BREAKING NEWS

चरणजीत चन्नी होंगे पंजाब के नए मुख्यमंत्री, रंधावा ने हाईकमान के फैसले का किया स्वागत◾महबूबा मुफ्ती ने भाजपा पर साधा निशाना, कहा- वोट लेने के लिए पाकिस्तान का करती है इस्तेमाल ◾आतंकियों की नापाक साजिश होगी नाकाम, ड्रोन के लिए काल बनेगी ‘पंप एक्शन गन’! सरकार ने सुरक्षा बलों को दिए निर्देश◾TMC में शामिल होने के बाद बाबुल सुप्रियो ने रखी दिल की बात, बोले- जिंदगी ने मेरे लिए नया रास्ता खोल दिया है ◾सिद्धू पर लगे एंटीनेशनल के आरोपों पर BJP का सवाल, सोनिया और राहुल चुप क्यों हैं?◾सुखजिंदर रंधावा हो सकते पंजाब के नए मुख्यमंत्री, अरुणा चौधरी और भारत भूषण बनेंगे डिप्टी सीएम◾इस्तीफा देने से पहले सोनिया को अमरिंदर ने लिखी थी चिट्ठी, हालिया घटनाक्रमों पर पीड़ा व्यक्त की◾सिद्धू के सलाहकार का अमरिंदर पर वार, कहा-मुझे मुंह खोलने के लिए मजबूर न करें◾पंजाब : मुख्यमंत्री पद की रेस में नाम होने पर बोले रंधावा-कभी नहीं रही पद की लालसा◾प्रियंका गांधी का योगी पर हमला, बोलीं- जनता से जुड़े वादों को पूरा करने में असफल क्यों रही सरकार ◾पंजाब कांग्रेस की रार पर बोली BJP-अमरिंदर की बढ़ती लोकप्रियता के डर से लिया गया उनका इस्तीफा◾कैप्टन के भाजपा में शामिल होने के कयास पर बोले नेता, अमरिंदर जताएंगे इच्छा, तो पार्टी कर सकती है विचार◾कौन संभालेगा पंजाब CM का पद? कांग्रेस MLA ने कहा-अगले 2-3 घंटे में नए मुख्यमंत्री के नाम का होगा फैसला◾पंजाब में हो सकती है बगावत? गहलोत बोले-उम्मीद है कि कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे कैप्टन ◾CM योगी ने साढ़े चार साल का कार्यकाल पूरा होने पर गिनाईं अपनी सरकार की उपलब्धियां◾राहुल ने ट्वीट किया कोरोना टीकाकरण का ग्राफ, लिखा-'इवेंट खत्म'◾अंबिका सोनी ने पंजाब CM की कमान संभालने से किया इनकार, टली कांग्रेस विधायक दल की बैठक◾अफगानिस्तान में आगे बुनियादी ढांचा निवेश को जारी रखने के बारे में पीएम मोदी करेंगे निर्णय : नितिन गडकरी◾Today's Corona Update : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 30,773 नए मामलों की पुष्टि, 309 लोगों की हुई मौत◾पंजाब के बाद अब राजस्थान और छत्तीसगढ़ पर टिकी निगाहें, क्या होगा उलटफेर?◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

बंगाल चुनाव : TMC और BJP में दलबदलू नेताओं की चमकी किस्मत, महत्वपूर्ण सीटों पर मिले टिकट

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भले ही एक-दूसरे को नीचा दिखाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहे, लेकिन इन दोनों में एक बात समान है कि कई महत्वपूर्ण विधानसभा क्षेत्रों में इन दोनों विरोधियों ने दलबदलू नेताओं को टिकट दिया है। राज्य में दोनों दलों ने दलबदलू नेताओं को टिकट दिये है जिससे इन दलों में पुराने नेताओं और वफादारों में असंतोष है।

तृणमूल कांग्रेस ने अपनी 291 उम्मीदवारों की सूची में से इस बार 16 दलबदलू नेताओं को चुनाव मैदान में उतारा है। पार्टी ने जिन्हें टिकट दिये हैं, वे या तो अन्य पार्टियों से निर्वाचित प्रतिनिधि थे या पिछले कुछ वर्षों में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए थे। भाजपा ने इससे एक कदम और आगे बढ़ते हुए अब तक घोषित अपने 122 उम्मीदवारों में से 22 दलबदलुओं को टिकट दिये हैं और इनमें से ज्यादातर वे नेता शामिल हैं जो तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए थे। इन नेताओं में शुभेन्दु अधिकारी और राजीव बनर्जी भी शामिल हैं।

हुगली जिले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि जमीनी स्तर के कार्यकर्ता उनकी उम्मीदवारी से नाराज हैं। तृणमूल कांग्रेस ने इस बार पांच मंत्रियों समेत 28 मौजूदा विधायकों को टिकट नहीं दिया है और पार्टी को इसे लेकर उनके समर्थकों से विरोध का सामना करना पड़ा है। टिकट नहीं मिलने से नाराज तृणमूल कांग्रेस के सात विधायक पार्टी छोड़कर दूसरे दल में शामिल हो चुके हैं।

नाराजगी के बावजूद दोनों दलों ने अपने फैसले का बचाव करते हुए कहा है कि एक उम्मीदवार को उसकी जीतने की संभावना को ध्यान में रखते हुए टिकट दिया गया है। भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘‘हमारे पास ऐसे नेता और कार्यकर्ता हैं जिन्होंने बहुत मेहनत की है। हमारी पार्टी पश्चिम बंगाल में आकार में बढ़ रही है, और यह आवश्यक है कि हम यथासंभव कई प्रमुख चेहरों को समायोजित करें।’’

उन्होंने कहा, "हालांकि अन्य दलों से हमारी पार्टी में आए सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों को टिकट नहीं मिल पायेगा। सभी को खुश करना संभव नहीं है।" भाजपा की 59 उम्मीदवारों की पहली सूची में लगभग आठ दलबदलू हैं जिनमें अधिकारी और माकपा की पूर्व विधायक तापसी मंडल शामिल हैं। इसके अलावा 63 उम्मीदवारों की दूसरी सूची में 12 दलबदलू हैं। टिकट नहीं मिलने से नाराज भाजपा के आठ नेताओं ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया है।

वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद से तृणमूल कांग्रेस के 26 विधायक और दो सांसद, कांग्रेस तथा माकपा के तीन-तीन विधायक और भाकपा से एक नेता भाजपा में शामिल हो चुके हैं। तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘दलबदलू नेताओं को चुनाव मैदान में तीन कारणों से उतारा गया है- हम पिछले चुनावों में हमारे साथ नहीं जुड़े चेहरों को चुनाव में उतारकर सत्ता विरोधी लहर से निपटना चाहते हैं, कुछ क्षेत्रों में पार्टी के पास प्रमुख चेहरे नहीं थे और हम गुटबाजी को नियंत्रित करना चाहते थे।’’

तृणमूल कांग्रेस और भाजपा दोनों की ‘‘आयाराम गयाराम’’ राजनीति की आलोचना करते हुए माकपा ने कहा कि दोनों पार्टियां पश्चिम बंगाल की राजनीतिक संस्कृति को नष्ट करने पर उतारू है। माकपा के नेता सुजान चकवर्ती ने कहा, ‘‘हमने कभी भी अन्य दलों के किसी निर्वाचित प्रतिनिधि को शामिल नहीं किया है। तृणमूल कांग्रेस ने पहले बंगाल की राजनीतिक संस्कृति को नष्ट करने का प्रयास किया, और अब भाजपा इसे अगले स्तर पर ले जा रही है। कभी बंगाल ने इतनी बड़ी संख्या में दलबदलू नहीं देखे हैं।’’

ममता का आरोप- सत्ता में आने के लिए पीएम मोदी बोलते हैं झूठ, बंगाल को वैक्सीन नहीं दे रहा केंद्र