BREAKING NEWS

दिल्ली में घटे कोरोना टेस्ट के दाम, अब 500 की जगह इतने रुपये में करवा सकते हैं RT-PCR TEST ◾ इंडिया गेट पर बने अमर जवान ज्योति की मशाल अब हमेशा के लिए हो जाएगी बंद, जानिए क्या है पूरी खबर ◾IAS (कैडर) नियामवली में संशोधन पर केंद्र आगे नहीं बढ़े: ममता ने फिर प्रधानमंत्री से की अपील◾कल के मुकाबले कोरोना मामलों में आई कमी, 12306 केस के साथ 43 मौतों ने बढ़ाई चिंता◾बिहार में 6 फरवरी तक बढ़ाया गया नाइट कर्फ्यू , शैक्षणिक संस्थान रहेंगे बंद◾यूपी : मैनपुरी के करहल से चुनाव लड़ सकते हैं अखिलेश यादव, समाजवादी पार्टी का माना जाता है गढ़ ◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी, कोविड-19 की दूसरी लहर की तुलना में तीसरी में कम हुई मौतें ◾बेरोजगारी और महंगाई जैसे मुद्दों पर कांग्रेस ने किया केंद्र का घेराव, कहा- नौकरियां देने का वादा महज जुमला... ◾प्रधानमंत्री मोदी कल सोमनाथ में नए सर्किट हाउस का करेंगे उद्घाटन, PMO ने दी जानकारी ◾कोरोना को लेकर विशेषज्ञों का दावा - अन्य बीमारियों से ग्रसित मरीजों में संक्रमण फैलने का खतरा ज्यादा◾जम्मू कश्मीर में सुरक्षाबलों को मिली बड़ी सफलता, शोपियां से गिरफ्तार हुआ लश्कर-ए-तैयबा का आतंकी जहांगीर नाइकू◾महाराष्ट्र: ओमीक्रॉन मामलों और संक्रमण दर में आई कमी, सरकार ने 24 जनवरी से स्कूल खोलने का किया ऐलान ◾पंजाब: धुरी से चुनावी रण में हुंकार भरेंगे AAP के CM उम्मीदवार भगवंत मान, राघव चड्ढा ने किया ऐलान ◾पाकिस्तान में लाहौर के अनारकली इलाके में बम ब्लॉस्ट , 3 की मौत, 20 से ज्यादा घायल◾UP चुनाव: निर्भया मामले की वकील सीमा कुशवाहा हुईं BSP में शामिल, जानिए क्यों दे रही मायावती का साथ? ◾यूपी चुनावः जेवर से SP-RLD गठबंधन प्रत्याशी भड़ाना ने चुनाव लड़ने से इनकार किया◾SP से परिवारवाद के खात्मे के लिए अखिलेश ने व्यक्त किया BJP का आभार, साथ ही की बड़ी चुनावी घोषणाएं ◾Goa elections: उत्पल पर्रिकर को केजरीवाल ने AAP में शामिल होकर चुनाव लड़ने का दिया ऑफर ◾BJP ने उत्तराखंड चुनाव के लिए 59 उम्मीदवारों के नामों पर लगाई मोहर, खटीमा से चुनाव लड़ेंगे CM धामी◾संगरूर जिले की धुरी सीट से भगवंत मान लड़ सकते हैं चुनाव, राघव चड्डा बोले आज हो जाएगा ऐलान ◾

बंगाल चुनाव : TMC और BJP में दलबदलू नेताओं की चमकी किस्मत, महत्वपूर्ण सीटों पर मिले टिकट

पश्चिम बंगाल के विधानसभा चुनाव में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस और विपक्षी भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) भले ही एक-दूसरे को नीचा दिखाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ रहे, लेकिन इन दोनों में एक बात समान है कि कई महत्वपूर्ण विधानसभा क्षेत्रों में इन दोनों विरोधियों ने दलबदलू नेताओं को टिकट दिया है। राज्य में दोनों दलों ने दलबदलू नेताओं को टिकट दिये है जिससे इन दलों में पुराने नेताओं और वफादारों में असंतोष है।

तृणमूल कांग्रेस ने अपनी 291 उम्मीदवारों की सूची में से इस बार 16 दलबदलू नेताओं को चुनाव मैदान में उतारा है। पार्टी ने जिन्हें टिकट दिये हैं, वे या तो अन्य पार्टियों से निर्वाचित प्रतिनिधि थे या पिछले कुछ वर्षों में तृणमूल कांग्रेस में शामिल हुए थे। भाजपा ने इससे एक कदम और आगे बढ़ते हुए अब तक घोषित अपने 122 उम्मीदवारों में से 22 दलबदलुओं को टिकट दिये हैं और इनमें से ज्यादातर वे नेता शामिल हैं जो तृणमूल कांग्रेस से भाजपा में शामिल हुए थे। इन नेताओं में शुभेन्दु अधिकारी और राजीव बनर्जी भी शामिल हैं।

हुगली जिले में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ने कहा कि जमीनी स्तर के कार्यकर्ता उनकी उम्मीदवारी से नाराज हैं। तृणमूल कांग्रेस ने इस बार पांच मंत्रियों समेत 28 मौजूदा विधायकों को टिकट नहीं दिया है और पार्टी को इसे लेकर उनके समर्थकों से विरोध का सामना करना पड़ा है। टिकट नहीं मिलने से नाराज तृणमूल कांग्रेस के सात विधायक पार्टी छोड़कर दूसरे दल में शामिल हो चुके हैं।

नाराजगी के बावजूद दोनों दलों ने अपने फैसले का बचाव करते हुए कहा है कि एक उम्मीदवार को उसकी जीतने की संभावना को ध्यान में रखते हुए टिकट दिया गया है। भाजपा की राज्य इकाई के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘‘हमारे पास ऐसे नेता और कार्यकर्ता हैं जिन्होंने बहुत मेहनत की है। हमारी पार्टी पश्चिम बंगाल में आकार में बढ़ रही है, और यह आवश्यक है कि हम यथासंभव कई प्रमुख चेहरों को समायोजित करें।’’

उन्होंने कहा, "हालांकि अन्य दलों से हमारी पार्टी में आए सभी निर्वाचित प्रतिनिधियों को टिकट नहीं मिल पायेगा। सभी को खुश करना संभव नहीं है।" भाजपा की 59 उम्मीदवारों की पहली सूची में लगभग आठ दलबदलू हैं जिनमें अधिकारी और माकपा की पूर्व विधायक तापसी मंडल शामिल हैं। इसके अलावा 63 उम्मीदवारों की दूसरी सूची में 12 दलबदलू हैं। टिकट नहीं मिलने से नाराज भाजपा के आठ नेताओं ने निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन पत्र दाखिल किया है।

वर्ष 2019 में हुए लोकसभा चुनाव के बाद से तृणमूल कांग्रेस के 26 विधायक और दो सांसद, कांग्रेस तथा माकपा के तीन-तीन विधायक और भाकपा से एक नेता भाजपा में शामिल हो चुके हैं। तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, ‘‘दलबदलू नेताओं को चुनाव मैदान में तीन कारणों से उतारा गया है- हम पिछले चुनावों में हमारे साथ नहीं जुड़े चेहरों को चुनाव में उतारकर सत्ता विरोधी लहर से निपटना चाहते हैं, कुछ क्षेत्रों में पार्टी के पास प्रमुख चेहरे नहीं थे और हम गुटबाजी को नियंत्रित करना चाहते थे।’’

तृणमूल कांग्रेस और भाजपा दोनों की ‘‘आयाराम गयाराम’’ राजनीति की आलोचना करते हुए माकपा ने कहा कि दोनों पार्टियां पश्चिम बंगाल की राजनीतिक संस्कृति को नष्ट करने पर उतारू है। माकपा के नेता सुजान चकवर्ती ने कहा, ‘‘हमने कभी भी अन्य दलों के किसी निर्वाचित प्रतिनिधि को शामिल नहीं किया है। तृणमूल कांग्रेस ने पहले बंगाल की राजनीतिक संस्कृति को नष्ट करने का प्रयास किया, और अब भाजपा इसे अगले स्तर पर ले जा रही है। कभी बंगाल ने इतनी बड़ी संख्या में दलबदलू नहीं देखे हैं।’’

ममता का आरोप- सत्ता में आने के लिए पीएम मोदी बोलते हैं झूठ, बंगाल को वैक्सीन नहीं दे रहा केंद्र