देहरादून : उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन पर सियासत तेज हो गई है। इस पर कांग्रेस के राष्ट्रीय महसचिव हरीश रावत ने कहा कि आज यूपीए महसूस कर रहा है कि इन दोनों के गठबंधन में यूपी फुटबॉल बन गया है। हरीश रावत ने सपा-बसपा के इस गठबंधन पर कटाक्ष करते हुए कहा कि 2009 में भी कांग्रेस को कमतर आंका गया था, लेकिन जनता ने तीसरे विकल्प के रूप में कांग्रेस को 23 सीटें दी थी।

हरदा ने कहा कि इस बार भी कांग्रेस 25 से 30 सीटें उत्तर प्रदेश में अपने दम पर जीतेगी। हरीश रावत ने कहा कि बदलाव के इस दौर में जो अपनी ढपली अपना राग अलापे गा जनता उनको नकार देगी। रावत का इशारा सपा और बसपा के गठबंधन पर था, जहां इस गठबंधन ने यूपी को कांग्रेस में दो सीटें देकर एक तरह से कांग्रेस की भूमिका को न के बराबर आंका है।

रावत ने दोनों पार्टी अध्यक्षों को सलाह दी है कि उन्हें अपने इस फैसले पर विचार करना चाहिए। राहुल गांधी की बढ़ती लोकप्रियता को हरीश रावत ने कांग्रेस के लिए अच्छा समय बताया है। उन्होंने सपा-बसपा को चेताया है कि आजकल देश का राष्ट्रीय एजेंडा राहुल तय कर रहे हैं, चाहे वो बेरोजगारों की आवाज हो या फिर राफेल का मुद्दा।

सब राहुल गांधी ने राष्ट्रीय स्तर पर उठाया है। जिससे मोदी सरकार बैकफुट पर आ गई है। हालांकि हरीश रावत ने नरम रुख अपनाते हुए कहा कि वो पहले भी हमारे सहयोगी थे और आगे भी हम उनका सहयोग करेंगे, जहां तक सीटों की बात है तो हमें उम्मीद है कि चुनाव आते आते सपा-बसपा खुद इस पर विचार करेंगी।