रांची : झारखंड में भीड़ की हिंसा के मामलों की निगरानी करने के लिए सभी चौबीस जिलों के पुलिस अधीक्षक (एसपी) को नोडल अधिकारी नियुक्त किया जाएगा। अपर पुलिस महानिदेशक (अभियान) आर.के.मलिक ने बताया कि इस आशय की अधिसूचना शीघ्र ही जारी कर  दी जाएगी। उन्होंने बताया कि भीड़ की हिंसा और पीट-पीटकर की जाने वाली हत्या के मामलों की निगरानी की जिम्मेवारी वरिष्ठ पुलिस अधिकारी, जो पुलिस अधीक्षक के रैंक से नीचे न हो को सौंपे जाने के उच्चतम न्यायालय के आदेश के आलोक में यह निर्णय लिया है।

ऐसे मामलों की निगरानी में पुलिस उपाधीक्षक एसपी को सहयोग करेंगे। श्री मलिक ने बताया कि नोडल अधिकारी महीने में एक बार ऐसे मामलों को लेकर बैठक करेंगे तथा सोशल मीडिया साइटों की निगरानी भी करेंगे। उन्होंने कहा कि नोडल अधिकारी इन मामलों के अलावा गौ तस्करी, बच्चा चोरी और जादू- टोना जैसे मामलों की निगरानी करने के साथ ही उसकी जांच भी करेंगे।  अपर पुलिस महानिदेशक ने बताया कि उच्चतम न्यायालय ने अपने आदेश में हाल में और बीते वर्षों में भीड़ के द्वारा पीट-पीटकर हत्या किये जाने के जहां भी मामले हुये हैं, वैसे संवेदनशील स्थानों को चिह्नित करने को भी कहा है। उन्होंने बताया कि प्रत्येक तीन महीने पर पुलिस महानिदेशक की अध्यक्षता में इन मामलों की समीक्षा बैठक की जाएगी।