BREAKING NEWS

स्वतंत्रता दिवस पर राष्ट्रीय राजधानी में देशभक्ति का जोश◾बिहार में कैबिनेट विस्तार आज, करीब 30 मंत्री होंगे शामिल ◾Bilkis Bano case : उम्रकैद की सजा पाए सभी 11 दोषी गुजरात सरकार की क्षमा नीति के तहत रिहा◾Independence Day 2022 : पीएम मोदी ने स्वतंत्रता दिवस की बधाई देने वाले वैश्विक नेताओं का किया आभार व्यक्त ◾Independence Day 2022 : सीमा पर तैनात भारत और पाकिस्तान के सैनिकों ने मिठाइयों का किया आदान प्रदान ◾Independence Day 2022 : विश्व नेताओं ने स्वतंत्रता के 75 वर्षों में भारत की उपलब्धियों की सराहना की◾Independence Day 2022 : लाल किले की प्राचीर से पीएम मोदी ने दिया 'जय अनुसंधान' का नारा,नवोन्मेष को मिलेगा बढ़ावा◾स्वतंत्रता दिवस पर गहलोत ने फहराया झंडा! CM ने कहा- देश के स्वर्णिम इतिहास से प्रेरणा ले युवा ◾क्रूर तालिबान का सत्ता में एक साल पूरा : कितना बदला अफगानिस्तान, गरीबी का बढ़ा दायरा ◾नगालैंड : स्वतंत्रता दिवस पर उग्रवादियों के मंसूबे नाकाम, मुठभेड़ में असम राइफल्स के दो जवान घायल◾शशि थरूर के टी जलील की विवादित टिप्पणी पर भड़के, कहा- देश से ‘तत्काल' माफी मांगनी चाहिए◾विपक्ष का मोदी पर तीखा वार, कहा- महिलाओं के प्रति अपनी पार्टी का रवैया देखें प्रधानमंत्री◾स्वतंत्रता दिवस की 76 वी वर्षगांठ पर सीएम ने किया 75 ‘आम आदमी क्लीनिक’ का उद्घाटन ◾Bihar: 76वें स्वतंत्रता दिवस पर बोले नीतीश- कई चुनौतियों के बावजूद बिहार प्रगति के पथ पर अग्रसर ◾मध्यप्रदेश : आपसी झगड़े के बीच बम का धमाका, एक की मौत , 15 घायल◾बेटा ही बना पिता व बहनों की जान का दुश्मन, संपत्ति विवाद के चलते की धारदार हथियार से हत्या ◾स्वतंत्रता दिवस पर मोदी की गूंज! पीएम ने कहा- हर घर तिरंगा’ अभियान को मिली प्रतिक्रिया...... पुनर्जागरण का संकेत◾उधोगपति मुकेश अंबानी के परिवार को जान से मारने की धमकी, जांच शुरू◾स्वतंत्रता दिवस पर बोले केजरीवाल- 130 करोड़ लोगों को मिलकर नए भारत की नीव रखनी है, मुफ्तखोरी को लेकर कही यह बात ◾Independence Day 2022 : देश में सहकारी प्रतिस्पर्धी संघवाद की जरूरत : पीएम मोदी ◾

भारी बर्फबारी से मिलम क्षेत्र की अग्रिम चौकी रिलकोट में 16 दिन से फंसे आठ जवानों का रेस्क्यू

पिथौरागढ़ : भारी बर्फबारी से मिलम क्षेत्र की अग्रिम चौकी रिलकोट में 16 फंसे आठ आईटीबीपी जवानों को मुनस्यारी लाने की कवायद शुरू हो चुकी है। वायुसेना के हेलीकॉप्टर पहले शिफ्ट में रिलकोट से चार जवानों को लिफ्ट कर मुनस्यारी लाए। शेष चार जवानों को लाने के लिए हेलीकॉप्टर ने दोबारा उड़ान भरी है। 

चौकी शिफ्ट होने के दौरान 12 और 13 दिसंबर को हुए भारी हिमपात से आठ आईटीबीपी जवान और सात पोर्टर्स रिलकोट में फंस गए थे। रिलकोट सहित मार्ग में छह से सात फ़ीट बर्फ जमी थी। जवानों के  साथ फंसे सात पोर्टर्स तीन दिन पूर्व बर्फ में चलकर मुनस्यारी पहुंच गए थे। 

लेकिन जवानों के पास हथियार और सामान होने के कारण उनका पैदल आना सम्भव नहीं था। आईटीबीपी ने गृह मंत्रालय से हेलीकॉप्टर की मांग की थी। इस बीच उच्च हिमालय में मौसम खराब रहने से जवानों को लाने का कार्य नहीं हो पा रहा था। सोमवार सुबह उच्च हिमालय में मौसम अनुकूल रहा। वायु सेना के हैलीकॉप्टर से जवानो को रिलकोट से मुनस्यारी लाया जा रहा है।

अपने रिस्क पर रिलकाेट से पैदल चल दिए थे पोर्टर्स

बीते गुरुवार को सेनानी 14वीं वाहिनी आइटीबीपी जाजरदेवल अशोक कुमार ने बताया था कि कि गुरुवार को रिलकोट में फंसे सात पोर्टर्स अपने रिस्क पर रिलकोट से 24 किमी बर्फ पर चलकर शाम छह से सात बजे के बीच लीलम के निकट खोल्ता पहुंच गए थे।

सामान होने के कारण पैदल नहीं आ सकते थे जवान

रिलकोट में फंसे जवानों के पास हथियार और सामान थे। इस कारण से जवान पैदल नहीं आ सकते थे। ऐसे में उन्होंने वहां से न निकलने का तय किया और वायुसेना के वाहन की प्रतीक्षा करते रहे। लेकिन मौसम अनुकूल न होने के कारण  रेस्क्यू अभियान संभव न हो सका। नतीजा प्रतीक्षा लंबी होती गई। 

वहीं पोर्टर्स ने काफी दिनों की प्रतीक्षा के बाद भी जब देखा की मौसम साफ नहीं हो रहा है, ऐसे में हेलीकॉप्टर का यहां पहुंचना संभव नहीं है तो उन्होंने अपने ही रिस्क पर पैदल सफर करने की ठानी। पांच फीट से अधिक जमी बर्फ में  पैदल 12 घंटे तक 24 किलोमीटर का सफर उन्होंने तय किया। 

वहीं उच्च हिमालयी इलाकों के पर्वतारोहण के एक्सपर्ट गंगा राम का कहना है कि इन रास्तों पर अप्रैल में ही ट्रैक कर पाना काफी कठिन है।