BREAKING NEWS

जेटली की हालत बेहद नाजुक, पिछले 10 दिनों से एम्स में भर्ती◾उत्तर भारत में बारिश का कहर, हिमाचल, पंजाब, उत्तराखंड में 28 की मौत ◾PM मोदी की UAE, बहरीन की तीन दिवसीय यात्रा 23 अगस्त से ◾सोनिया को अनुच्छेद 370 पर अपनी राय स्पष्ट करनी चाहिए : शिवराज◾पाकिस्तानी सेना ने फिर किया संघर्षविराम का उल्लंघन, भारतीय सेना ने दिया मुहतोड़ जवाब ◾जब रात गहराती है : कश्मीर को सुरक्षित रखने के लिए जागे रहते हैं जवान◾गिलगित-बल्तिस्तान पर PAK ने समय-समय पर लिये फैसले◾कांग्रेस ने लद्दाख को उचित तवज्जो नहीं दी, इसीलिए चीन डेमचोक में घुसा : BJP सांसद नामग्याल ◾जेटली के स्वास्थ्य की जानकारी लेने और कई नेता पहुंचे AIIMS◾अभियान चलाकर भरे जाएं आरक्षण कोटे के खाली पद : मायावती◾तीन तलाक पर बोले शाह - समाज सुधारकों में लिखा जाएगा PM मोदी का नाम◾TOP 20 NEWS 18 August : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾भूटान की दो दिवसीय यात्रा से वापस लौटे प्रधानमंत्री मोदी, विदेश मंत्री जयशंकर ने किया स्वागत ◾हुड्डा ने किया अनुच्छेद 370 हटाए जाने का समर्थन, कांग्रेस को बताया रास्ते से भटकी हुई पार्टी ◾महाराष्ट्र, हरियाणा और झारखंड में भाजपा के अपने मौजूदा मुख्यमंत्रियों के तहत चुनाव लड़ने की संभावना◾पूर्व वित्त मंत्री अरूण जेटली से मिलने AIIMS पहुंचे अरविंद केजरीवाल, ट्वीट कर कही ये बात◾जम्मू के सभी जिलों में मोबाइल इंटरनेट सेवाएं फिर से बंद◾राजनाथ सिंह की पाक को चेतावनी, बोले - बातचीत होगी तो सिर्फ POK पर◾PM मोदी बोले- भूटान के छात्रों में है असाधारण चीजें करने की शक्ति एवं क्षमता◾JDS के नेतृत्व वाली सरकार के दौरान हुए फोन टैपिंग केस को CBI को सौंपेंगी येदियुरप्पा सरकार◾

अन्य राज्य

शत्रुघ्न सिन्हा, आदिल हुसैन, अन्य ने असम और बिहार में बाढ़ के स्थायी समाधान का आह्वान किया

असम, बिहार में बाढ़ पर चिंता प्रकट करते हुए आदिल हुसैन, पंकज त्रिपाठी, अभिनेता-नेता शत्रुघ्न सिन्हा जैसी बॉलीवुड की नामी गिरामी हस्तियों ने हर साल की विभीषिका के स्थायी समाधान की मांग की है। बिहार में 12 जिलों में बाढ़ से 100 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है और 80 लाख लोग प्रभावित हुए हैं। असम के 33 जिलों में 19 जिले बाढ़ प्रभावित हैं और यहां 70 लोगों की मौत हो चुकी है और 28 लाख लोग प्रभावित हुए हैं । 

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा, ‘‘हर साल सामना करना पड़ता है। लेकिन, यह वक्त एक दूसरे पर दोष मढ़ने का नहीं है। यह समाधान का, राहत और मुआवजे का समय है। लोग सड़कों पर आ गए हैं और न्यूनतम या बिना किसी सुविधा के राहत शिविरों में रह रहे हैं।’’ असम के गोलपाड़ा जिले से ताल्लुक रखने वाले हुसैन ने कहा कि आजादी के 70 साल बाद भी समस्या से निजात पाने के लिए देश के पास कोई ठोस योजना नहीं है। हुसैन ने कहा कि असम में हर साल बाढ़ जैसी स्थिति रहती है और प्रशासन को स्थायी समाधान निकालने की जरूरत है। 

बिहार के छपरा जिले से जुड़े त्रिपाठी ने अपने राज्य में बाढ़ की स्थिति से निपटने के लिए दूरगामी समाधान का आह्वान किया। असम के कामरूप जिले में एक गांव की रहने वाली राष्ट्रीय पुरस्कार विजेता फिल्मकार रीमा दास ने कहा कि वह बचपन से ही बाढ़ के कारण तबाही देखती रही हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘लोगों की जान जाती है, रोजी-रोटी प्रभावित होती है। घर बर्बाद हो जाते हैं, पशु बह जाते हैं। हम प्रकृति को तो नहीं नियंत्रित कर सकते लेकिन नुकसान रोकने के लिए कदम उठा सकते हैं । ’’ अभिनेता शेखर सुमन ने भी बाढ़ को चिंता का विषय बताया और समाधान का आह्वान किया। चर्चित अदाकार मनोज वाजपेयी ने भी बाढ़ को लेकर दुख जताते हुए लोगों से सामने आने और जितना संभव हो दान देने की अपील की है। 

इमरान खान बोले - लग रहा है किसी विदेशी दौरे से नहीं, वर्ल्ड कप जीत कर लौटा हूं