BREAKING NEWS

कांग्रेस चाहे जिस प्रतिज्ञा का ढोंग करे, जनता उसे सत्ता से बाहर रखने का संकल्प ले चुकी है: BJP ◾चीन की आकांक्षाओं के कारण दक्षिण एशिया की स्थिरता पर ‘सर्वव्यापी खतरा’ :जनरल रावत◾हर दलित बच्चे को उत्तम शिक्षा मिलनी चाहिए, लेकिन 70 सालों में वह पूरा नहीं हुआ: CM केजरीवाल◾ पंजाब में कोई पोस्टिंग गिफ्ट और पैसे के बिना नहीं हुई: सिद्धू की पत्नी ने लगाया आरोप◾यूपी में दलितों के बाद सबसे अधिक नाइंसाफी मुसलमानों के साथ हुई, यादव और दलित से सबक लो: ओवैसी ◾आर्यन के लिए झलका दिग्विजय का दर्द, बोले- शाहरुख के बेटे हैं इसलिए प्रताड़ित किया जा रहा◾ आतंकवाद का खात्मा करने के लिए करें अंतिम वार, कश्मीरियों से बोले शाह- एक बार POK से कर लेना तुलना◾BJP का NCP पर निशाना, कहा- NCB अधिकारियों को कार्रवाई करनी चाहिए ताकि मलिक को परिणाम का पता चले◾योगी ने सुलतानपुर में मेडिकल कॉलेज समेत 126 विकास परियोजनाओं का शिलान्यास और लोकार्पण किया◾सीएम अरविंद केजरीवाल जाएंगे अयोध्या, 26 अक्टूबर को करेंगे रामलला के दर्शन◾ हवाई सेवा शुरू करना दिखावटी कदम, कश्मीर की वास्तविक समस्या का समाधान नहीं : महबूबा◾बांग्लादेश की आर्थिक प्रगति और समृद्धि के लिए भारत हमेशा एक साझेदार के तौर पर प्रतिबद्ध रहेगा: हर्षवर्धन श्रृंगला ◾कानून मंत्री के सामने ही CJI एनवी रमन्ना ने अदालतों की जर्जर इमारतों पर खड़े किये सवाल ◾CJI एनवी रमन्ना ने किरण रिजिजू के सामने, कानून व्यवस्था को लेकर कही ये बात◾प्रियंका का वादा- अगर कांग्रेस सरकार बनी तो नौकरी और बिजली के साथ किसानों का पूरा कर्ज होगा माफ◾यूपी: अयोध्या कैंट के नाम से जाना जाएगा फैजाबाद रेलवे जंक्शन, CM योगी का फैसला◾ T20 World Cup: महा मुकाबले में पाक को चित करने के लिये तैयार हैं भारतीय खिलाडी◾कोविड टीकाकरण आंकड़ों पर लोगों को गुमराह कर रही है मोदी सरकार, देश को बताएं हकीकत : कांग्रेस◾बिहार: विपक्ष के बिखरने पर नीतीश को नहीं है कोई दिलचस्पी, बोले- वे जानें अपना जो करना है करें◾गृहमंत्री अमित शाह ने कश्मीर में टारगेट किलिंग रोकने के लिए सुरक्षा एजेंसियों के संग की हाईलेवल मीटिंग ◾

सोशल मीडिया पर लाइक्स के क्रेज ने बढ़ाई युवती की परेशानी, ट्रैफिक सिग्नल पर वीडियो बनाने पर दर्ज हुआ मामला

मध्यप्रदेश में इंदौर के एक व्यस्त चौराहे के ट्रैफिक सिग्नल पर एक युवती के नाचने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद पुलिस ने सार्वजनिक स्थान पर परेशानी उत्पन्न करने वाला काम करने के आरोप में उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है। राज्य के गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने युवती के इस कृत्य को गलत ठहराते हुए पुलिस अफसरों को उचित कानूनी कदम उठाने के निर्देश दिए थे।

विजय नगर पुलिस थाने के प्रभारी तहजीब काजी ने गुरुवार को बताया कि शहर के व्यस्त रसोमा चौराहे पर हाल में नाचते हुए वीडियो बनाने वाली श्रेया कालरा के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 290 (सार्वजनिक स्थान पर परेशानी उत्पन्न करने वाला काम करने) के तहत मामला दर्ज किया गया है। गौरतलब है कि इस कानूनी प्रावधान के तहत मुजरिम पर महज 200 रुपये तक के जुर्माने की सजा का प्रावधान है।

सोशल मीडिया पर वायरल हुआ यह संबंधित वीडियो 30 सेकंड का है। इसमें काला मास्क, टोपी और इसी रंग के कपड़े पहनी युवती रसोमा चौराहे के ट्रैफिक सिग्नल पर लाल बत्ती के समय जेबरा क्रॉसिंग पर खड़ी होकर अंग्रेजी गाने लेट मी बी योअर वुमन के एक हिस्से पर नाचती दिखाई दे रही है।

मामले के तूल पकड़ने के बाद कालरा ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर सफाई दी है। युवती ने कहा, रसोमा चौराहे पर नृत्य का वीडियो बनाने के पीछे मेरा मुख्य मकसद यातायात के इस नियम के बारे में जागरुकता फैलाना था कि लाल बत्ती के समय वाहन चालक ट्रैफिक सिग्नल पर नियत स्थान पर रुकें ताकि पैदल चल रहे लोग जेबरा क्रॉसिंग के जरिये आसानी से सड़क पार कर सकें। कालरा ने कहा, मेरे वीडियो पर मुझे कई सकारात्मक प्रतिक्रियाएं मिली हैं, तो कुछ लोग इसे गलत तरीके से भी पेश कर रहे हैं।

राज्य के गृह मंत्री मिश्रा ने बुधवार को ट्वीट किया था कि ट्रैफिक सिग्नल पर वीडियो बनाने के पीछे युवती का भाव भले ही कुछ भी रहा हो, लेकिन उसका तरीका गलत था और इस तरह के चलन को आगे बढ़ने से रोकने के लिए कानूनी कार्रवाई जरूरी है। सोशल मीडिया पर कई लोग यह भी कह रहे हैं कि ट्रैफिक सिग्नल पर नाचते हुए वीडियो बनाने के बाद इसे सोशल मीडिया पर डालकर युवती ने प्रचार पाने की कोशिश की है।

इस बीच, महिला कांग्रेस की प्रदेश इकाई की अध्यक्ष अर्चना जायसवाल ने इस वीडियो को लेकर युवती पर प्राथमिकी दर्ज किए जाने को प्रदेश सरकार का गलत कदम करार दिया है। उन्होंने कहा, युवती ने ट्रैफिक सिग्नल पर वीडियो बनाकर कोई संगीन अपराध नहीं किया। पुलिस को उसे हिदायत देकर छोड़ देना चाहिए था। जायसवाल ने यह आरोप भी लगाया कि राज्य में महिलाओं के खिलाफ संगीन अपराधों के कई मामलों के आरोपी पुलिस की पकड़ से दूर हैं।