BREAKING NEWS

CM केजरीवाल ने कहा- डेंगू नियंत्रण पर उठाएंगे कई कदम, स्कूली छात्र होंगे शामिल◾ महाराष्ट्र : शिंदे की पीएफआई कार्यकर्ताओं को दो टूक, कहा - बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद के नारे' ◾अमित शाह के वार पर RJD प्रमुख का पलटवार, बोले- भाजपा का होगा सफाया ◾ राजस्थान : कांग्रेस समर्थित निर्दलीय विधायक के बेटों को रिश्वत लेते हुए एसीबी ने किया गिरफ्तार ◾पीएफआई हिंसा पर विजयन का बड़ा बयान, कहा - पूर्व नियोजित थी हिंसा, दोषियों को बख्शा नहीं जाएगा ◾दक्षिण में 2024 की तैयारी का जायजा लेने के लिए केरल के दो दिवसीय दौरे पर जाएंगे जेपी नड्डा ◾ 'आप' का राज्यपाल पर बड़ा आरोप, कहा - बीजेपी के इशारे पर कर रहे हैं काम◾Himachal Pradesh: कांग्रेस को झटका! आश्रय शर्मा बीजेपी में होंगे शामिल◾यूपी में मर्यादा तार -तार कक्षा तीन की छात्रो को प्रिंसिपल ने दिखाया अश्लील वीडीयो, मामला दर्ज◾हिजाब विवाद में फंसा ईरान, तेजी के साथ पूरे देश में फैल रही हैं प्रदर्शन की आग ◾Punjab News: होशियारपुर में गैस संयंत्र में धमाका, एक की मौत◾चीन में सैन्य तख्तापलट का मंडराया खतरा ! शी जिनपिंग नजरबंद, चीन में चर्चाओं ने पकड़ी गति◾Pune: पीएफआई कार्यकर्ताओं ने लगाए ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे, भाजपा ने की एक्शन लेने की मांग◾दिल्ली में बोले लालू-'नीतीश और मैं सोनिया से मिलेंगे, विपक्ष को एकजुट करने की करेंगे कोशिश'◾संदीप दीक्षित ने AAP सरकार के शिक्षा मॉडल को घेरा, जानें क्या कहा .... ◾हिमाचल की युवा शक्ति ने हमेशा देश को गौरवान्वित होने का अवसर दिया : PM मोदी◾ पीएफआई के गुंडों को दुकानदार ने दिखाई हैसियत, दुकान बंद करने से किया इनकार, वीडीयो वायरल◾अगर हो गई है ट्रेन लेट तो जानें IRCTC का ये नियम, यात्रा में मिलेगा बिल्कुल मुफ्त में खाना◾Congress President Election: गहलोत -थरूर में मुकाबला पक्का, थरूर ने मंगवाया नामांकन पत्र ◾सरकार की नीतियों की गलत व्याख्या कर जनमानस में पीएफआई ने फैलाई नफरत : एनआईए ◾

TMC के वरिष्ठ नेता सुब्रत मुखर्जी का निधन, CM ममता बनर्जी ने कहा-मेरे लिए बड़ा झटका

तृणमूल कांग्रेस (TMC) के वरिष्ठ नेता सुब्रत मुखर्जी का गुरुवार को हार्ट अटैक से निधन हो गया। 75 वर्षीय मुखर्जी ने कोलकाता के सरकारी अस्पताल में आखिरी सांस ली। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने टीएमसी नेता के निधन की जानकारी देते हुए मुखर्जी के निधन को व्यक्तिगत क्षति बताया।

राज्य के अन्य मंत्री फिरहाद हकीम ने बताया कि तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता की इस हफ्ते की शुरूआत में ‘एंजियोप्लास्टी’ हुई थी और दिल का दौरा पड़ने के बाद रात नौ बजकर 22 मिनट पर उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री अपने कालीघाट आवास पर काली पूजा कर रही थी, वह एसएसकेएम अस्पताल गईं और मुखर्जी का निधन हो जाने की घोषणा की।

उन्होंने कहा, “ मैं यकीन नहीं कर सकती हूं कि वह अब हमारे साथ नहीं हैं। वह पार्टी के एक समर्पित नेता थे। यह मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।” ममता बनर्जी ने बताया कि मुखर्जी के पार्थिव शरीर को सरकारी सभागार रबींद्र सदन ले जाया जाएगा, जहां आज लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे सकेंगे।

ममता बनर्जी ने कहा, “मैंने अपने जीवन में कई आपदाओं का सामना किया है लेकिन यह बहुत बड़ा झटका है। मुझे नहीं लगता कि सुब्रत दा जैसा कोई दूसरा व्यक्ति होगा जो इतना अच्छा और मेहनती होगा। पार्टी और उनका निर्वाचन क्षेत्र (बालीगंज) उनकी आत्मा थी। मैं सुब्रत दा का शव नहीं देख पाऊंगी।” 

उन्होंने कहा, “आज शाम अस्पताल के प्राचार्य ने मुझे बताया कि सुब्रत दा ठीक हैं और वह कल घर वापस जा रहे हैं। चिकित्सकों ने पूरी कोशिश की।” पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “ यह पश्चिम बंगाल के लिए एक बड़ी क्षति है। ऐसा लगता है कि मैंने अपने बड़े भाई को खो दिया है। कुछ दिन पहले, मैं उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने अस्पताल गया था और उनसे बात की थी। यह भारतीय राजनीति के लिए एक बड़ी क्षति है।” 

उन्होंने बताया कि इसके बाद पार्थिव शरीर को बालीगंज ले जाया जाएगा और फिर उनके पैतृक आवास ले जाया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि मुखर्जी को 24 अक्टूबर को सांस लेने में परेशानी के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मुखर्जी की एक नवंबर को ‘एंजियोप्लास्टी’ हुई थी और उनके दिल की धमनियों में दो स्टेंट डाले गए थे।

उल्लेखनीय है कि 1970 के दशक में प्रधानमंत्री के तौर पर इंदिरा गांधी के दूसरे कार्यकाल के दौरान मुखर्जी पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के एक उदीयमान नेता थे। उन्होंने कांग्रेस के दो अन्य नेताओं, सोमेन मित्रा और प्रियरंजन दासमुंशी के साथ मिलकर तिकड़ी बनाई थी। मुखर्जी और मित्रा क्रमश: 2010 और 2008 में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी में शामिल हो गए थे। मित्रा 2014 में अपनी पुरानी पार्टी में लौट गए, जबकि मुखर्जी तृणमूल कांग्रेस में ही रहे। दासमुंशी का 2017 और मित्रा का 2020 में निधन हो गया।