BREAKING NEWS

चंद्रशेखर ने अकेले चुनाव लड़ने का किया ऐलान, अखिलेश को बताया 'धोखेबाज', कहा- बात से पलटते हैं तो...◾ क्यों बेटे के लिए इस्तीफा देने को तैयार हुई भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी, जानिए क्या है पूरी खबर◾यूपी: PM मोदी ने भाजपा कार्यकर्ताओं के साथ किया डिजिटल संवाद, जानिए उनकी बातचीत की अहम बातें◾अखिलेश ने किया चुनावी वादा, बोले- 300 यूनिट मुफ्त बिजली लेने वाले कल से कराएं अपना पंजीकरण◾भगवंत मान होंगे AAP के CM उम्मीदवार, 'जनता चुनेगी अपना सीएम' पोल में दूसरे नंबर पर नवजोत सिंह सिद्धू ◾UP विधानसभा चुनाव: सियासी दलों के बीच छिड़ी सुरों की जंग, जानिए कैसे गीतों के सहारे प्रचार कर रही हैं पार्टियां◾'ज़िंदगी झंड बा-फिर भी घमंड बा', रवि किशन के वायरल Video पर नवाब मलिक का तंज◾सुरक्षा चूक: जांच कमेटी की अध्यक्ष जस्टिस इंदु मल्होत्रा के बाद SC के वकील को फिर मिली धमकी, जानें मामला ◾पंजाब चुनाव से पहले ED का बड़ा एक्शन, चन्नी के भतीजे समेत 10 जगहों पर की छापेमारी, अमरिंदर बोले... ◾5 राज्यों में होने वाले चुनाव को लेकर हुई डिजिटल प्रचार की शुरुआत, पार्टियों में छिड़ी 'थीम सॉन्ग्स' की जंग ◾UP election: ग्रामीण इलाकों में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए कांग्रेस करेगी 'प्रतिज्ञा चौपाल' का आयोजन ◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्पीच में पड़ा खलल, राहुल ने ली चुटकी, बोले- टेलीप्रॉम्प्टर भी नहीं झेल पाया झूठ ◾यूपी: AIMIM ने बाहुबली अतीक अहमद की पत्नी को प्रयागराज से चुनावी मैदान में उतारा, मिलेगी कड़ी टक्कर◾UP: हरिद्वार विवाद से अलीगढ़ प्रशासन ने लिया सबक, प्रस्तावित धर्म संसद की अनुमति देने से किया इनकार ◾Today's Corona Update : देश में गिरने लगा कोरोना का ग्राफ, पिछले 24 घंटे में ढाई लाख से कम नए केस ◾दिल्ली: गाजीपुर में RDX मिलने के बाद सुरक्षा के बंदोबस्त किए गए पुख्ता, गणतंत्र दिवस पर तीसरी आंख रखेगी नजर◾World Coronavirus : वैश्विक स्तर पर कोरोना मामलों में वृद्धि, 33.02 करोड़ से ऊपर पहुंचा आंकड़ा◾देश के कई हिस्सों में सर्दी का सितम जारी, मैदानी इलाकों को अभी नहीं मिलेगी शीतलहर से राहत◾UP चुनाव को लेकर PM मोदी वाराणसी के भाजपा कार्यकर्ताओं से आज करेंगे वर्चुअल संवाद, देंगे यह मंत्र◾पंजाब विधानसभा चुनाव में CAPF की 1,050 कंपनी तैनात करने की मांग ◾

TMC के वरिष्ठ नेता सुब्रत मुखर्जी का निधन, CM ममता बनर्जी ने कहा-मेरे लिए बड़ा झटका

तृणमूल कांग्रेस (TMC) के वरिष्ठ नेता सुब्रत मुखर्जी का गुरुवार को हार्ट अटैक से निधन हो गया। 75 वर्षीय मुखर्जी ने कोलकाता के सरकारी अस्पताल में आखिरी सांस ली। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने टीएमसी नेता के निधन की जानकारी देते हुए मुखर्जी के निधन को व्यक्तिगत क्षति बताया।

राज्य के अन्य मंत्री फिरहाद हकीम ने बताया कि तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता की इस हफ्ते की शुरूआत में ‘एंजियोप्लास्टी’ हुई थी और दिल का दौरा पड़ने के बाद रात नौ बजकर 22 मिनट पर उनका निधन हो गया। मुख्यमंत्री अपने कालीघाट आवास पर काली पूजा कर रही थी, वह एसएसकेएम अस्पताल गईं और मुखर्जी का निधन हो जाने की घोषणा की।

उन्होंने कहा, “ मैं यकीन नहीं कर सकती हूं कि वह अब हमारे साथ नहीं हैं। वह पार्टी के एक समर्पित नेता थे। यह मेरे लिए व्यक्तिगत क्षति है।” ममता बनर्जी ने बताया कि मुखर्जी के पार्थिव शरीर को सरकारी सभागार रबींद्र सदन ले जाया जाएगा, जहां आज लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे सकेंगे।

ममता बनर्जी ने कहा, “मैंने अपने जीवन में कई आपदाओं का सामना किया है लेकिन यह बहुत बड़ा झटका है। मुझे नहीं लगता कि सुब्रत दा जैसा कोई दूसरा व्यक्ति होगा जो इतना अच्छा और मेहनती होगा। पार्टी और उनका निर्वाचन क्षेत्र (बालीगंज) उनकी आत्मा थी। मैं सुब्रत दा का शव नहीं देख पाऊंगी।” 

उन्होंने कहा, “आज शाम अस्पताल के प्राचार्य ने मुझे बताया कि सुब्रत दा ठीक हैं और वह कल घर वापस जा रहे हैं। चिकित्सकों ने पूरी कोशिश की।” पश्चिम बंगाल प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष अधीर रंजन चौधरी ने भी उनके निधन पर शोक व्यक्त किया। उन्होंने कहा, “ यह पश्चिम बंगाल के लिए एक बड़ी क्षति है। ऐसा लगता है कि मैंने अपने बड़े भाई को खो दिया है। कुछ दिन पहले, मैं उनके स्वास्थ्य की जानकारी लेने अस्पताल गया था और उनसे बात की थी। यह भारतीय राजनीति के लिए एक बड़ी क्षति है।” 

उन्होंने बताया कि इसके बाद पार्थिव शरीर को बालीगंज ले जाया जाएगा और फिर उनके पैतृक आवास ले जाया जाएगा। सूत्रों ने बताया कि मुखर्जी को 24 अक्टूबर को सांस लेने में परेशानी के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मुखर्जी की एक नवंबर को ‘एंजियोप्लास्टी’ हुई थी और उनके दिल की धमनियों में दो स्टेंट डाले गए थे।

उल्लेखनीय है कि 1970 के दशक में प्रधानमंत्री के तौर पर इंदिरा गांधी के दूसरे कार्यकाल के दौरान मुखर्जी पश्चिम बंगाल में कांग्रेस के एक उदीयमान नेता थे। उन्होंने कांग्रेस के दो अन्य नेताओं, सोमेन मित्रा और प्रियरंजन दासमुंशी के साथ मिलकर तिकड़ी बनाई थी। मुखर्जी और मित्रा क्रमश: 2010 और 2008 में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली पार्टी में शामिल हो गए थे। मित्रा 2014 में अपनी पुरानी पार्टी में लौट गए, जबकि मुखर्जी तृणमूल कांग्रेस में ही रहे। दासमुंशी का 2017 और मित्रा का 2020 में निधन हो गया।