्रीय बैंक को इस दिशा में कदम उठाने की जरूरत है।