BREAKING NEWS

PM मोदी ने की आयुष्मान भारत-डिजिटल मिशन की शुरुआत, कहा- गरीबों की दिक्कतें होंगी दूर◾नरेंद्र गिरि मौत केस को लेकर एक्शन में CBI, बाघंबरी मठ में सुसाइड सीन को किया रिक्रिएट◾भारत बंद के बीच मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने की केंद्र से मांग- कृषि कानून करें निरस्त ◾ममता ने BJP को बताया नाचने वाले ड्रैगन की जुमला पार्टी, शुभेंदु अधिकारी ने किया तीखा पलटवार ◾भारत बंद : दिल्ली-गुरुग्राम बॉर्डर पर लगा भारी ट्रैफिक जाम, गाड़ियों की लंबी कतारों से DND का भी बुरा हाल◾'भारत बंद' को मिला विपक्ष का समर्थन, कहा- काले कानून वापस लें केंद्र, किसानों का अहिंसक सत्याग्रह है अखंड ◾Coronavirus : देश में पिछले 24 घंटे में संक्रमण के 26 हजार से अधिक मामले आये सामने ◾World Corona : दुनियाभर में संक्रमितों का आंकड़ा 23.18 करोड़ के करीब, 47.4 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾किसानों के भारत बंद के मद्देनजर दिल्ली में मेट्रो स्टेशनों पर सुरक्षा बढ़ी,पुलिस अलर्ट पर ◾भारत बंद : कृषि कानूनों के खिलाफ गाजीपुर बॉर्डर समेत दिल्ली-अमृतसर नेशनल हाइवे को किसानों ने किया जाम◾दस साल तक प्रदर्शन के लिए तैयार हैं, लेकिन कृषि कानूनों को लागू नहीं होने देंगे : राकेश टिकैत◾संयुक्त किसान मोर्चा की सोमवार को भारत बंद के दौरान शांति की अपील, कई राजनीतिक दलों ने दिया समर्थन◾दिग्विजय सिंह ने RSS संचालित सरस्वती शिशु मंदिर के खिलाफ दिया विवादित बयान◾PM मोदी ने नए संसद भवन के निर्माण स्थल का किया दौरा ◾RCB vs MI : पटेल की हैट्रिक और मैक्सवेल के शानदार प्रदर्शन से आरसीबी ने मुंबई इंडियंस को 54 से हराया◾अर्थव्यवस्था की जरूरतों को पूरा करने के लिए भारत को ‘एसबीआई जैसे’ 4-5 बैंकों की जरूरत : सीतारमण◾आरएसएस से जुड़ी साप्ताहिक पत्रिका 'पांचजन्य' ने अमेजन को 'ईस्ट इंडिया कंपनी 2.0' बताया◾‘भारत बंद’ से पहले दिल्ली के सीमावर्ती इलाकों में पुलिस ने गश्त बढ़ायी, अतिरिक्त कर्मियों की तैनाती की◾गन्ना खरीद मूल्य 350 रुपये किए जाने पर प्रियंका का CM योगी पर तंज, कहा- किसानों के साथ किया धोखा◾पारंपरिक पोशाक पहनने वालों को प्रवेश नहीं देने वाले रेस्तरां के खिलाफ हो कार्रवाई : कांग्रेस◾

पुडुचेरी में कैबिनेट विस्तार को लेकर सस्पेंस बरकरार, CM रंगास्वामी के शपथ लेने के 1 महीने के बाद भी गतिरोध जारी

पुडुचेरी में कैबिनेट विस्तार को लेकर लम्बे समय से अनिश्चितता बनी हुई है।  गतिरोध की शुरुआत भाजपा द्वारा एक उपमुख्यमंत्री पद और तीन मंत्री पद की मांग के कारण हुआ था। एआईएनआरसी प्रमुख एन. रंगासामी के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार में मंत्रियों के लिए बीजेपी ने दो नामों की सूची सौंपी है। भाजपा नेता इमबलम आर. सेल्वम पहले ही पुडुचेरी सदन के अध्यक्ष बन चुके हैं और पार्टी के नेताओं ने कहा कि गतिरोध जल्द ही समाप्त हो जाएगा।

वहीं अब 2 मंत्रियों और अध्यक्ष पद तय हो गया है। एआईएनआरसी में मुख्यमंत्री और डिप्टी स्पीकर के पद के अलावा तीन मंत्री होंगे। सूत्रों ने बताया कि बहस के बाद भाजपा ने जे. सर्वना साई कुमार और ए. नमस्शिवयम के नामों को अपने उम्मीदवारों के रूप में अंतिम रूप दिया, जिससे जॉन कुमार के खेमे से बड़ी अशांति पैदा हो गई ती। उनके समर्थकों ने पुडुचेरी में एक दिन पहले भाजपा कार्यालय की घेराबंदी की थी।

कुमार दिल्ली में अपने बेटे और विधायक रिचर्ड जॉनकुमार के साथ मंत्री पद के लिए केंद्रीय नेतृत्व के साथ बातचीत कर रहे हैं। हालांकि, यह तय है कि पार्टी बारी-बारी से विधायकों को मंत्री पद देगी, और ऐसा लगता है कि जॉन कुमार को शांत कर दिया गया है। 2 मई को चुनाव परिणाम के बाद, एआईएनआरसी को 10 विधायक मिले, जबकि भाजपा 6 सीटें मिली थी। रंगासामी की राय थी कि भाजपा को कैबिनेट में आनुपातिक प्रतिनिधित्व मिलेगा।

एन रंगासामी के 7 मई को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 44 दिन बाद भी कैबिनेट गतिरोध जारी रहा। इस बीच रंगासामी को कोविड होने के बाद चेन्नई के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया और भाजपा ने पुडुचेरी विधानसभा के लिए तीन व्यक्तियों को विधायक के रूप में नामित किया और छह में से तीन निर्दलीय से समर्थन प्राप्त किया, जिससे भाजपा की संख्या 12 हो गई।

पता चला है कि रंगासामी पुडुचेरी के प्रभारी राष्ट्रीय नेता राजीव चंद्रशेखर सहित भाजपा नेताओं के कॉलों में शामिल नहीं हुए। मुख्यमंत्री ने भाजपा नेताओं की कॉल से खुद को यह कहते हुए दरकिनार कर लिया कि वह अस्पताल में भर्ती थे और बोलने की स्थिति में नहीं थे। हालांकि, सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि यह उनका विरोध था कि भाजपा ने उनसे परामर्श किए बिना तीन नेताओं को एकतरफा विधायक नामित किया।

इसके बावजूद केंद्रीय गृह मंत्री, अमित शाह के पहुंचने के बाद, रंगासामी राजीव चंद्रशेखर से मिलने के लिए तैयार हो गए और भाजपा के दो नेताओं के नामों को कैबिनेट बर्थ के लिए अंतिम रूप दिया गया। बीजेपी ने कैबिनेट बर्थ के लिए नामों को अंतिम रूप देने के बाद, रंगासामी को वरिष्ठ नेताओं के. लक्ष्मीनारायणन, सी. जयकुमार, पी. राजावेलु और कराईकल प्रतिनिधियों, पीटीएम थिरुमुरुगन और चंद्रप्रियंका से अपनी ही पार्टी के भीतर से चुनौती का सामना करना पड़ा। 

उम्मीदवारों को संतुष्ट करने के लिए एआईएनआरसी के पास तीन मंत्री पद और एक डिप्टी स्पीकर पद है और रंगासामी कराईकल के साथ-साथ अनुसूचित जाति के प्रतिनिधित्व को प्रतिनिधित्व देने के विचार पर विचार कर रहे हैं। यह भी पता चला है कि मुख्यमंत्री जल्द ही अपने उम्मीदवारों की सूची को अंतिम रूप देंगे और इसे इस सप्ताह के अंत तक पुडुचेरी के उपराज्यपाल, तमिलसाई सुंदरराजन को सौंप देंगे, जब वह तीन मंत्री उम्मीदवारों के साथ-साथ डिप्टी स्पीकर पद पर फैसला करेंगे।

सबसे ज्यादा बच्चों माता-पिता को मिलेगा 1 लाख रुपये का इनाम, मिजोरम के वाले मंत्री का बयान