BREAKING NEWS

राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾मायावती ने केंद्र द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और असंवैधानिक◾चिदंबरम ने पहले ही दिन जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया: प्रकाश जावड़ेकर◾अर्थव्यवस्था पर असामान्य रूप से मौन हैं PM मोदी, सरकार को नहीं कोई खबर : चिदंबरम ◾रेपो दर में नहीं हुआ कोई बदलाव, RBI ने GDP ग्रोथ अनुमान घटाकर किया 5 फीसदी◾वायनाड में बोले राहुल- PM मोदी और अमित शाह ‘काल्पनिक’ दुनिया में जी रहे हैं इसलिए देश संकट में है◾जेल से बाहर आते ही एक्शन में दिखे चिदंबरम, संसद परिसर में मोदी सरकार के खिलाफ किया प्रदर्शन◾प्रियंका ने योगी सरकार पर साधा निशाना, कहा- प्रदेश में कानून व्यवस्था बेहतर होने के फर्जी प्रचार से बाहर निकलना चाहिए◾महाराष्ट्र में शिवसेना को बड़ा झटका, भाजपा में शामिल हुए 400 पार्टी कार्यकर्ता◾उत्तर प्रदेश : उन्नाव में गैंगरेप पीड़िता को जिंदा जलाने की कोशिश, सभी आरोपी फरार ◾अमेरिका : पर्ल हार्बर शिपयार्ड में हुई गोलीबारी, बाल-बाल बचे भारतीय वायुसेना प्रमुख भदौरिया◾मध्य प्रदेश : रीवा में बस-ट्रक के बीच भीषण टक्कर, 9 की मौत, 10 लोग घायल◾पूर्व PM मनमोहन सिंह बोले- अगर नरसिम्हा राव ने मान ली होती गुजराल कि बात तो टल सकता था 1984 का दंगा◾कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर वोटिंग जारी, बीजेपी सरकार की किस्मत का होगा फैसला◾सूडान फैक्ट्री हादसे में भारतीयों की मौत पर PM मोदी दुख प्रकट किया ◾जेल से बाहर आने के बाद चिदंबरम ने सोनिया गांधी से की मुलाकात ◾कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी ने निर्मला को ‘निर्बला कहने पर जताया खेद ◾

अन्य राज्य

शरद पवार बोले- हम एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर ही करेंगे काम, महाराष्ट्र में जल्द सरकार बनाए BJP-शिवसेना

 sharad pawar

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) के प्रमुख शरद पवार ने बुधवार को भाजपा और शिवसेना से कहा कि वह महाराष्ट्र में जल्द से जल्द सरकार का गठन करें। साथ ही अपने रुख पर अडिग रहते हुए उन्होंने कहा कि उनकी पार्टी एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर काम करेगी। 

शिवसेना के वरिष्ठ नेता एवं राज्यसभा सांसद संजय राउत के साथ आज सुबह मुलाकात के बाद संवाददाता सम्मेलन में शरद पवार ने उद्धव ठाकरे के नेतृत्व वाली पार्टी को समर्थन देने की अटकलों को खारिज कर दिया। भाजपा और शिवसेना के पिछले 25 वर्ष से साथ होने और उनके देर-सवेर साथ आ ही जाने की बात कहते हुए पवार ने पूछा, "सवाल है ही कहां?"

पवार ने कहा, "अगर हमारे पास बहुमत होता, तो हम किसी का इंतजार नहीं करते। कांग्रेस और राकांपा 100 का आंकड़ा पार नहीं कर पाए। हम एक जिम्मेदार विपक्ष के तौर पर काम करेंगे।" भाजपा और शिवसेना के पास शासन करने का जनादेश होने का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा, "उन्हें जल्द से जल्द सरकार बना राज्य को संवैधानिक संकट से बचाना चाहिए। उन्हें हमें लोगों द्वारा दिए जनादेश को पूरा करने की अनुमति देनी चाहिए।"

शिवसेना को समर्थन देने के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी से उनकी बातचीत के सवाल पर पवार ने कहा, "कांग्रेस और राकांपा ने एकसाथ चुनाव लड़ा था। हम चाहते हैं कि राजनीतिक स्थिति के बारे में सभी निर्णय आम सहमति से लिए जाएं। मुझे नहीं पता कि कांग्रेस का क्या फैसला है।"

शरद पवार ने उनके फिर राज्य का मुख्यमंत्री बनने की अटकलों को भी खारिज कर दिया। उन्होंने कहा, "मैं चार बार मुख्यमंत्री रहा हूं और अब मुझे दोबारा उस पद को हासिल करने की कोई बेसब्री नहीं है।" केन्द्रीय परिवहन मंत्री नितिन गडकरी और वरिष्ठ कांग्रेस नेता अहमद पटेल के बीच दिल्ली में हुई मुलाकात पर उन्होंने कहा, "जरूर सड़क से संबंधित कोई काम होगा।"

पवार ने साथ ही कहा कि राउत ने आज बुधवार को उनसे 18 नवम्बर को शुरू हो रहे संसद सत्र में राज्यसभा में एक साथ उठाने वाले मुद्दों पर बातचीत करने के लिए मुलाकात की। इस बीच, भाजपा और शिवसेना के जल्द सरकार बनाने के पवार के बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए राउत ने कहा, "वह सही कह रहे हैं। 105 विधायकों वाली पार्टी को ही सरकार बनानी चाहिए।"

बता दें कि राकांपा ने मंगलवार को कहा था कि शिवसेना द्वारा भाजपा के साथ गठबंधन समाप्त करने की घोषणा के बाद महाराष्ट्र में एक नए राजनीतिक विकल्प पर विचार किया जा सकता है। राकांपा से जुड़े सूत्रों ने बताया था कि उनकी पार्टी शिवसेना के साथ बातचीत आगे बढ़ाने से पहले चाहती है कि केन्द्र सरकार में शिवसेना के इकलौते मंत्री अरविंद सावंत इस्तीफा दें। 

नितिन गडकरी से मिले अहमद पटेल, बोले- महाराष्ट्र की राजनीति पर नहीं हुई कोई बात

राज्य में 24 अक्टूबर को विधानसभा चुनाव के नतीजों की घोषणा की गई थी, जिसके 13 दिन बाद भी कोई पार्टी सरकार गठन के लिए आवश्यक 145 सीटें नहीं जुटा पाई है। विधानसभा चुनाव में भाजपा को 105 सीटें और शिवसेना को 56 सीटें मिलीं। मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा और शिवसेना के बीच खींचतान जारी है। शिवसेना इस पद के लिए 50-50 का फार्मूला चाहती है, लेकिन भाजपा इस पर तैयार नहीं है। 

पिछले विधानसभा चुनाव के विपरीत भाजपा और शिवसेना ने यह चुनाव मिलकर लड़ा था। 288 सदस्यीय विधानसभा में भाजपा ने इस बार 105 सीटें जीतीं जबकि शिवसेना 56 सीटों पर विजेता रही। वहीं राकांपा ने 54 और कांग्रेस 44 सीटें अपने नाम की हैं। 

दिल्ली में सोमवार को शरद पवार और कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी के बीच, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस और भाजपा प्रमुख अमित शाह के बीच कई प्रमुख बैठकें हुई। लेकिन किसी भी बैठक में सरकार गठन को लेकर कोई हल नहीं निकला। वहीं राउत ने एक बार फिर दोहराया कि राज्य में शिवसेना का मुख्यमंत्री बनेगा।