BREAKING NEWS

UP Budget 2022 : योगी सरकार ने महिला सुरक्षा, रोजगार और मेट्रो के लिए की घोषणा, जानिए खास बातें ◾J&K : शूटिंग पर जाने से मना किया तो टीवी कलाकार को मारी गोली, आतंकियों की तलाश में जारी है सर्च ऑपेरशन◾डिंपल यादव नहीं... जयंत चौधरी होंगे राज्यसभा जाने वाले तीसरे उम्मीदवार, SP-RLD के संयुक्त प्रत्याशी ◾महाराष्ट्र : परिवहन मंत्री अनिल परब के घर ED ने मारा छापा, सौमेया बोले- कैबिनेट के तीसरे मंत्री जेल...... ◾World Corona: 52.7 करोड़ नए मामलों की हुई पुष्टि, जानें अब तक कितने लोगों ने गंवाई जान ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,628 नए केस, 18 मरीजों की हुई मौत ◾अभ्यास बाद में करें खिलाड़ी, IAS अफसर को ट्रैक पर टहलाना है कुत्ता, जानिए क्या है मामला ◾योगी सरकार आज पेश करेगी अपने 2.O कार्यकाल का बजट, संकल्प पत्र में किए गए वादों पर रहेगा जोर ◾अफगानिस्तान : दो अलग-अलग विस्फोट में हुई 14 लोगों की मौत, ISIS ने ली हमले की जिम्मेदारी ◾J&K: कुपवाड़ा में सुरक्षाबलों ने ढेर किए LET के 3 आतंकी, 24 घंटे में 6 का हुआ सफाया ◾Yasin Malik News: टेरर फंडिंग मामले में यासीन मलिक को हुई उम्रकैद की सजा! 10 लाख का लगाया गया जुर्माना◾यासिन मलिक को उम्रकैद की सजा मिलने के बाद घाटी में मचा कोहराम! हिंसा की वजह से बंद हुआ इंटरनेट ◾ओडिशा में दुर्घटना को लेकर मोदी बोले- इस घटना से काफी दुखी हूं, जल्द स्वस्थ होने की करता हूं कामना◾वहीर पारा को जमानत मिलने पर महबूबा मुफ्ती बोलीं- मैं आशा करती हूं वह जल्द ही बाहर आ जाएंगे◾राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद 26 मई को महिला जनप्रतिनिधि सम्मेलन-2022 का उद्घाटन करेंगे◾UP विधानसभा में भिड़े केशव मौर्य और अखिलेश यादव.. जमकर हुई तू-तू मैं-मैं! CM योगी को करना पड़ा हस्तक्षेप◾सपा का हाथ थामने पर जितिन प्रसाद ने कपिल सिब्बल पर किया कटाक्ष, कहा- कैसा है 'प्रसाद'?◾Chinese visa scam: कार्ति चिदंबरम की बढ़ी मुश्किलें! धन शोधन के मामले में ED ने दर्ज किया मामला ◾ज्ञानवापी मामले को लेकर फास्ट ट्रैक कोर्ट में होगी सुनवाई, दायर हुई नई याचिका पर हुआ बड़ा फैसला! ◾

गणतंत्र दिवस झांकी विवाद : ममता के बाद स्टालिन ने PM मोदी का लिखा पत्र

गणतंत्र दिवस परेड के लिए कुछ राज्यों की झांकियों को मंजूरी नहीं मिलने पर शुरू हआ विवाद सोमवार को तेज हो गया और पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के बाद तमिलनाडु में उनके सकमकक्ष एम के स्टालिन ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से तत्काल हस्तक्षेप की मांग की। 

केरल सहित गैर BJP शासित राज्यों के कुछ नेताओं ने आरोप लगाया - यह केंद्र द्वारा 'अपमान' है

केरल सहित गैर भारतीय जनता पार्टी शासित राज्यों के कुछ नेताओं ने आरोप लगाया कि यह केंद्र द्वारा 'अपमान' है। कुछ राज्यों की झांकियों का चयन नहीं होने पर उन राज्यों द्वारा की जा रही आलोचनाओं को खारिज करते हुए केंद्र सरकार के सूत्रों ने कहा कि यह गलत परंपरा है और झांकियों का चयन केंद्र सरकार नहीं, बल्कि एक विशेषज्ञ समिति करती है। 

केंद्र सरकार के सूत्रों ने कहा कि केरल, तमिलनाडु और पश्चिम बंगाल के प्रस्तावों को विषय विशेषज्ञ समिति ने उचित प्रक्रिया और विचार-विमर्श के बाद खारिज किया है। 

केंद्र सरकार के एक पदाधिकारी ने कहा, ‘‘राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने एक विषय आधारित प्रक्रिया के परिणाम को केंद्र और राज्यों के बीच गतिरोध का बिंदु दर्शाने का जो तरीका अपनाया है, वह गलत है। इससे देश के संघीय ढांचे को दीर्घकालिक नुकसान होगा।’’ 

ज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों से कुल 56 प्रस्ताव मिले थे 

उन्होंने कहा कि राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों से कुल 56 प्रस्ताव मिले थे जिनमें से 21 का चयन किया गया। अधिकारियों ने भी कहा कि हर साल चयन की ऐसी ही प्रक्रिया अपनाई जाती है। 

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने अपने राज्यों की झांकियों को शामिल नहीं किये जाने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा है और उनसे हस्तक्षेप का आग्रह किया है। 

स्टालिन ने कहा कि झांकियों को शामिल नहीं करने से तमिलनाडु की जनता की संवेदनाएं और देशभक्ति की भावनाएं आहत होंगी। पश्चिम बंगाल की झांकी को शामिल नहीं किये जाने पर हैरानी जताते हुए बनर्जी ने कहा था कि इस तरह के कदमों से उनके राज्य की जनता को दु:ख होगा। 

स्टालिन ने इसे 'तमिलनाडु और उसके लोगों के लिए गंभीर चिंता का विषय' बताते हुए प्रधानमंत्री से 'तमिलनाडु की झांकी को शामिल करने की व्यवस्था करने की खातिर तत्काल हस्तक्षेप' की मांग की। 

इसके एक दिन पहले ममता बनर्जी ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के 125वीं जयंती वर्ष पर उनके और आजाद हिन्द फौज के योगदान से जुड़ी पश्चिम बंगाल की झांकी को बाहर करने के केंद्र के फैसले पर हैरानी जताई थी। उन्होंने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को एक पत्र लिखकर इस निर्णय पर पुनर्विचार करने का आग्रह किया था। 

मुख्यमंत्री ने कहा था, ‘‘प्रस्तावित झांकी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष पर उनके और आजाद हिन्द फौज के योगदान तथा इस देश के महान बेटे और बेटियों ईश्वर चंद्र विद्यासागर, रवींद्रनाथ टैगोर, स्वामी विवेकानंद देशबंधु चित्तरंजन दास, श्री अरबिंदो, मातंगिनी हाजरा, नजरूल, बिरसा मुंडा और कई देशभक्तों की स्मृति में बनाई गई थी।’’ 

उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस ने भाजपा नीत केंद्र सरकार पर 'बार-बार' और 'व्यवस्थित तरीके से' उनके इतिहास, संस्कृति और गौरव का अपमान करने का आरोप लगाया। 

रॉय ने प्रधानमंत्री मोदी से किया आग्रह - गणतंत्र दिवस समारोह में पश्चिम बंगाल की झांकी को हिस्सा लेने की अनुमति दें

भाजपा के वरिष्ठ नेता तथागत रॉय ने भी सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी से आग्रह किया कि वह गणतंत्र दिवस समारोह में पश्चिम बंगाल की झांकी को हिस्सा लेने की अनुमति दें। रॉय ने हालांकि, स्पष्ट किया कि मोदी से उनके अनुरोध को तृणमूल कांग्रेस की‘ तुष्छ राजनीति’ के समर्थन के रूप में नहीं देखा जानी चाहिए। 

कांग्रेस ने भी इस घटनाक्रम पर निराशा व्यक्त की है और लोकसभा में उसके नेता अधीर रंजन चौधरी ने शनिवार को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखा। चौधरी ने कहा कि यह फैसला पश्चिम बंगाल के लोगों, इसकी सांस्कृतिक विरासत और नेताजी बोस का 'अपमान' है। 

केरल के भी अनेक नेताओं ने केंद्र की आलोचना की है। 

लेकिन केंद्र के एक सूत्र ने कहा, ‘‘इस विषय को क्षेत्रीय गौरव से जोड़ दिया गया है और इसे केंद्र सरकार द्वारा राज्य की जनता के अपमान के तौर पर प्रदर्शित किया जा रहा है। यह हर साल की कहानी है।’’ 

सूत्रों ने कहा कि समयाभाव के कारण कुछ ही प्रस्तावों को स्वीकार किया जाता है। उन्होंने कहा कि इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि झांकी के लिए केरल के प्रस्ताव को इसी प्रक्रिया के तहत 2018 और 2021 में मोदी सरकार में ही स्वीकार किया गया था। इसी तरह 2016, 2017, 2019, 2020 और 2021 में तमिलनाडु की झांकियों को भी शामिल किया गया था। 

उन्होंने कहा कि इसी तरह 2016, 2017, 2019 और 2021 में पश्चिम बंगाल की झांकियों को मंजूरी दी गयी थी।