BREAKING NEWS

नवजोत सिंह सिद्धू की बहन ने पूर्व कांग्रेस प्रमुख को बताया 'क्रूर इंसान', कहा- पैसों की खातिर मां को छोड़ा...◾गोवा: विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को लगा झटका, पूर्व CM प्रतापसिंह राणे ने इलेक्शन नहीं लड़ने का लिया फैसला◾यूपी : चुनाव प्रचार के लिए 31 जनवरी को अमित शाह देंगे आजम के गढ़ में दस्तक, घर-घर मांगेगे वोट ◾भय्यू महाराज खुदकुशी मामला: एक महिला समेत तीन सहयोगियों को 6 साल की सश्रम कारावास की सजा◾कोविड टीकाकरण : देश में एक करोड़ से अधिक लोगों को लगी एहतियाती खुराक, सरकार ने दी जानकारी ◾BJP ने SP की लिस्ट को बताया माफियाओं की सूची, कानून-व्यवस्था और विकास पर अखिलेश को दी चुनौती ◾दिल्ली : विवेक विहार गैंगरेप मामले में 9 महिलाओं समेत अब तक 11 गिरफ्तार◾खुलकर आई धनखड़ Vs TMC की लड़ाई, पार्टी लाएगी राज्यपाल के खिलाफ प्रस्ताव, अन्य दलों से मांगेगी सहयोग ◾यूपी: 'लाल टोपी वाले गुंडे' वाले बयान का सपा उठा रही चुनावी फायदा, कार्यकर्ताओं के लिए बना स्टेटस सिम्बल ◾चौथे चरण के लिए BSP ने की 53 उम्मीदवारों की घोषणा, दलितों, पिछड़ों और अल्पसंख्यकों में बनाया संतुलन ◾बजट सत्र से पहले कांग्रेस के संसदीय रणनीति समूह की बैठक, इन मुद्दों को लेकर विपक्ष का निशाना बनेगी सरकार◾कांग्रेस ने किया केजरीवाल का घेराव, कहा- शीला दीक्षित जी के कामों को अपना बता, जनता को कर रहे गुमराह ◾करिअप्पा ग्राउंड में दिखा PM मोदी का अलग अंदाज, पगड़ी-काला चश्मा लगाकर NCC रैली को किया सम्बोधित◾ओमीक्रॉन के बीच सामने आया कोरोना का एक और जानलेवा वेरिएंट 'NeoCov', वैज्ञानिकों ने दी चेतावनी ◾प्रमोशन में आरक्षण पर SC का फैसला, तय मानदंडों में हस्तक्षेप से किया इनकार◾अरुणाचल प्रदेश के युवक की वापसी पर बोले राहुल-क्या कब्ज़ा की हुई जमीन भी लौटाएगा चीन?◾UP के चुनावी घमासान में सांस ले रहा पाकिस्तान का मुद्दा, योगी ने अखिलेश को बताया 'जिन्ना का उपासक' ◾केरल : सरकार ने खारिज की मुस्लिम छात्रा की हिजाब पहनने की अर्जी, धर्मनिरपेक्षता का दिया हवाला◾अखिलेश-जयंत आज मुजफ्फरनगर में संयुक्त रैली को करेंगे संबोधित, CM योगी घर-घर जाकर मांगेंगे वोट ◾RRB NTPC Result : छात्रों का बिहार बंद, सड़कों पर टायर जलाकर किया प्रदर्शन◾

शिवसेना ने कृषि कानूनों को निरस्त करने की घोषणा को बताया ‘सत्ता के 'अहंकार की हार’, कही ये बात

शिवसेना ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को निरस्त करने की केंद्र की घोषणा को शनिवार को ‘‘सत्ता के अहंकार की हार’’ बताया और कहा कि भाजपा ने उत्तर प्रदेश और पंजाब में आगामी विधानसभा चुनावों में हार के डर से ऐसा किया। पार्टी ने अपने मुखपत्र ‘सामना’ में एक संपादकीय में कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का इन कानूनों को वापस लेने का फैसला किसानों की एकता की जीत है। इसमें कहा गया है कि यह ‘‘सदबुद्धि’’ भाजपा को हाल में 13 राज्यों में हुए उपचुनावों में मिली हार का नतीजा है।

 किसानों को खालिस्तानी, पाकिस्तानी और आतंकवादी तक कहा गया

शिवसेना ने कहा, ‘‘केंद्र सरकार ने विरोध की आवाज दबायी और संसद में तीन कृषि कानूनों को पारित कर दिया। केंद्र ने किसानों के प्रदर्शन को पूरी तरह नजरअंदाज किया। प्रदर्शन स्थल पर पानी और बिजली की आपूर्ति काट दी गयी। संघर्ष के दौरान किसानों को खालिस्तानी, पाकिस्तानी और आतंकवादी तक कहा गया।’’ उसने कहा कि इसके बावजूद किसान कानूनों को वापस लेने की अपनी मांग से हटे नहीं। प्रदर्शनों के दौरान 550 किसानों की मौत हो गयी। एक केंद्रीय मंत्री के बेटे ने लखीमपुर खीरी में अपने वाहन से किसानों को कुचल दिया लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने उनकी मौत पर शोक भी नहीं जताया।

यह अहसास होने के बाद कि किसान अपना प्रदर्शन खत्म नहीं करेंगे

संपादकीय में कहा गया है, ‘‘यह अहसास होने के बाद कि किसान अपना प्रदर्शन खत्म नहीं करेंगे और उत्तर प्रदेश तथा पंजाब में भाजपा की हार को भांपते हुए मोदी सरकार ने कानूनों को निरस्त करने का फैसला लिया। यह किसान एकता की जीत है।’’

‘महाभारत’ और ‘रामायण’ हमें सिखाती है कि आखिरकार अहंकार की पराजय होती है

महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ दल ने कहा कि ‘महाभारत’ और ‘रामायण’ हमें सिखाती है कि आखिरकार अहंकार की पराजय होती है लेकिन फर्जी हिंदुत्ववादी यह भूल गए हैं और उन्होंने सच तथा न्याय पर हमला कर दिया जैसे कि रावण ने किया था। उसने कहा कि कम से कम भविष्य में केंद्र को ऐसे कानून लाने से पहले अहंकार को परे रखना चाहिए और देश के कल्याण के लिए विपक्षी दलों को भरोसे में लेना चाहिए। उसने लोगों से अन्याय और निरंकुशता के खिलाफ एकजुट रहने का अनुरोध किया।

PM से बोलीं प्रियंका-आपकी नियत साफ है तो केंद्रीय गृह राज्य मंत्री के साथ मंच साझा मत करिए