BREAKING NEWS

हरियाणा के पूर्व CM ओपी चौटाला भ्रष्टाचार के मामले में हुए दोषी करार, इस दिन होगा सजा का ऐलान ◾ श्रीलंका सरकार ने देश में आपातकाल हटाने का किया ऐलान, लेकिन प्रशासन के खिलाफ लोगो में अब भी गुस्सा◾राउत ने किया राहुल की ‘केरोसिन’ वाली टिप्पणी का समर्थन, बोले-हमने भी अलग शब्दों में यही बात कही ◾ भारत में ओमिक्रॉन के सब वैरिएंट BA.4 का दूसरा मामला दर्ज ,तमिलनाडु में पाया गया◾ फव्वारा 2700 साल पुराना है....,ज्ञानवापी मस्जिद में शिवलिंग के दावे पर फिर भड़के ओवैसी◾'जब बड़ा पेड़ गिरता है, तो धरती हिलती है...', राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर अधीर रंजन का ट्वीट ◾ सिख दंगों में देश ने देखी है कांग्रेस की नफरत की राजनीति...,राहुल के बयान पर BJP का पलटवार◾ज्ञानवापी विवाद : मौलाना तौकीर रजा का आह्वान, हर जिले में 2 लाख मुसलमान दें गिरफ्तारी ◾ज्ञानवापी शिवलिंग विवाद : DU प्रोफेसर की गिरफ्तारी को लेकर छात्रों का हंगामा◾NSE Co-Location Case : मुंबई-दिल्ली समेत 10 ठिकानों पर CBI का एक्शन◾नफरत की राजनीति कर रही है BJP, राहुल गांधी के बयान को AAP का समर्थन◾नवनीत राणा को BMC का नोटिस, 7 दिन में जवाब नहीं दिया तो होगी कार्रवाई◾शर्मनाक! JNU कैंपस में MCA की छात्रा से रेप, आरोपी छात्र गिरफ्तार◾उत्तराखंड : सड़क धंसने से यमुनोत्री हाईवे बंद, फंसे 3 हजार यात्री, सख्त हुए पंजीकरण के नियम ◾MP : मुस्लिम समझकर बुजुर्ग की पीट-पीटकर हत्या, Video जारी कर जीतू पटवारी ने गृहमंत्री से पूछा सवाल◾India Covid Update : पिछले 24 घंटे में आए 2,323 नए केस, 25 मरीजों की हुई मौत ◾रूस ने मारियुपोल पर पूरी तरह से कब्जे का किया दावा, मलबे के ढेर में तब्दील हो चुका है पूरा शहर ◾यूरोप में Monkeypox का कहर, जानें क्या है ये बला, और कैसे फैलता है संक्रमण◾कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने BJP पर जमकर बोला हमला, कहा-भारत में आज अच्छे हालात नहीं◾दिल्ली पुलिस ने DU प्रोफेसर रतन लाल को किया गिरफ्तार, शिवलिंग पर की थी आपत्तिजनक टिप्पणी ◾

तमिल ईश्वर की भाषा है, केवल संस्कृत ही भगवान की बोली नहीं: मद्रास हाईकोर्ट

दक्षिण भारत स्थित तमिलनाडु में तमिल भाषा को काफी महत्व दिया जाता है। ऐसे में तमिल को ‘ईश्वर की भाषा’ बताते हुए मद्रास उच्च न्यायालय ने कहा है कि देश भर में मंदिरों में अभिषेक अज़वार और नयनमार जैसे संतों द्वारा रचित तमिल भजनों, अरुणगिरिनाथर की रचनाओं के माध्यम से किया जाना चाहिए।
न्यायमूर्ति एन किरूबाकरण और न्यायमूर्ति बी पुगालेंधी की पीठ ने हाल के एक आदेश में कहा कि हमारे देश में ‘‘यह विश्वास कराया गया कि केवल संस्कृति ही ईश्वर की भाषा है।’’ पीठ ने कहा कि विभिन्न देशों और धर्मों में भिन्न मान्यताएं हैं और पूजा के स्थान भी संस्कृति और धर्म के अनुसार बदलते हैं।

उसने कहा, ‘‘ईश्वर से जुड़े कार्यों के लिए उन स्थानों पर स्थानीय भाषा का उपयोग किया जाता है। लेकिन हमारे देश में यह मान्यता बनाई गई कि केवल संस्कृत ही ईश्वर की भाषा है और कोई अन्य भाषा इसके समकक्ष नहीं है। संस्कृति प्राचीन भाषा है जिसमें अनेक प्राचीन साहित्य की रचना की गई है, इस बात में कोई संदेह नहीं है। लेकिन मान्यता कुछ इस प्रकार से बनाई गई कि ईश्वर अपने अनुयायियों की प्रार्थना केवल तभी सुनेंगे जब वे संस्कृत के वेदों का पाठ करेंगे।’’

राजस्थान विधानसभा में बोले आजाद- सत्तापक्ष और विपक्ष के बीच कामकाजी रिश्ते को बताया महत्वपूर्ण

अदालत उस याचिका पर सुनवाई कर रही थी जिसमें राज्य के करूर जिले में एक मंदिर में तिरुमुराईकल, तमिल सैवा मंतरम और संत अमरावती अतरांगरई करूरर के पाठ के साथ अभिषेक करने का निर्देश सरकारी अधिकारियों को देने की मांग की गई है। न्यायाधीशों ने कहा कि लोगों द्वारा बोली जाने वाली हर भाषा ईश्वर की भाषा है।