BREAKING NEWS

आंध्र प्रदेश में कोरोना के 10 हजार से अधिक नए मामले की पुष्टि, 77 की मौत◾लाखों दीपों से जगमगा उठी रामनगरी, पुष्पों से सजा शहर◾जम्मू कश्मीर पर बड़बोली टिप्पणी करने को लेकर भारत ने चीन को दी सख्त नसीहत◾महाराष्ट्र : मुंबई में तेज हवा के साथ भारी बारिश, कई इलाकों में रेड अलर्ट◾महाराष्ट्र में कोरोना का प्रकोप जारी, 24 घंटे में 334 लोगों की मौत, 10309 नए मामले◾प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने रिया चक्रवर्ती को भेजा सम्मन, सात अगस्त को पूछताछ के लिए बुलाया ◾एक्टर सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में जांच करेगी सीबीआई, केंद्र ने जारी की अधिसूचना ◾चीन का बड़बोलापन : जम्मू-कश्मीर में धारा 370 हटाना अवैध और अमान्य, एकतरफा बदलाव अस्वीकार्य◾भूमि पूजन के बाद भावविभोर हुए योगी, बोले : 'रामराज्य' और 'नए भारत निर्माण' के युग का प्रारंभ◾अयोध्या : भूमि पूजन के दौरान चरम पर पहुंचा रामभक्तों का उत्साह, भावुक हुए श्रद्धालु◾भूमिपूजन पर बोले ओवैसी-यह लोकतंत्र की हार और हिंदुत्व की सफलता का दिन◾अयोध्या में सुनहरा अध्याय रच रहा है भारत, राष्ट्रीय एकता और राष्ट्रीय भावना का प्रतीक बनेगा राम मंदिर : PM मोदी ◾भूमि पूजन के बाद बोले मोहन भागवत-आज देश में सदियों की आस पूरी होने का आनंद◾राम मंदिर भूमि पूजन के बाद राहुल का तंज- घृणा और क्रूरता से प्रकट नहीं हो सकते राम◾500 साल का लंबा इंतजार खत्म, भूमि पूजन के साथ साकार हुआ भव्य राम मंदिर का सपना◾सुशांत सुसाइड केस : केंद्र ने CBI जांच संबंधी सिफारिश की स्वीकार, SC ने कहा- मामले का सच सामने आना चाहिए◾राम मंदिर भूमि पूजन : अयोध्या में PM मोदी ने रामलला के किए दर्शन, कार्यक्रम की हुई शुरुआत ◾अनुच्छेद 370 को निरस्त किए जाने का एक वर्ष पूरा, लाल चौक पर BJP कार्यकर्ता रम्यसा रफीक ने लहराया तिरंगा◾World Corona : विश्व में संक्रमितों का आंकड़ा 1 करोड़ 85 लाख के पार, 7 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में कोरोना संक्रमण के 52 हजार 509 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 19 लाख के पार◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

सौ फीसदी आरक्षण लागू करने हेतु रिजर्वेशन लागू किया जाये : बीएल मातंग

पटना : ब्राह्मण एवं सवर्ण जातियों को 10 प्रतिशत आरक्षण लागू करना आर्थिक आधार पर अब असंवैधानिक है इसे तत्काल रद्द किया जाये। विश्वविद्यालय में प्वाइंट रोस्टर प्राणी से एसटी, एससी, ओबीसी को कॉलेज में भी उनके संवैधानिक अधिक से वंचित करना का कार्यक्रम है इसे रद्द किया जाना चाहिए। सुप्रीम कोर्ट 8 अक्टूबर, 2013 को फैसला दिया था जहां रिजल्ट पर विवाद के बाद पेपर ट्रेल मशीन से निकलने वाली कागजी मतपत्रों का भी रिकाउंटिंग होनी चाहिए। आदेश पर चुनाव आयोग अमल नहीं करके सुप्रीम कोर्ट के आदेश को अब अवमानना कर रहा है। ये बातें आज गांधी मैदान में हजारों की संख्या में भरे जन आक्रोश महारैली को बहुजन मुक्ति पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष बी. एल. मातंग साहब ने संबोधित किया।

उन्होंने कहा कि ओबीसी जाति आधारित जनजगणना करायी जाये ताकि मालूम हो सके कि कौन जाति की जनसंख्या कितनी है। नीतीश सरकार ने भूमिहीन एवं गरीबों को पंाच डिसमिल जमीन देने का वादा किया था लेकिन उन्होंने जमीन नहीं देकर वादाखिलाफी करने का काम किया। 100 प्रतिशत आरक्षण लागू करने के लिए रिजर्वेशन, इम्लीमेंटेंशन एक्ट बनाना चाहिए। उन्होंने कहा कि उक्त मुद्दे को लेकर हमने भारत बंद भी बुलाया था तथा हमारे कार्यकत्र्ताओं को झूठे मुकदमा में फंसाया भी गया था उसे वापस लिया जाये। महिलाओं को संख्या आधारित निर्वाचन क्षेत्र लागू होनी चाहिए। अल्पसंख्यक कॉलेजों में शिक्षकों का पेंशन जारी करो, आदिवासी को जल, जंगल और जमीन पर असंवैधानिक तरीके से कब्जा बंद करना चाहिए। जंगल में रहने वाले आदिवासी को मूल अधिकार दिया जाये। महिलाओं के आबरू से हो रहे खिलवाड़ को रोका जाये, किसान आयोग का गठन किया जाये और फसल मूल्य निर्धारित हो। सच्चर कमिटी की रिपोर्ट लागू किया जाये, बेरोजगारों को रोजगार दिया जाये। महंगाई के अनुनसार वृद्धि की जाये।

श्री मातंग ने एक प्रश्न के उतर में कहा कि जब हमलोग अमेरीका, फ्रांस, चाइना से सामान आयात कर सकते हैं लेकिन उन देशों में इबीएम मशीन से चुनाव नहीं कराया जाता है वहां बैलेट पेपर से कराया जाता है वह भारत में भीलागू किया जाये। उन्होंने पिछले दिन पुलवापमा में हमारे 50 सैनिकों को शहीद होना पड़ा, जबकि एक सप्ताह पहले ही गृह मंत्रालय को खुफिया रिपोर्ट मिली थी लेकिन गृह मंत्रालय एक सप्ताह से कहां सोयी थी। जबकि एक बोतल शराब भी कोई ले नहीं जा सकता है और 300 क्विंटल बारूद किस तरह से गाड़ी में ले गया।

हमारा खुफिया तंत्र कहां सोया हुआ था जिस गाड़ी में बारूद ले जाया गया उसमें कितने लोग बैठे थे उन सभी की लाश कहां पर है। सरकार से जनता मांगती है। अगर केन्द्र सरकार खुफिया रिपोर्ट पर सावधानी बरतती होती हो इतने जवानों की जाने नहीं जाती। गृह मंत्रालय को अपने ऊपर जिम्मेवारी लेते हुए इस्तीफा दे देना चाहिए। सभा को संबोधित करने वालों में भागीरथी मांझी, प्रदेश अध्यक्ष जौहर आजाद, सरफुद्दीन अहमद, रघुनीराम शास्त्री, सोमप्रकाश यादव, रतन लाल, प्रो. सुरेश मंडल, विजय कश्यप, डा. पीएनपी पाल, डा. उमाशंकर साहनी, बमुपा के किरण चौधरी, जनार्दन अनुरागी आदि ने किया।