BREAKING NEWS

केंद्र सरकार को कम से कम अब हमसे बात करनी चाहिए: शाहीन बाग प्रदर्शनकारी ◾केजरीवाल ने जल विभाग सत्येंन्द्र जैन को दिया, राय को मिला पर्यावरण विभाग ◾कश्मीर पर टिप्पणी करने वाली ब्रिटिश सांसद का भारत ने किया वीजा रद्द, दुबई लौटा दिया गया◾हर्षवर्धन ने वुहान से लाए गए भारतीयों से की मुलाकात, आईटीबीपी के शिविर से 200 लोगों को मिली छुट्टी ◾ जामिया प्रदर्शन: अदालत ने शरजील इमाम को एक दिन की पुलिस हिरासत में भेजा ◾दिल्ली सरकार होली के बाद अपना बजट पेश करेगी : सिसोदिया ◾झारखंड विकास मोर्चा का भाजपा में विलय मरांडी का पुनः गृह प्रवेश : अमित शाह ◾दोषियों के खिलाफ नए डेथ वारंट पर निर्भया की मां ने कहा - उम्मीद है आदेश का पालन होगा ◾TOP 20 NEWS 17 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾सीएए के खिलाफ विरोध प्रदर्शन राजनीतिक दुर्भावना से प्रेरित : रविशंकर प्रसाद ◾शाहीन बाग पर सुप्रीम कोर्ट ने कहा - प्रदर्शन करने का हक़ है पर दूसरों के लिए परेशानी पैदा करके नहीं ◾निर्भया मामले में कोर्ट ने जारी किया नया डेथ वारंट , 3 मार्च को दी जाएगी फांसी◾महिला सैन्य अधिकारियों पर कोर्ट का फैसला केंद्र सरकार को करारा जवाब : प्रियंका गांधी वाड्रा◾शाहीन बाग : प्रदर्शनकारियों से बात करने के लिए SC ने नियुक्त किए वार्ताकार◾सड़क पर उतरने वाले बयान पर कायम हैं सिंधिया, कही ये बात ◾गार्गी कॉलेज मामले में जांच की मांग वाली याचिका पर कोर्ट ने केन्द्र और CBI को जारी किया नोटिस◾SC ने दिल्ली HC के फैसले पर लगाई मोहर, सेना में महिला अधिकारियों को मिलेगा स्थाई कमीशन◾निर्भया मामले को लेकर आज कोर्ट में सुनवाई, जारी हो सकता है नया डेथ वारंट◾शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों को हटाने के लिए निर्देशों की मांग करने वाली याचिकाओं पर SC में सुनवाई आज ◾केजरीवाल की तारीफ पर आपस में भिड़े कांग्रेस नेता देवरा - माकन, अलका लांबा ने भी कस दिया तंज ◾

सिद्धरमैया ने गृह मंत्री अमित शाह से पूछा- बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों के लिए केंद्रीय धन पर्याप्त है या नहीं

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के कर्नाटक दौरे के बीच कांग्रेस नेता सिद्धरमैया ने शनिवार को उनसे जानना चाहा कि अपनी ‘विभाजनकारी राजनीति’ को लोगों के गले में उतारने से पहले यह आकलन करने के लिए बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में क्यों नहीं गए कि केंद्र द्वारा प्रदत्त धन पर्याप्त है या नहीं। 

विपक्ष के नेता ने ट्वीट कर मंगलुरु में पिछले महीने हुए सीएए विरोधी हिंसक प्रदर्शन के लिए पर्याप्त जांच की भी मांग की। इस प्रदर्शन के दौरान दो लोगों की मौत हो गयी थी। सिद्धरमैया ने ट्वीट किया, ‘‘ श्रीमान् अमित शाह अपनी विभाजनकारी राजनीति को लोगों के गले के नीचे उतारने में अपना समय लगाने से पहले आप प्रभावित क्षेत्रों में फिर क्यों नहीं गये और इसका आकलन क्यों नहीं किया कि केंद्रीय सरकारी धन पर्याप्त है या नहीं।’’ 

उन्होंने ट्विटर पर लिखा, ‘‘ श्री अमित शाह, बीएसवाई भाजपा ने बाढ़ से 35000 करोड़ रूपये का नुकसान होने का दावा किया था लेकिन आपकी सहायता केवल 1870 करोड़ रूपये की रही।’’ उन्होंने लिखा, ‘‘ आप बाकी राशि कब देने की योजना बना रहे हैं। सीएए, एनपीआर और एनआरसी के क्रियान्वयन के बाद क्या कोई धन बचेगा।’’ शाह सीएए पर भाजपा के राष्ट्रीय जनजागरण अभियान के तहत कर्नाटक आये हुए हैं।