BREAKING NEWS

निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾बुलेट ट्रेन परियोजना के लिये भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया के खिलाफ याचिकाओं पर न्यायालय करेगा सुनवाई ◾चुनाव में ‘कांग्रेस वाली दिल्ली’ के नारे के साथ प्रचार में उतरी कांग्रेस◾यूपी सीएम योगी ने हिमस्खलन में कुशीनगर के शहीद जवान की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया◾TOP 20 NEWS 17 January : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾निर्भया के गुनहगारों का नया डेथ वारंट जारी, 1 फरवरी को सुबह 6 बजे होगी फांसी◾दिल्ली चुनाव के लिए BJP ने जारी की 57 उम्मीदवारों की पहली सूची◾

इस शख्स के घर कभी घर में खाने के लिए नहीं होता था अनाज,आज IPS है बेटा

यदि जिंदगी में मुसीबतों का सामना करने की हिम्मत हो तो फिर कैसी भी परिस्थिति में सफलता हासिल की जा सकती है। आज हम आपको ऐसे शख्स की कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं जिसको सुनने के बाद आप भी हैरान रह जाएंगे। छत्तीसगढ़ के रायगढ़ स्थित तारापुर गांव में पले-बढ़े भोजराम पटेल की यह कहानी है। 

हम सभी के लिए वह प्ररेणा है उन युवाओंं  के लिए जो वक्त और परिस्थिति के आगे घुटने टेक देते हैं। भोजराम आज इस मुकाम पर पहुंच गए हैं कि वह एक आईपीएस अधिकारी हैं। जबकि उनकी जिंदगी में एक वक्त ऐसा भी था जब उनके घर में पेटभर किसी को दो टाइम का खाना तक नहीं नसीब हो पता था। 

मां खाने में जानबूझ कर डाल देती थी ज्यादा मिर्च

भोजराम की मां लीलावती पटेल पढ़ी-लिखी नहीं है। वहीं उनके पिता महेशराम पटेल ने प्राइमरी स्कूल तक ही पढ़ाई की है। जिंदगी जीने के लिए पुरखों से मिली महज दो बीघा जमीन की खेती ही एकमात्र साधन था। एक रिपोर्ट के अनुसार भोजराम का कहना है कि मैंने गरीबी के दंश को झेला है। एक दौर ऐसा था जब मां दाल या सब्जी में बहुत ज्यादा मिर्च डाल देती थी वो इसलिए क्योंकि घर में अनाज कम था। खाने में मिर्च ज्यादा होगी तो ज्यादा नहीं खाया जाएगा। 

स्कूल टीचर बनने के बाद की सिविल सर्विस की तैयारी

गांव के सरकारी स्कूल में पढ़े भोजराम ने अपने हालातों का बेहद डट के सामना किया है। अपनी पढ़ाई को ही सफलता की सीढ़ी बनाई। संविदा शिक्षक बने,लेकिन मंजिल अभी भी बहुत दूर थी। भोजराम दिन में बच्चोंं  को पढ़ाते थे जबकि खाली समय में वह खुद पढ़ते थे।

 आज के समय में भोजराम एक आईपीएस अफसर हैं। भले ही भोजराम आज एक अफसर बन गए हो लेकिन गांव के बच्चों के प्रति उनका प्रेम कम नहीं हुआ है। वह गांव के जिस सरकारी स्कूल में पढ़ाया करते थे,आज भी वह उसी स्कूल के बच्चों को पढऩे में उनकी सहायता करने से पीछे नहीं भागते हैं। फिलहाल भोजराम पटेल छत्तीसगढ़ के दुर्ग में बतौर सीएसपी तैनात हैं। 

भोजराम ने बताया कि मेरे माता-पिता ने मुझे पढ़ाई करने के लिए हमेशा प्रेरित करते थे। स्कूल के दिनों में  पढ़ाई के साथ-साथ मैं उनका खेतों में भी हाथ बंटाता था। वह अपने बिजी शेड्यूल से वक्त निकालकर स्कूल आते हैं और बच्चों को पढ़ाते हैं।