BREAKING NEWS

डॉक्टरों के साथ दुर्व्यवहार करने वालों के खिलाफ की जाएगी सख्त कार्रवाई : CM केजरीवाल◾शिया वक्फ बोर्ड ने तबलीगी जमात पर लगाया गंभीर आरोप, कहा- 1 लाख से ज्यादा लोग मारने की बनाई थी योजना◾कोरोना वायरस : स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा- देश में आवश्यक उपकरणों का स्टॉक मौजूद, PPE और वेंटिलेटर की खरीद शुरु◾देश में कोरोना फैलने के लिए अनिल देशमुख ने दिल्ली पुलिस को ठहराया जिम्मेदार◾कोरोना संकट से जारी जंग में मदद के तौर पर केंद्र सरकार ने राज्यों के लिए आपात पैकेज की दी मंजूरी◾महाराष्ट्र कैबिनेट ने उद्धव ठाकरे को MLC बनाने का लिया निर्णय, राज्यपाल को भेजेंगे प्रस्ताव ◾कोरोना संकट : ओडिशा सरकार ने 30 अप्रैल तक बढ़ाई लॉकडाउन की अवधि, केंद्र से किया ये अनुरोध◾गुजरात में कोरोना के 55 नए मरीज, अकेले अहमदाबाद के 50 लोग हुए संक्रमित◾PM मोदी ने किया ट्रम्प का समर्थन, कहा- मुश्किल वक्त ही दोस्तों को लाती है करीब◾जमात प्रमुख मौलाना साद के ठिकाने का हुआ खुलासा, पुलिस फिलहाल नहीं करेगी पूछताछ ◾झारखंड में कोरोना वायरस से 1 की मौत, मरीजों की संख्या एक दिन में तिगुनी हुई ◾Coronavirus : अमेरिका में मरने वालों की संख्या 14000 के पार, 11 भारतीयों के मौत की पुष्टि◾चीन में कोविड-19 के 63 नए मामलें सामने आए, अबतक करीब 3,335 लोगों की हुई मौत ◾पूरे विश्व कोरोना वायरस का कहर जारी, अब तक वायरस से संक्रमितों की संख्या 15 लाख से अधिक हुई ◾कोविड-19 : देश में 5,734 संक्रमित मामलों की पुष्टि वहीं 166 लोगों की अब तक मौत◾Covid-19 : दवा मिलने पर भारत के फैसले से डोनाल्ड ट्रम्प के सुर बदले नजर आए, कहा- थैंक्यू PM मोदी ◾कोरोना संकट : सरकार ने 20 करोड़ महिलाओं के जनधन खातों में पांच-पांच सौ रूपये की सहायता राशि डाली ◾देश में कोरोना का कहर जारी, वायरस से संक्रमित मरीजों की संख्या पांच हजार के पार,140 से ज्यादा लोगों की मौत◾जमात के कार्यक्रम में शामिल हुए लोगों के खिलाफ होगा मामला दर्ज, दिया हुआ समय-सीमा समाप्त : अनिल विज ◾Covid 19 : लखनऊ समेत 15 जिलों में चुनिंदा इलाकों को किया जायेगा सील◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भारी बर्फबारी से मिलम क्षेत्र की अग्रिम चौकी रिलकोट में 16 दिन से फंसे आठ जवानों का रेस्क्यू

पिथौरागढ़ : भारी बर्फबारी से मिलम क्षेत्र की अग्रिम चौकी रिलकोट में 16 फंसे आठ आईटीबीपी जवानों को मुनस्यारी लाने की कवायद शुरू हो चुकी है। वायुसेना के हेलीकॉप्टर पहले शिफ्ट में रिलकोट से चार जवानों को लिफ्ट कर मुनस्यारी लाए। शेष चार जवानों को लाने के लिए हेलीकॉप्टर ने दोबारा उड़ान भरी है। 

चौकी शिफ्ट होने के दौरान 12 और 13 दिसंबर को हुए भारी हिमपात से आठ आईटीबीपी जवान और सात पोर्टर्स रिलकोट में फंस गए थे। रिलकोट सहित मार्ग में छह से सात फ़ीट बर्फ जमी थी। जवानों के  साथ फंसे सात पोर्टर्स तीन दिन पूर्व बर्फ में चलकर मुनस्यारी पहुंच गए थे। 

लेकिन जवानों के पास हथियार और सामान होने के कारण उनका पैदल आना सम्भव नहीं था। आईटीबीपी ने गृह मंत्रालय से हेलीकॉप्टर की मांग की थी। इस बीच उच्च हिमालय में मौसम खराब रहने से जवानों को लाने का कार्य नहीं हो पा रहा था। सोमवार सुबह उच्च हिमालय में मौसम अनुकूल रहा। वायु सेना के हैलीकॉप्टर से जवानो को रिलकोट से मुनस्यारी लाया जा रहा है।

अपने रिस्क पर रिलकाेट से पैदल चल दिए थे पोर्टर्स

बीते गुरुवार को सेनानी 14वीं वाहिनी आइटीबीपी जाजरदेवल अशोक कुमार ने बताया था कि कि गुरुवार को रिलकोट में फंसे सात पोर्टर्स अपने रिस्क पर रिलकोट से 24 किमी बर्फ पर चलकर शाम छह से सात बजे के बीच लीलम के निकट खोल्ता पहुंच गए थे।

सामान होने के कारण पैदल नहीं आ सकते थे जवान

रिलकोट में फंसे जवानों के पास हथियार और सामान थे। इस कारण से जवान पैदल नहीं आ सकते थे। ऐसे में उन्होंने वहां से न निकलने का तय किया और वायुसेना के वाहन की प्रतीक्षा करते रहे। लेकिन मौसम अनुकूल न होने के कारण  रेस्क्यू अभियान संभव न हो सका। नतीजा प्रतीक्षा लंबी होती गई। 

वहीं पोर्टर्स ने काफी दिनों की प्रतीक्षा के बाद भी जब देखा की मौसम साफ नहीं हो रहा है, ऐसे में हेलीकॉप्टर का यहां पहुंचना संभव नहीं है तो उन्होंने अपने ही रिस्क पर पैदल सफर करने की ठानी। पांच फीट से अधिक जमी बर्फ में  पैदल 12 घंटे तक 24 किलोमीटर का सफर उन्होंने तय किया। 

वहीं उच्च हिमालयी इलाकों के पर्वतारोहण के एक्सपर्ट गंगा राम का कहना है कि इन रास्तों पर अप्रैल में ही ट्रैक कर पाना काफी कठिन है।