BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा मामले पर सुनवाई कर रहे जस्टिस एस मुरलीधर का हुआ तबादला ◾दिल्ली हिंसा में मारे गए अंकित शर्मा के परिवार ने AAP पार्षद ताहिर हुसैन पर लगाए गंभीर आरोप◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾

आईडीबीआई बैंक को निजी बैंक घोषित करने के विरोध में हड़ताल

आईडीबीआई बैंक को ‘निजी बैंक’ की श्रेणी में डालने के विरोध में बैंक के अधिकारियों ने 30 मार्च को एक दिवसीय भूख हड़ताल पर जाने का फैसला किया है। अखिल भारतीय आईडीबीआई अधिकारी संगठन (एआईआईडीबीआईओए) के महासचिव विट्टल कोटेश्वर राव ने शनिवार को यहाँ बताया कि आजादी के बाद देश में यह पहला मौका जब किसी सरकारी बैंक को निजी बैंक घोषित किया गया है। इससे पहले निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया गया या निजी बैंकों को सरकारी बैंकों में समायोजित किया।

उन्होंने कहा कि निजी बैंकों का उद्देश्य आम नागरिकों की सेवा न होकर लाभ कमाना होता है। वे देश की अर्थव्यवस्था की रीढ़ कृषि पर ध्यान नहीं देते। उनका एक मात्र मकसद अपनी बैंलेंस शीट को मजबूत करना होता है, आम जनता की सेवा और सहूलियतों से उनका सरोकार नहीं होता। श्री राव ने कहा कि भारतीय जीवन बीमा निगम के आईडीबीआई बैंक के 51 प्रतिशत शेयर खरीद लेने के बाद 14 मार्च को रिजर्व बैंक ने एक विज्ञप्ति जारी कर आईडीबीआई बैंक को निजी बैंक घोषित कर दिया है जिसका वह पुरजोर विरोध करते हैं।

उन्होंने कहा कि आईडीबीबाई बैंक को निजी बैंक की श्रेणी में डाले जाने के परिप्रेक्ष्य में उनकी प्रमुख माँग है कि बैंक के सभी अधिकारियों के वेतन और सेवाओं की सुरक्षा के साथ उन्हें किसी भी राष्ट्रीयकृत बैंक में जाने का विकल्प दिया जाये।

एक ऐसे सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किये जायें जिसमें सभी अधिकारियों की वर्तमान सेवा शर्तों और कल्याणकारी उपायों को उनकी सेवानिवृत्ति तक जारी रखने के प्रावधान हो। संगठन ने अधिकारियों को मिलने वाली लीज रेंट के पुनरीक्षण की माँग के अलावा जोखिम में फँसी परिसंपत्ति की वसूली के लिए कड़ कदम उठाने के साथ-साथ कई और माँगें बैंक प्रबंधन के समक्ष रखी हैं। संगठन ने कहा है कि यदि उनकी माँगे नहीं मानी गयीं तो बैंक के अधिकारी अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।