BREAKING NEWS

WORLD CUP 2019, AUS VS BAN : ऑस्ट्रेलिया ने बंगलादेश को 48 रन से हराया, पॉइंट्स टेबल पर टॉप पर पहुंचे ◾अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर सुबह 4 बजे से शुरू हो जाएगी दिल्ली मेट्रो ◾लोकसभा में आज पेश होगा तीन तलाक पर रोक लगाने वाला विधेयक ◾PM पहुंचे रांची , प्रधानमंत्री मोदी आज 40 हजार लोगों के साथ करेंगे योग◾राहुल अध्यक्ष रहेंगे या नहीं, असमंजस बरकरार◾दाभोलकर हत्याकांड : अदालत ने पुणलेकर को 23 जून तक CBI हिरासत में भेजा◾आदिवासियों के कानून पर टिप्पणी मामले में राहुल का जवाब - भाषण के प्रवाह में बहकर दिया गया था बयान ◾TDP के सांसदों के BJP में शामिल होने पर नायडू ने कहा - पार्टी के लिए संकट नई बात नहीं ◾बंगाल कांग्रेस में खुलकर सामने आई कलह, कई नेताओं ने विरोध मार्च में नहीं लिया हिस्सा◾राज्यसभा में TDP टूटी, दो तिहाई सांसद BJP में शामिल◾सुनिश्चित करेंगे कि महाराष्ट्र का अगला मुख्यमंत्री हमारी पार्टी से हो : शिवसेना ◾हिमाचल प्रदेश : कुल्लू के बंजार में दर्दनाक बस हादसे में 20 की मौत, 35 घायल ◾राम मंदिर पर अध्यादेश लायी सरकार तो देंगे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती : बाबरी मस्जिद एक्शन कमेटी ◾Top 20 News - 20 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾सभी दल राज्यसभा की सुचारु कार्यवाही सुनिश्चित करें : वेंकैया नायडू ◾राज्यसभा में तेदेपा टूट की कगार पर, नया गुट बना कर चार सदस्य कर सकते हैं भाजपा का समर्थन ◾कांग्रेस नेतृत्व में बदलाव के सवाल पर बोलीं सोनिया गांधी- 'नो कमेंट'◾राहुल की नजर मोबाइल पर होने का आरोप लगाना भाजपा को शोभा नहीं देता : कांग्रेस ◾अगले कांग्रेस अध्यक्ष के सवाल पर बोले राहुल गांधी - मैं नहीं, पार्टी तय करेगी मेरा उत्तराधिकारी◾बाबुल सुप्रियो ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कहा- मोबाइल फोन पर मशगूल थे अभिभाषण में रुचि नहीं◾

अन्य राज्य

उच्चतम न्यायालय का कांडला बंदरगाह पर जमीन की लीज रद्द करने की मांग वाली याचिका सुनने इनकार

उच्चतम न्यायालय ने कांडला बंदरगाह पर एक निजी कंपनी को दी गयी 50 एकड़ जमीन की लीज को रद्द करने की मांग संबंधी एक अर्जी पर शुक्रवार को सुनवाई से इनकार कर दिया। अदालत ने याचिकाकर्ता एनजीओ को गुजरात उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाने को कहा।

शीर्ष अदालत ने सेंटर फॉर पब्लिक इंट्रेस्ट लिटिगेशन (सीपीआईएल) नामक एनजीओ की अपील खारिज कर दी। याचिकाकर्ता ने दिल्ली उच्च न्यायालय के आदेश को चुनौती दी थी। दिल्ली उच्च न्यायालय ने पिछले साल एक अक्टूबर को कहा था कि यह जनहित याचिका क्षेत्राधिकार के बाहर होने के कारण विचारयोग्य नहीं है।

प्रधान न्यायाधीश न्यायमूर्ति रंजन गोगोई और न्यायमूर्ति एस के कौल की पीठ ने कहा कि वह उच्च न्यायालय के आदेश में हस्तक्षेप के पक्ष में नही है, क्योंकि उसके विचार में याचिकाकर्ता को उपयुक्त क्षेत्राधिकार यानी गुजरात उच्च न्यायालय में जाने और वहां इस विषय को उठाने के लिए कहे जाने में कोई पूर्वाग्रह नजर नहीं है । ऐसे में याचिकाकर्ता की विशेष अनुमति याचिका रद्द की जाती है।

CBI के पूर्व निदेशक आलोक वर्मा का सेवा से इस्तीफा, कहा – यह ‘सामूहिक आत्ममंथन’ का क्षण

शीर्ष अदालत ने एनजीओ के वकील प्रशांत भूषण की यह दलील खारिज कर दी कि दिल्ली उच्च न्यायालय ने क्षेत्रीय अधिकार के आधार पर गलत तरीके से याचिका खारिज कर दी।

इस पर पीठ ने कहा, ‘‘कैसे रिट याचिका दिल्ली उच्च न्यायालय में विचार किये जाने लायक है। बस इसलिए कि केंद्र सरकार दिल्ली में बैठती है, आप दिल्ली में जनहित याचिका नहीं दायर कर सकते। गुजरात उच्च न्यायालय जाइए।’’

एनजीओ ने आरोप लगाया था कि कांडला बंदरगाह न्यास (केपीटी), जो अब दीनदयाल बंदरगाह न्यास के नाम से जाना जाता है, ने उस स्थल पर फ्रेंड्स साल्ट वर्क्स एंड एलाइड इंडस्ट्रीज (एफएसडब्ल्यूएआई) कंपनी द्वारा विकसित ढांचों का अधिक दाम लगाया ताकि केवल इसी कंपनी को ठेका मिले। अतीत में केपीटी ने यह जमीन लीज पर दी थी।

एनजीओ ने दावा किया कि यदि एफएसडब्ल्यूएआई निविदा में सफल रही तो उसे 207 करोड़ रुपये का भुगतान नहीं करना होगा जबकि पिछले लीज समझौते के तहत केपीटी पर कंपनी की परिसंपत्तियों के वास्ते मुआवजे के लिए कोई अनुबंध संबंधी बाध्यता नहीं है।