BREAKING NEWS

कोरोना संकट : देश में कोरोना संक्रमित मरीजों का आंकड़ा 1000 के पार, मौत का आंकड़ा पहुंचा 24◾कोरोना महामारी के बीच प्रधानमंत्री मोदी आज करेंगे मन की बात◾कोरोना : लॉकडाउन को देखते हुए अमित शाह ने स्थिति की समीक्षा की◾इटली में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, मरने वालों की संख्या बढ़कर 10,000 के पार, 92,472 लोग इससे संक्रमित◾स्पेन में कोरोना वायरस महामारी से पिछले 24 घंटों में 832 लोगों की मौत , 5,600 से इससे संक्रमित◾Covid -19 प्रकोप के मद्देनजर ITBP प्रमुख ने जवानों को सभी तरह के कार्य के लिए तैयार रहने को कहा◾विशेषज्ञों ने उम्मीद जताई - महामारी आगामी कुछ समय में अपने चरम पर पहुंच जाएगी◾कोविड-19 : राष्ट्रीय योजना के तहत 22 लाख से अधिक सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवा कर्मियों को मिलेगा 50 लाख रुपये का बीमा कवर◾कोविड-19 से लड़ने के लिए टाटा ट्रस्ट और टाटा संस देंगे 1,500 करोड़ रुपये◾लॉकडाउन : दिल्ली बॉर्डर पर हजारों लोग उमड़े, कर रहे बस-वाहनों का इंतजार◾देश में कोविड-19 संक्रमण के मरीजों की संख्या 918 हुई, अब तक 19 लोगों की मौत ◾कोरोना से निपटने के लिए PM मोदी ने देशवासियों से की प्रधानमंत्री राहत कोष में दान करने की अपील◾कोरोना के डर से पलायन न करें, दिल्ली सरकार की तैयारी पूरी : CM केजरीवाल◾Coronavirus : केंद्रीय राहत कोष में सभी BJP सांसद और विधायक एक माह का वेतन देंगे◾लोगों को बसों से भेजने के कदम को CM नीतीश ने बताया गलत, कहा- लॉकडाउन पूरी तरह असफल हो जाएगा◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान - लॉकडाउन के दौरान राज्य आपदा राहत कोष से मजदूरों को मिलेगी मदद◾वुहान से भारत लौटे कश्मीरी छात्र ने की PM मोदी से बात, साझा किया अनुभव◾लॉकडाउन को लेकर कपिल सिब्बल ने अमित शाह पर कसा तंज, कहा - चुप हैं गृहमंत्री◾बेघर लोगों के लिए रैन बसेरों और स्कूलों में ठहरने का किया गया इंतजाम : मनीष सिसोदिया◾कोविड-19 : केरल में कोरोना वायरस से पहली मौत, देश में अबतक 20 लोगों की गई जान ◾

सरकारी तंत्र का उपयोग के बाद भी संकल्प रैली फ्लॉप

पटना : रालोसपा के मुख्य प्रवक्ता माधव आनंद ने कहा कि ने कहा कि पटना के गांधी मैदान में एनडीए द्वारा संकल्प रैली का आयोजन किया गया था। जिसमें प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी रैली के मुख्य अतिथि थे। डब्ल इंजन के सरकार ने सरकारी तंत्र का भरपुर सहयोग लिया फिर भी रैली में अपेक्षित भीड़ नहीं जूट सकी। सडक़ों पर प्रदर्शनी की तरह पोस्टर जरूर पटा था। रैली में लगभग 200 करोड़ रूपया खर्च किया गया। पर रैली पूरी तरह से असफल रही।

प्रधानमंत्री जी के पिछले बार 2014 के रैली के एक चौथाई भीड़ मात्र गांधी मैदान में देखने को मिला। मंत्रियों और विधायकों के आवास पर खाने-रहने का व्यवस्था किया गया था। पण्डाल में व्यंजन सजाया गया था पर खाने वालों का अता-पता नहीं था। प्रधानमंत्री जी उत्साहित भाषण गांधी मैदान में नहीं दे सके। अगर भाजपा अकेले रैली करती तो इससे ज्यादा लोग रैली में सिरकत करते। प्रधानमंत्री जी ने 2014 में जनता से किये हुए वादा जैसे दो करोड़ युवाओं को रोजगार देना, 15 लाख खातों में देना, शिक्षा की गारन्टी जैसी बातों का जिक्र नहीं कर सके।

प्रधानमंत्री जी सिर्फ ससती लोकप्रियता के लिए पुलवामा घटना के शहिदों तथा 27 तारीख को पाकिस्तान के बालाकोट में एयर स्ट्राईक के घटना का जिक्र करने में पूरा भाषण समाप्त कर दिये।

नीतीश जी को लगा था कि बिहार की जनता आतंकवादी घटनाओं को प्रोपगेंडा फैलाकर गांधी मैदान में बुला लेंगे। पर उन्हें मालुम होना चाहिए कि बिहार की जनता सजग है, उन्हें पता है कि चूनाव के तारीख नजदीक आते ही एनडीए की सरकार देश की जनता को विकास से ध्यान हटाकर आतंकवाद की ओर ले भटकाना चाहती हैं। सरकार द्वारा सस्ती लोकप्रियता पाने के लिए प्रोपगेंडा फैलाया जा रहा है। देश के सभी राजनीतिक दल, नेता आतंकबाद पर एक साथ खड़ा है। शहीद सैनिको पर एनडीए नेता राजनीती न करे।